S M L

यूपी में बीजेपी: सपाई कलह की मदद से सूबे पर कब्जा करने में लगी पार्टी

राष्ट्रपति चुनाव ने इस बात को और पक्का ही किया है.

FP Politics | Published On: Jul 17, 2017 05:29 PM IST | Updated On: Jul 17, 2017 05:29 PM IST

0
यूपी में बीजेपी: सपाई कलह की मदद से सूबे पर कब्जा करने में लगी पार्टी

इस बात की पूरी उम्मीद है कि एनडीए के उम्मीदवार रामनाथ कोविंद ही देश के अगले राष्ट्रपति बनेंगे. अगर ऐसा होता है तो ये बीजेपी की जीत की हैट्रिक होगी.

2014 में लोकसभा चुनाव और मार्च 2017 में यूपी विधानसभा चुनाव में ऐतिहासिक जीत के बाद रामनाथ कोविंद को राष्ट्रपति बनाकर बीजेपी हैट्रिक लगा लेगी.

समाजवादी कलह का फायदा उठाएगी विपक्ष

सालों बाद यूपी में बीजेपी के लिए हरियाली आई है लेकिन बीजेपी इतने से ही संतुष्ट नहीं है वो पिछले साल से ही समाजवादी पार्टी में फैली कलह का भरपूर फायदा उठाना चाहती है. और इसकी शुरुआत भी हो चुकी है.

मुलायम सिंह यादव खुले तौर पर अखिलेश यादव को दरकिनार करते दिख रहे हैं और शिवपाल यादव हमेशा की तरह उनके साथ खड़े हैं.

मुलायम पिछले कुछ वक्त से ही मौका मिलते ही विपक्ष को 'आईना दिखाने' का कोई मौका नहीं छोड़ रहे. उन्होंने अखिलेश की इफ्तार पार्टी में पैर भी नहीं रखा लेकिन 20 जून को सीएम योगी के भोज में वक्त से पहले पहुंच गए. साथ ही वो अपने चचेरे भाई रामगोपाल यादव के जन्मदिन पर भी शामिल नहीं हुए थे.

Mulayam Singh

राष्ट्रपति चुनाव नया लड़ाई का मैदान

ये कलह राष्ट्रपति चुनाव के लिए उम्मीदवारों की घोषणा के बाद भी दिखी थी. मुलायम सिंह यादव ने विपक्ष की उम्मीदवार मीरा कुमार को समर्थन देने के बजाय एनडीए के उम्मीदवार रामनाथ कोविंद को समर्थन दिया. और मतदान के बाद शिवपाल सिंह यादव ने ट्वीट किया कि माननीय नेताजी के निर्देशानुसार राष्ट्रपति पद के चुनाव के लिए श्री रामनाथ कोविंद जी के पक्ष में मतदान किया.

अब जब घरेलू लड़ाई इतनी खुली हो, तो दुश्मन तो फायदा उठाएगा ही. खबर है कि कुछ बीजेपी नेताओं का मानना है कि कुछ सांसद अपनी राजनीति बचाने के लिए भी कोविंद का समर्थन कर सकते हैं.

'विपक्षी सांसद कर रहे हैं कोविंद का समर्थन'

इंडियन एक्सप्रेस की एक रिपोर्ट में एक बीजेपी नेता के हवाले से कहा गया कि कुछ सांसद सत्तापक्ष की कृपा अपने सिर पर बनाए रखने के लिए कोविंद के लिए वोटिंग करेंगे.

हालांकि, ऐसी चर्चा के बाद एसपी के प्रवक्ता राजेंद्र चौधरी ने इन खबरों पर लगाम लगाते हुए ऐसी किसी भी संभावना से इनकार किया था. उन्होंने कहा था कि बीजेपी अपने एजेंडे में सफल नहीं होगी. पार्टी के सभी सांसद और विधायक पार्टी लाइन के हिसाब से ही वोट करेंगे. पार्टी अध्यक्ष अखिलेश ने सबको मीरा कुमार को वोट करने का निर्देश दिया है.

एसपी के 47 विधायकों के अलावा लोकसभा में एसपी के 5 सदस्य और राज्यसभा में 18 सांसद हैं.

RamnathKovindMeiraKumar

विपक्ष की एकजुटता पर बीजेपी का एजेंडा भारी

वहीं, बीएसपी के नेता लालजी वर्मा ने भी कहा है कि विपक्ष का हर नेता मीरा कुमार के लिए ही वोट करेगा, कोई बीजेपी के लिए वोट नहीं कर रहा.

लेकिन ये बयान साफ-साफ दिखाते हैं कि विपक्ष को अपनी एकजुटता साबित करने और जताने की जरूरत पड़ रही है. और अब तो खुलेआम पार्टी के खिलाफ जाकर वोट डालने की घोषणा करने और क्रॉस वोटिंग की खबरें आने से साफ दिख रहा है कि विपक्ष कितना एकजुट है.

और अगर बीजेपी के हलकों से आवाजें आ रही हैं कि विपक्षी सांसद इतने एकजुट नहीं कि अपनी पार्टी लाइन के हिसाब से वोट कर सकें तो मान सकते हैं कि विपक्ष को कमजोर करने का बीजेपी का एजेंडा सफल ही होता दिख रहा है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi