S M L

संघ पर सोनिया गांधी का निशाना, 'इन लोगों का आजादी में कोई योगदान नहीं'

सोनिया गांधी ने संसद में बगैर नाम लिए RSS और बीजेपी पर देश का माहौल खराब करने का आरोप लगाया

FP Staff Updated On: Aug 09, 2017 02:18 PM IST

0
संघ पर सोनिया गांधी का निशाना, 'इन लोगों का आजादी में कोई योगदान नहीं'

भारत छोड़ो आंदोलन की 75वीं वर्षगांठ के अवसर पर संसद में दिए अपने भाषण में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने इशारों-इशारों में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) और केंद्र सरकार पर निशाना साधा है.

सोनिया ने कहा, 'ऐसा लगता है कि देश में अंधकार की शक्तियां तेजी से उभर रही हैं. कानून के राज में गैर-कानूनी शक्तियां हावी हो रही हैं. ऐसा लगता है कि सेक्यूलर और उदारवादी मूल्य खतरे में पड़ते नजर आ रहे हैं और जनतंत्र की बुनियाद को नष्ट करने की कोशिश हो रही है.'

उन्होंने आजादी की लड़ाई में कांग्रेस पार्टी और उसके कार्यकताओं के त्याग और बलिदान को याद किया. उन्होंने याद दिलाया कि इस आंदोलन में हिस्सा बनने वाले कई कांग्रेस कार्यकर्ता जेल के अंदर बीमारी से मर गए. साथ ही जवाहर लाल नेहरू ने भी जेल में अपनी जिंदगी का सबसे लंबा वक्त बिताया.

कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि भारत छोड़ो आंदोलन के दौरान अंग्रेजों और उनकी पुलिस ने सत्याग्रह कर रहे लोगों पर अत्याचार किया. सोनिया ने तंज कसते हुए कहा, 'आज जब हम उन शहीदों को नमन कर रहे हैं, जो स्वाधीनता संग्राम में सबसे अगली पंक्ति में रहे, हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि उस दौर में ऐसे संगठन और लोग भी थे, जिन्होंने भारत छोड़ो आंदोलन का विरोध किया था. इन तत्वों का हमारे देश को आजादी दिलाने में कोई योगदान नहीं रहा.'

हालांकि सोनिया गांधी के ऐसा कहने पर सदन के कुछ सदस्यों ने शोर भी मचाया. सोनिया गांधी ने कहा कि क्या जहां आजादी का माहौल था, वहां भय नहीं फैल रहा. क्या जनतंत्र की इस बुनियाद को नष्ट करने की कोशिश नहीं हो रही. जो विचारों की आजादी, सामाजिक न्याय, स्वेच्छा की आजादी पर आधारित है.

उन्होंने कहा कि ऐसा लगता है कि सेक्यूलर और उदारवादी मूल्य खतरे में पड़ते नजर आ रहे हैं. पब्लिक स्पेस में असहमति और विचारों की गुंजाइश कम होती जा रही है. कानून के राज में भी गैर-कानूनी शक्तियां हावी दिखाई देती हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi