S M L

मैं वक्त पर पहुंचा तो प्रोग्राम 12 मिनट देर से क्यों शुरू हुआ: राजनाथ सिंह

अधिकारियों के समय से ना पहुंचने के कारण निर्धारित समय से 12 मिनट देरी शुरू हुआ कार्यक्रम

Bhasha | Published On: Apr 20, 2017 06:22 PM IST | Updated On: Apr 20, 2017 06:22 PM IST

मैं वक्त पर पहुंचा तो प्रोग्राम 12 मिनट देर से क्यों शुरू हुआ: राजनाथ सिंह

गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने लेटलतीफी के शिकार अधिकारियों को लताड़ लगाते हुए उन्हें समय का पाबंद रहने की सख्त हिदायत दी है.

सिविल सेवा दिवस के अवसर पर बुधवार को आयोजित समारोह में अधिकारियों के देर से पहुंचने पर सिंह नाराज थे.

11वें लोक सेवा दिवस समारोह में बतौर मुख्य अतिथि सिंह ने कहा कि लोक सेवकों का समारोह निर्धारित समय से 12 मिनट देरी से शुरू होना चिंता की बात है.

इतना ही नहीं विलंब से समारोह शुरू होने के बाद भी अधिकारियों का आना जारी रहना गंभीर चिंता का विषय है.

टाइम की क्यों नहीं कदर 

सिंह ने कहा कि समारोह को सुबह 9 बजकर 45 मिनट पर शुरू होना था. मैं निर्धारित समय से पांच मिनट पहले पहुंच गया था, लेकिन समारोह 9 बजकर 57 मिनट पर शुरू हो सका.

जबकि इस कार्यक्रम में भारतीय सिविल सेवा सहित अन्य सेवाओं के अधिकारियों को शिरकत करनी थी.

ऐसे में कम से कम इस कार्यक्रम में समय की पाबंदी का पालन नितांत अपेक्षित है. उन्होंने कहा कि कार्यक्रम में देरी के कुछ कारण जरूर रहे होंगे और हो सकता है कि ये कारण जायज भी हों लेकिन इसके बावजूद यह आत्मविश्लेषण जरूरी है कि आज के दिन ऐसा क्यों हुआ.

सरदार वल्लभाई पटेल को भी किया याद

राजनाथ सिंह ने देश के पहले गृह मंत्री सरदार वल्लभ भाई पटेल द्वारा सिविल सेवा को भारतीय राजव्यवस्था का स्टील का ढांचा बताए जाने का हवाला देते हुए पूछा कि हमें इस बात का गंभीरता से आत्मविश्लेषण करना चाहिए कि स्टील का यह ढांचा कमजोर तो नहीं हुआ है.

उन्होंने कहा कि कम से कम सिविल सेवा दिवस के अवसर पर यह आत्मविश्लेषण जरूरी हो जाता है.

साथ ही आज यह विश्लेषण भी जरूरी है कि आजादी के बाद शुरू हुए सिविल सेवा के इस सफर में अब तक क्या पाया और इसके आधार पर भविष्य में हमें क्या करना है.

पॉपुलर

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi

लाइव

3rd ODI: England 57/6David Willey on strike