S M L

GST के लिए रात तक संसद, किसानों के लिए समय तक नहीं: राहुल गांधी

राजस्थान के बांसहाड़ा में किसान की रैली में शामिल हुए राहुल गांधी

FP Staff Updated On: Jul 19, 2017 06:25 PM IST

0
GST के लिए रात तक संसद, किसानों के लिए समय तक नहीं: राहुल गांधी

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी बुधवार को किसानों की रैली में शामिल होने के लिए राजस्थान के बांसहाड़ा पहुंचे. वहां किसानों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा, आपके दिल में जो दुख है उस पर हम लोकसभा में बात करना चाहते थे. 2-3 घंटे नहीं 10-15 मिनट आपके बारे में बोलना चाहते थे. लेकिन, संसद में किसान की आवाज नहीं उठाई जा सकती. जीएसटी के लिए संसद रात को 12 बजे खोला जा सकता है, लेकिन किसानों के लिए 10 मिनट नहीं दिए जा सकते हैं.

यूपी में दो करोड़ किसानों ने भरा पिटिशन

राहुल गांधी ने कहा, मैंने पिछले साल यूपी में एक महीने यात्रा की. लाखों किसानों से मिला. हमने मोदी से कहा आप उनका कर्जा माफ करिए. किसानों को सही दाम दिलवाइए और बिजली का बिल हाफ करिए. दो करोड़ किसानों ने हमारा पिटिशन भरा. राजस्थान में कांग्रेस दबाब डालकर आपका कर्जा माफ करेगी. जब तक वे कर्जा माफ नहीं कर देते हैं, हम इनको सोने नहीं देंगे.

पंजाब-कर्नाटक में माफ हुआ कर्ज

राहुल गांधी ने कहा, कांग्रेस ने पंजाब और कर्नाटक में किसानों का कर्जा माफ किया. ये कांग्रेस की सेना है. इसने अंग्रेजो को हराया है. बीजेपी आरएसएस के लोग इसके सामने खड़े नहीं हो सकते हैं. सावरकर ने जब मत्था टेक दिया था तब हमने अंग्रेजो को भगा दिया.

जीएसटी पर नहीं दिया समय

जीएसटी के सवाल पर राहुल गांधी ने कहा, हमने कहा इससे लोगों को कष्ट होगा. हम भी जीएसटी लाना चाहते थे, लेकिन सबका ख्याल रखा था. हमने उनसे कहा था कि थोड़ा समय दीजिए. लेकिन उन्होंने कहा, अभी 12 बजे लागू करना है. पूरी दुनिया को दिखाना है कि हमने जीएसटी लागू कर दिया.

10-12 उद्योगपति चला रहे हैं सरकार

उन्होंने कहा कि मोदी जी ने छोटे व्यापारियों पर टैक्स डिपार्टमेंट खोल दिया है. इसे बड़े उद्योगपति तो आसानी से कर सकते हैं, लेकिन छोटे व्यापारी के पास इतना पैसा नहीं है. बीजेपी और आरएसएस के लोग कमजोर लोगों की आवाज नहीं सुनते. हिंदुस्तान के 10-12 उद्योगपती और इनकम टैक्स व्यापारी सरकार चला रहे हैं.

सिर्फ एक लाख लोगों को मिला रोजगार

रोजगार के मुद्दे पर राहुल ने कहा, मोदी ने दो करोड़ लोगों को रोजगार देने का दावा किया था. यहां एक युवा को रोजगार नहीं मिला. मेक इन इंडिया झूठा वायदा है. वे ना तो किसानों का कर्जा माफ करेंगे और ना ही युवाओं को रोजगार देंगे. हमने संसद में सवाल पूछा कि कितने लोगों को रोजगार मिला तो जवाब मिला एक लाख से कम.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi