S M L

बेटी हेमा यादव को गिफ्ट में मिली जमीन के सवाल पर भड़के लालू, पत्रकार को कहा 'बेहूदा'

लालू प्रसाद यादव ने पत्रकार से गुस्से में कहा कि आप घोटालेबाज लोग हो और मोदी का सुपारी लिए हुए हो तुम लोग

FP Staff Updated On: Jun 14, 2017 07:34 PM IST

0
बेटी हेमा यादव को गिफ्ट में मिली जमीन के सवाल पर भड़के लालू, पत्रकार को कहा 'बेहूदा'

बुधवार नई दिल्ली के इंदिरा गांधी एयरपोर्ट पर लालू प्रसाद यादव एक पत्रकार के सवाल पर भड़क गए. पत्रकार ने उनसे उनकी पांचवीं बेटी हेमा यादव को गिफ्ट में मिली करोड़ों की जमीन पर सवाल पूछा. लालू प्रसाद यादव ने इस सवाल के जवाब में पत्रकार से कहा कि मेरे पास इस सवाल का कोई जवाब नहीं है और आप आराम कीजिए.

लालू यादव की इस प्रतिक्रिया पर पत्रकार ने कहा कि हमारा काम ही सवाल पूछना है. इसके बाद फिर पत्रकार ने उनसे घोटालों के आरोपों के बारे में पूछा. इसके बाद लालू प्रसाद यादव ने पत्रकार से गुस्से में कहा कि आप घोटालेबाज लोग हो और मोदी का सुपारी लिए हुए हो तुम लोग.

इसके बाद जब पत्रकार ने लालू प्रसाद यादव से शहाबुद्दीन से उनके संबंधों के बारे में पूछा तो वे बुरी तरह भड़क गए और सवाल पूछने वाले पत्रकार को 'बेहूदा' कहा.

क्या है पूरा मामला?

भाजपा के वरिष्ठ नेता सुशील कुमार मोदी ने मंगलवार को लालू की पांचवी पुत्री हेमा यादव के पास करीब 1 करोड 40 लाख रुपए की संपत्ति होने का आरोप लगाया था. सुशील मोदी के आरोप लगाया था कि हेमा यादव को केवल लालू यादव के बीपीएलधारी नौकर ललन चौधरी ने ही 62 लाख रुपए के 7.75 डिसमिल जमीन 13 फरवरी 2014 को दानस्वरूप नहीं दी थी बल्कि उसी दिन पटना के राजेन्द्रनगर स्थित रेलवे के कोचिंग कॉम्प्लेक्स के खलासी हृदयानंद चौधरी ने भी हेमा यादव को अपनी संपत्ति दान कर दी थी.

उन्होंने बताया था कि दान पत्र पर हेमा यादव का पता पूर्व मुख्यमंत्री और उनकी माता राबड़ी देवी का पटना के 10 सर्कुलर रोड स्थित सरकारी आवास अंकित है.

सुशील मोदी ने यह भी कहा था कि ललन चौधरी और हृदयानंद चौधरी द्वारा हेमा को दानस्वरूप दिए गए भूखंड को ललन और हृदयानंद ने एक ही दिन 29 मार्च 2008 को खरीदा था. उन्होंने बताया कि दोनों को उक्त भूखंड बेचनेवाले दिवंगत देवकी राय के परिवार से हैं. उनके एक पुत्र विशुन देव राय ने ललन चौधरी को और दूसरे पुत्र ब्रजनंदन राय ने हृदयानंद चौधी को 29 मार्च 2008 को मूल्य 4 लाख 21 हजार रुपए और एक ही रकबा 7.76 डिसमिल जमीन बेची.

सुशील ने आरोप लगाया कि हृदयानंद चौधरी ने भी स्टांप ड्यूटी के लिए 6 लाख 28 हजार रुपए एक ही दिन ललन चौधरी के साथ नकद एसबीआई मुख्य शाखा में जमा कराया. उन्होंने कहा कि ललन चौधरी के दान पत्र पर हृदयानंद चौधरी गवाह है और हृदयानंद के दान पत्र में ललन चौधरी गवाह है. यानी एक ही दिन 13 फरवरी 2014 को हेमा यादव को 15 डिसमिल जमीन दान में मिली. पटना शहर की इस अत्यंत कीमती जमीन का उस समय मूल्य 1 करोड़ 40 लाख रुपए था.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi