S M L

वाराणसी में अर्थी पर नामांकन करने पहुंचा 'मुर्दा'

कागजों में मृत घोषित संतोष मूरत सिंह ने वाराणसी के शिवपुर विधानसभा सीट से बुधवार को नामांकन किया

FP Staff Updated On: Feb 18, 2017 04:25 PM IST

0
वाराणसी में अर्थी पर नामांकन करने पहुंचा 'मुर्दा'

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनावों में नामांकन के दौरान अजब-गजब कारनामें देखने को मिल रहे है. जहां एक ओर गोरखपुर में अर्थी बाबा चुनावी मैदान में हैं, वहीं अब वाराणसी में एक 'मुर्दे' ने भी ताल ठोकी है.

दरअसल कागजों में मृत घोषित संतोष मूरत सिंह ने वाराणसी के शिवपुर विधानसभा सीट से बुधवार को नामांकन किया. संतोष विकास या किसी दूसरे मुद्दे के लिए चुनाव नहीं लड़ रहे बल्कि वे खुद को जिंदा साबित करने के लिए चुनावी मैदान में हैं.

संतोष जब अपने गले में ‘जिंदा हूं मैं’ की तख्ती लटकाए नामांकन करने पहुंचे तो अधिकारी समेत वहां मौजूद सभी लोग चौंक गए. संतोष का कहना है कि वे जिंदा हैं, यह साबित कर सकें इसलिए चुनाव लड़ने जा रहे हैं.

संतोष अपने जिंदा होने की लडाई पिछले नौ साल से लड़ रहे हैं लेकिन सरकारी दस्तावेजों में मृत घोषित ये युवक अभी तक जिंदा नहीं हो पाया है.

चौबेपुर के छितौनी गांव निवासी संतोष बताते हैं कि माता-पिता की बचपन में ही मृत्यु हो जाने के बाद वे मुंबई चले गए. इस बीच उनकी गांव में 22 बीघे जमीन पर बुरी नियत रखने वाले पड़ोसियों ने सरकारी बाबुओं से मिलकर कर उन्हें मृत घोषित करा दिया और उनकी जमीन हड़प ली.

संतोष ने बताया कि उसके अपनों ने ही मुंबई बम ब्लास्ट में उसे मरा हुआ दिखाकर तेरहवीं भी कर दी और उसके जमीन पर कब्जा कर लिया. इतना ही नहीं विरोधियों ने उसका मृत्यु प्रमाण पत्र भी बनवा लिया.

संतोष इससे पहले भी चुनाव में नामांकन कर चुके हैं लेकिन उनका नामांकन रद्द हो गया था. लेकिन एक बार फिर संतोष वाराणसी के शिवपुर से नामांकन किया है. अगर नामांकन वैध साबित हुआ तो इनके जिंदा होने का प्रमाण शासन को देना पड़ेगा.

साभार: न्यूज़18 हिंदी 

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi