S M L

आयकर विभाग के सामने पेश होने से क्यों घबरा रही हैं मीसा?

मीसा के वकील ने बताया है कि वो सुरक्षा कारणों से आयकर विभाग के सामने पेश नहीं हो रही हैं

Ravishankar Singh Ravishankar Singh Updated On: Jun 12, 2017 08:56 PM IST

0
आयकर विभाग के सामने पेश होने से क्यों घबरा रही हैं मीसा?

ऐसा लग रहा है कि लालू प्रसाद यादव की बेटी मीसा भारती को भी अब आयकर विभाग का डर सताने लगा है? आयकर विभाग के समन के बावजूद मीसा भारती दूसरी बार आयकर विभाग के सामने पेश नहीं हुई हैं.

मीसा भारती के वकील ने बताया है कि वो सुरक्षा कारणों की वजह से आयकर विभाग के सामने पेश नहीं हो रही हैं. लेकिन सभी के मन में इसे लेकर सवाल तो होगा ही कि बिहार की सत्ताधारी पार्टी और बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव की बेटी को आखिर किस तरह की सुरक्षा की दरकार है? इसको लेकर आरजेडी के तरफ से कोई भी खुलकर नहीं बोल रहा है.

सुशील कुमार मोदी ने लगाए थे आरोप

sushil yogi-lalu yadav

बीजेपी नेता सुशील कुमार मोदी ने पिछले दिनों लालू प्रसाद यादव और उनके परिवार के सदस्यों पर बेनामी संपत्ति अर्जित करने का आरोप लगाया था. सुशील मोदी ने आरोप लगाया था कि लालू प्रसाद यादव ने अपने बेटे-बेटियों के नाम पर दिल्ली-एनसीआर में मुखौटा कंपनी बना कर करोड़ों की जमीन कौड़ियों के भाव में खरीदी.

आयकर विभाग के रडार पर आने के बाद लालू प्रसाद यादव के 22 ठिकानों पर 16 मई को छापा पड़ा था. आयकर विभाग की इस छापेमारी में आरजेडी अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव और बेटे-बेटियों के नाम बेनामी संपत्ति की बात सामने आई थी. लालू प्रसाद के दोनों बेटे इस समय बिहार में मंत्री हैं. जबकि, बेटी मीसा भारती राज्यसभा सांसद हैं.

आयकर विभाग के सूत्र के अनुसार तेजप्रताप यादव, तेजस्वी यादव के साथ बड़ी बेटी मीसा भारती और उनके पति शैलेश के द्वारा कथित एक हजार करोड़ रुपए की जमीन की सौदेबाजी की बात सामने आई है.

बिजवासन में जिस फार्म हाउस की खरीददारी की गई थी वह फार्म हाउस मीसा भारती के नाम है. मीसा पर आरोप है कि लगभग 100 करोड़ की संपत्ति को एक करोड़ 41 लाख में खरीदा. इसमें चार्टर्ड अकाउंटेंट राजेश अग्रवाल ने मीसा भारती को मदद की.

मीसा भारती के पति को भी जारी किया गया समन

file image

आयकर विभाग ने मीसा भारती के पति को भी समन जारी किया था. इससे पहले भी मीसा भारती आयकर विभाग के सामने पेश नहीं हुई थी. जिसके बाद से आयकर विभाग ने मीसा भारती पर 10 हजार रुपए का जुर्माना लगाया था और दोबारा से समन जारी कर पेश होने का आदेश दिया था.

मीसा भारती ने जिस कंपनी के मार्फत संपत्ति खरीदी थी, उस कंपनी के चार्टर्ड अकाउंटेंट राजेश अग्रवाल को प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने गिरफ्तार कर लिया था. राजेश अग्रवाल पर आरोप है कि मीसा को धन मुहैया कराने के लिए उसने मीसा की कंपनी मिशेल पैकर्स एंड प्रिंटर्स का नाजायज तरीके से एंट्री दिलाई. ईडी को राजेश अग्रवाल से पूछताछ में कुछ अहम सुराग हाथ लगे हैं. राजेश से मिले सुराग के बाद से ही मीसा भारती और उनके पति शैलेश को आयकर विभाग ने समन जारी किया.

आयकर विभाग ने देश में बेनामी संपत्ति अर्जित करने वाले लोगों के खिलाफ मुहिम चला रखी है. लालू प्रसाद यादव की संपत्ति मामले में दिल्ली, गुड़गांव सहित 22 ठिकानों पर आयकर विभाग के छापे को भी इसी से जोड़ कर देखा जा रहा है.

पिछले कुछ दिनों से यह मामला मीडिया में सुर्खियां बटोर रहा है. आयकर विभाग के सूत्रों के मुताबिक इस मामले में लगभग एक हजार करोड़ रुपए की बेनामी लैंड डील का मामला सामने आ रहा है. जिसको लेकर आयकर विभाग जल्द ही बड़ा खुलासा कर सकता है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi