S M L

गुजरात: राज्यसभा चुनाव की वोटिंग खत्म, 8 कांग्रेसी विधायकों पर होगी कार्रवाई

कांग्रेस के कई विधायकों ने क्रॉस वोटिंग की

FP Staff Updated On: Aug 08, 2017 05:27 PM IST

0
गुजरात: राज्यसभा चुनाव की वोटिंग खत्म, 8 कांग्रेसी विधायकों पर होगी कार्रवाई

गुजरात में आज होने वाले राज्यसभा चुनाव में सोनिया गांधी के राजनीति सलाहकार अहमद पटेल की सीट पर पेंच फंस गया है. बीजेपी की रणनीति की बात करें तो अहमद पटेल की जीत की संभावना कम ही दिखती है. मंगलवार को सुबह तय समय पर राज्यसभा सीटों के लिए चुनाव शुरू हुआ. जानकारी के मुताबिक 176 विधायकों ने वोट डाले.

कांग्रेस के कई विधायकों ने क्रॉस वोटिंग की. माना जा रहा है ये अहमद पटेल की हार की बड़ी वजह बन सकती है. पार्टी नेता अशोक गहलोत ने कहा कि जिन विधायकों ने क्रॉस वोटिंग की है उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी. उन्होंने कहा, 8 विधायकों पर कार्रवाई होगी. क्रॉस वोटिंग के बावजूद उन्होंने दावा किया कि हर हाल में अहमद पटेल की जीत होगी.

अहमद पटेल को नहीं दिया वोट

इस बीच कांग्रेस से अलग हुए शंकर सिंह बाघेला ने कहा कि उन्होंने अहमद पटेल को वोट नहीं दिया है. मतदान के बाद उन्होंने कहा, चुनाव हार रही कांग्रेस को वोट देने का कोई मतलब नहीं है. वाघेला ने कहा, पटेल के साथ कांग्रेस ने मजाक किया है. गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपानी ने बताया कि एनसीपी के दोनों विधायकों ने बीजेपी को वोट दिया.

एनसीपी विधायक धर्मेंद्र जडेजा ने कहा, एक साल से हमारी कांग्रेस से लड़ाई थी. राज्यसभा चुनाव अभी आया है. वोट मैंने बलवंत सिंह राजपूत को दिया है.

बीजेपी की तरफ से दावा किया जा रहा है कि बलवंत सिंह राजपूत 1 से लेकर 3 वोट से जीत जाएंगे. एनसीपी, जेडीयू और जीपीपी ने भी बीजेपी को समर्थन का ऐलान कर दिया है.

लेकिन, गुजरात में कांग्रेस को जेडीयू का साथ मिल गया है. यहां जेडीयू विधायक कर्म सिंह मकवाड़ा (पटेल) ने अहमद पटेल को वोट दिया है.

इस बीच मंगलवार सुबह अहमद पटेल कांग्रेस विधायकों से मिलने आणंद पहुंचे हैं. सुबह 9 बजे से शाम 4 बजे तक राज्यसभा की तीन सीटों के लिए मतदान होगा. नतीजे भी शाम तक आ सकते हैं. हालांकि न्यूज 18 से बातचीत में अहमद पटेल ने अपनी जीत का दावा किया है.

राज्य सभा चुनावों में अहमद पटेल की हार तय

विश्वसनीय सूत्रों के मुताबिक मंगलवार को होने वाले राज्य सभा चुनावो में अहमद पटेल की हार तय है. दावा यह है कि बलवन्त सिंह राजपूत 1 से लेकर 3 वोट से जीतेंगे. अमित शाह ने अपनी जीत तय करते हुए जीत के वोट का मार्जिन बेहद कम रखा है.

फोन आया, बीजेपी को वोट देना

शंकर सिंह वघेला ने कहा कि अहमद भाई का चुनाव है और पार्टी को चिंता ही नहीं. वहीं एनसीपी विधायक कांधल जड़ेजा ने कहा कि उन्हें प्रफुल्ल पटेल का फोन आया कि कल बीजेपी को वोट देना है. उन्होंने कहा कि कांग्रेस अपने विधायकों को संभाल नहीं पा रही है. सबको बंधन में रख रही है. इधर, अहमद पटेल ने कहा कि मुझे जीत का पूरा भरोसा है. सभी कांग्रेसी विधायक मेरे साथ हैं.

गुजरात राज्यसभा चुनाव में बीजेपी द्वारा गुजरात से उच्च सदन के लिये पार्टी अध्यक्ष अमित शाह और केंद्रीय मंत्री स्मृति इरानी को उतारने और कांग्रेस की तरफ से मैदान में अहमद पटेल के खड़े होने से यहां चुनावी मुकाबला काफी दिलचस्प हो गया है. गुजरात में इस साल के अंत में होने वाले विधानसभा चुनावों से पहले इस चुनावी जंग ने सियासी सरगर्मियां काफी बढ़ा दी हैं.

यह जंग नाटकीय राजनीतिक घटनाक्रमों की पृष्ठभूमि के संदर्भ में शुरू हुई है जिसमें वरिष्ठ कांग्रेसी नेता शंकरसिंह वाघेला का विद्रोह, आधा दर्जन पार्टी विधायकों का इस्तीफा और 44 विधायकों को बीजेपी के कथित तौर पर 'अपने पाले में करने के' प्रयासों से सुरक्षित रखने के लिए बेंगलुरु स्थानांतरित करने जैसी घटनायें शामिल हैं.

इनमें से कोई भी अगर क्रॉस वोटिंग नहीं करता है या 'उपयुक्त में से कोई नहीं' (नोटा) विकल्प का प्रयोग नहीं करता है, उस स्थिति में भी कांग्रेस को पटेल की जीत सुनिश्चित करने के लिए एक अतिरिक्त मत की जरूरत होगी.

संसद के उच्च सदन में तीन रिक्तियों के लिए चार दावेदार मैदान में हैं और इसमें आखिर तक कुछ भी होने की संभावना जताई जा रही है.' अमित शाह और स्मृति इरानी के अलावा बीजेपी ने बलवंतसिंह राजपूत का नाम आगे बढ़ाया है जो हाल ही में कांग्रेस छोड़ सत्ताधारी पार्टी में शामिल हुए हैं.

सदन में 121 विधायकों वाली बीजेपी के दो उम्मीदवार आसानी से जीत हासिल कर सकते हैं. लेकिन, पार्टी आंकड़ों के हिसाब से तीसरे प्रत्याशी के लिए उनके पास केवल 31 मत हैं. पार्टी सूत्रों ने बताया कि बीजेपी ने अपने सभी विधायकों को गांधीनगर बुलाया था जहां उन्हें राज्यसभा में मतदान को लेकर दिशा-निर्देश दिए गए.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi