S M L

बिहार में गठबंधन टूटना तय, नीतीश कुमार को बस सही वक्त का इंतजार है

महागठबंधन में चल रही अनबन के बीच अब ऐसा लग रहा है कि नीतीश कुमार को बड़ा फैसला ले सकते हैं

Amitesh Amitesh | Published On: Jul 11, 2017 07:21 PM IST | Updated On: Jul 11, 2017 07:38 PM IST

0
बिहार में गठबंधन टूटना तय, नीतीश कुमार को बस सही वक्त का इंतजार है

जेडीयू अध्यक्ष और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने पटना में अपने आवास पर हुई पार्टी विधायकों की बैठक में साफ कर दिया कि डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव पर लगे भ्रष्टाचार के आरोपों पर वो चुप नहीं बैठने वाले. नीतीश ने पार्टी नेताओं के साथ बैठक में साफ-साफ शब्दों में कहा कि जेडीयू नेताओं पर आरोप लगने के बाद हमने कारवाई की थी.

बैठक बाद बाहर निकलकर मीडिया से मुखातिब जेडीयू प्रवक्ता नीरज कुमार ने तल्ख लहजे में अपनी बात रख दी. इशारा साफ था लालू यादव के छोटे बेटे और नीतीश सरकार में डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव को इस्तीफा देना ही होगा.

नीरज कुमार ने कहा कि जेडीयू की कथनी और करनी में कभी अंतर नहीं होता. पार्टी के सिद्धांत के मुताबिक, भ्रष्टाचार और अपराध पर हम समझौता नहीं कर सकते. हम गठबंधन धर्म का पालन करना भी जानते हैं. लेकिन, जनमानस की अपेक्षा है कि जिनपर भ्रष्टाचार के आरोप लगे हैं वो जनता की अदालत में तथ्यों का विवरण पेश करें.

जेडीयू ने साफ कर दिया कि हर हाल में डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव को भ्रष्टाचार के मामलों में मीडिया के सामने और सार्वजनिक तौर पर सफाई देनी ही होगी. मतलब अब आना-कानी नहीं चलने वाली.

lalu nitish

भ्रष्टाचार के आरोपों को अबतक बीजेपी की साजिश बताने वाले लालू की बयानबाजी भर से बात बनती नहीं दिख रही है. जब से सीबीआई ने भ्रष्टाचार के मामले में लालू-राबड़ी के साथ-साथ तेजस्वी के खिलाफ केस दर्ज किया है तभी से ही नीतीश कुमार के उपर कारवाई करने को लेकर दबाव है.

लेकिन, लालू यादव का पूरा कुनबा और पूरी पार्टी भ्रष्टाचार पर सफाई देने के बजाए मोदी-अमित शाह के उपर हमलावर दिख रहे हैं. लेकिन, अब बात बनती नहीं दिख रही है. इधर-उधर की बातें नीतीश को नागवार गुजर रही हैं. अबतक चुप्पी साधे हुए नीतीश ने अपनी पार्टी नेताओं के सामने जब चुप्पी तोड़ी तो उसका संदेश लालू और तेजस्वी के लिए था.

जेडीयू नेता और मंत्री रमई राम ने तो एक कदम आगे बढ़ते हुए यहां तक कह दिया कि चार दिन बाद पार्टी बड़ा फैसला करेगी.

नीतीश कुमार की तरफ से अब अपना रुख साफ कर दिया गया है. अब उन्होंने गेंद आरजेडी के पाले में डाल दी है. अब फैसला आरजेडी को ही करना है.

लेकिन, नीतीश के तल्ख तेवर के बावजूद आरजेडी भी इस वक्त पलटवार के मूड में है. आरजेडी ने पहले ही तेजस्वी के इस्तीफे की किसी भी संभावना से इनकार कर दिया था. आरजेडी के बिहार अध्यक्ष रामचंद्र पूर्वे ने एक बार फिर इस बात को दोहराया और साफ कर दिया कि तेजस्वी का इस्तीफा नहीं होगा.

जेडीयू तेजस्वी से  सामने आकर सफाई मांग रही है, लेकिन, आरजेडी तेजस्वी के काम की सराहना में लग गई है. रामचंद्र पूर्वे की तरफ से बतौर डिप्टी सीएम तेजस्वी के काम की सराहना की गई है.

तलवारें दोनों की तरफ से खिंच गई हैं. कोई भी पक्ष अपने कदम पीछे खींचने को तैयार नहीं है. ऐसी सूरत में अब किसी भी तरह के सुलह की संभावना भी क्षीण होती जा रही है. तेजस्वी के खिलाफ सीबीआई की कारवाई लालू-नीतीश का साथ छूटने की वजह हो सकती है. हालात कुछ इसी तरह बन रहे हैं. अब तो महज सही वक्त का इंतजार हो रहा है.

 

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi