S M L

'हत्यारों को सम्मान मत दीजिए, ये गौरक्षक नहीं गौ गुंडे हैं'

गौरक्षक बन कर हिंसा करने वालों को इतिहासकार ने ट्वीटर पर लगाई लताड़

FP Staff Updated On: Apr 24, 2017 07:43 PM IST

0
'हत्यारों को सम्मान मत दीजिए, ये गौरक्षक नहीं गौ गुंडे हैं'

आए दिन गौ रक्षा के नाम पर हो रही हिंसा की घटनाओं से पर इतिहासकार रामचंद्र गुहा ने अपनी ट्वीटर वॉल पर गुस्सा जाहिर किया है. राम चंद्र गुहा ने ट्वीट में लिखा है 'प्लीज हत्यारों को रक्षक कहकर सम्मान देना बंद कीजिए. इनके लिए सही टर्म गौ गुंडा है.'

इससे पहले गुहा ने इंडियन एक्सप्रेस का एक आर्टिकल लगाकर एक ट्वीट किया, 'उत्तर प्रदेश की सड़कों पर विश्व हिंदू परिषद और बजरंग दल की हिंसा औरप उत्पात बढ़ता जा रहा है.'

इसके अलावा उन्होंने टेलिग्राफ की खबर के साथ एक और ट्वीट किया 'यूपी, राजस्थान, गुजरात, हरियाणा, झारखंड बीजेपी के शासन वाले राज्य हैं जहां सड़कों पर गौ गुंडों का राज है.'

राम चंद्र गुहा के अलावा पत्रकार और लेखक राहुल पंडिता ने भी इसी मामले पर ट्वीट किया. उन्होंने लिखा कि गायों की निगरानी का मामल गंभीर होता जा रहा है. कश्मीर के रियासी में जिन लोगों ने गुर्जरों पर हमला किया वो नहीं जानते कि इन पालतू जानवरों के साथ उनका (गुर्जरों) क्या रिश्ता है?

पत्रकार बरखा दत्त ने भी अंग्रेजी अखबार हिंदुस्तान टाइम्स में छपे अपने लेख को ट्वीट करते हुए लिखा कि मीडिया लगातार मुसलमानों को टारगेट करके की जा रही हिंसा को निगरानी और रक्षक जैसे शब्दों का इस्तेमाल कर के स्थितियों को सामान्य कर रहा है.

गौरक्षा को लेकर अभी हाल में लगातार हिंसा की घटनाओं में तेजी आई है. कई राज्यों में इस तरह की घटनाएं सुनने में आ रही हैं. अभी कश्मीर के रियासी और दिल्ली में भी इस तरह की घटना हुई है. जहां पर गाय ले जाने का आरोप लगाकर लोगों को बुरी तरह पीटा गया है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi