S M L

यूपी में ‘योगी राज’ के 100 दिन: सीएम योगी के दावे में कितना दम है?

अपनी सरकार की तारीफ करने वाले योगी कई मुद्दों पर चुप्पी साध गए

Amitesh Amitesh | Published On: Jun 27, 2017 02:11 PM IST | Updated On: Jun 27, 2017 02:13 PM IST

0
यूपी में ‘योगी राज’ के 100 दिन: सीएम योगी के दावे में कितना दम है?

अपनी सरकार के सौ दिन पूरा होने के मौके पर यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सरकार की उपलब्धियां गिनाई. भ्रष्टाचार मुक्त शासन का दावा करने वाले योगी ने परिवारवाद से भी प्रदेश की मुक्ति को लेकर अपनी सरकार की प्रतिबद्धता को भी दोहराया.

क्या हैं योगी के दावे?

योगी ने अपनी सरकार की वाहवाही करने के साथ ही ये भी साफ किया कि पिछली सरकारों की तुलना में इस बार सरकार ने बेहतर काम किया है. खासतौर से कानून-व्यवस्था से लेकर महिला सुरक्षा को लेकर उनकी तरफ से अपनी पीठ थपथपाई गई.

लोगों के जीवन स्तर में सुधार को लेकर योगी आदित्यनाथ ने दावा किया कि उनकी सरकार के कार्यकाल में बिजली को लेकर लोगों को परेशानी कम हुई है. बकौल योगी अब शहरों में 24 घंटे और गांवों में 48 घंटे के भीतर ट्रांसफॉर्मर बदला जा सकता है. जबकि बीपीएल परिवारों को अब मुफ्त बिजली कनेक्शन दिया जा रहा है.

मुख्यमंत्री आदित्यनाथ की तरफ से इस बात के बड़े-बड़े दावे किए जा रहे थे कि यूपी की सड़कों को 15 जून तक गड्ढा मुक्त बना दिया जाएगा. अपनी सरकार के 100 दिन के पूरे होने के मौके पर उनका दावा था कि यूपी की सड़कें काफी हद तक गड्ढा मुक्त भी हो गई हैं.

योगी ने सबका साथ सबका विकास का मूल मंत्र बताते हुए इस पर आगे बढ़ने की अपनी बात फिर से दोहराई है. महिला सुरक्षा को लेकर योगी बड़े-बड़े दावे कर रहे हैं. खासतौर से एंटी रोमियो स्क्वायड को योगी महिला सुरक्षा की दिशा में बड़ा कदम बता रहे हैं.

इन मुद्दों पर क्यों चुप हैं योगी?

YogiAdityanath.

लेकिन, अपनी सरकार की तारीफ करने वाले योगी कई मुद्दों पर चुप्पी साध गए. योगी आदित्यनाथ के सौ दिन के इस छोटे से कार्यकाल में ही सहारनपुर से लेकर ग्रेटर नोएडा तक या फिर दूसरे इलाकों में हुई हिंसा को लेकर कुछ भी नहीं बोले.

खासतौर से सहारनपुर की घटना ने पूरे यूपी और यूपी सरकार को झकझोर कर  रख दिया था. दलित बनाम ठाकुर की लड़ाई ने इस पूरे इलाके को कई दिनों तक हिंसाग्रस्त बना दिया था जिसकी चपेट में आने से दोनों तरफ के लोगों की जानें भी गई थी.

तनाव के चलते इलाके में कर्फ्यू भी लगा दिया गया था. काफी मशक्कत के बाद हालात पर काबू पाया जा सका. लेकिन, इस घटना ने योगी सरकार के पहले सौ दिन के कार्यकाल के ऊपर प्रश्नचिह्न खड़ा कर दिया था. इस घटना को सौ दिन की योगी सरकार के कार्यकाल के  उपर एक बड़े धब्बे के तौर पर देखा जा रहा है लेकिन, सबका साथ सबका विकास की बात करने वाले मुख्यमंत्री योगी इस घटना पर मौन रहे.

महिला सुरक्षा की दावा करने वाले योगी आदित्यनाथ के लिए अभी भी यूपी के भीतर होने वाली घटनाएं चिंता बढ़ाने वाली हैं. दिल्ली से सटे ग्रेटर नोएडा में अभी हाल ही में एक महिला के साथ हुई गैंगरेप की घटना ने यूपी की कानून व्यवस्था के दावे पर सवाल उठा दिए हैं.

बीजेपी ने पिछले चुनाव में कानून-व्यवस्था के मुद्दे को ही जोर-शोर से उठाकर यूपी की सत्ता पर काबिज होने की कोशिश की थी. लेकिन, योगी राज में पहले सौ दिन की बात करें तो अपराध पर पूरी तरह से लगाम लगाने के लिए बहुत कुछ किया जाना बाकी है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi