S M L

उपचुनाव में जीत से गोवा सरकार को ‘नैतिक ताकत’ मिलेगी: पर्रिकर

पर्रिकर ने कहा कि उन्होंने किसी खास अंतर से जीतने का कभी भी अनुमान नहीं लगाया था लेकिन उन्हें जीत का पूरा भरोसा था

Bhasha Updated On: Aug 28, 2017 08:28 PM IST

0
उपचुनाव में जीत से गोवा सरकार को ‘नैतिक ताकत’ मिलेगी: पर्रिकर

गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर ने सोमवार को कहा कि राज्य में दो सीटों पर हुए उपचुनावों में भारतीय जनता पार्टी की जीत से सत्तारूढ़ गठबंधन को ‘नैतिक ताकत’ हासिल होगी.

उन्होंने कहा कि परिणामों ने उस नजरिए को भी नकार दिया जिसमें कहा जा रहा था कि बीजेपी ने फरवरी में हुए विधानसभा चुनावों के जनादेश के खिलाफ जाकर अपनी सरकार का गठन किया.

पार्टी ने पणजी सीट को बरकार रखा और वालपोई सीट कांग्रेस से छीन कर अपनी जीत दर्ज की. मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर ने पणजी सीट पर जबकि उनके कैबिनट सहयोगी विश्वजीत राणे ने वालपोई सीट पर विजय हासिल की.

मुख्यमंत्री ने सोमवार को सुबह चुनाव परिणामों की घोषणा होने के बाद एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘यह सरकार और पार्टी उम्मीदवारों का समर्थन है.’ पर्रिकर ने कहा कि सत्तारूढ़ गठबंधन की सीटें बढ़कर अब 23 हो गई है जो 40 सदस्यीय विधानसभा में पूर्ण बहुमत है.

एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा, ‘सत्तारूढ़ गठबंधन 23 सदस्यों के परिवार के साथ खुश है और हम अगले पांच वर्ष के लिए कुछ नहीं चाहते है.'

लोकतंत्र में सीटों की संख्या गिनी जाती है

उन्होंने कहा, ‘लोकतंत्र में सीटों की संख्या गिनी जाती है और अब सत्तारूढ़ गठबंधन के पास 23 सदस्य हैं जिससे राज्य सरकार को नैतिक समर्थन मिलेगा.’

मुख्यमंत्री ने कहा, ‘23 अगस्त को हुए उपचुनाव के मद्देनजर ‘कुछ वर्गों’ ने सांप्रदायिक विवाद पैदा करने की कोशिश की और विपक्ष ने उन्हें तथा राणे को निशाना बनाया.’

उन्होंने कहा, ‘लेकिन लोगों ने इस तरह के सभी प्रयासों को विफल कर दिया.’ जब उनसे पूछा गया कि क्या ये परिणाम उनके छह महीने पुरानी सरकार के लिए जनमत संग्रह था तो पर्रिकर ने कहा 'हां'.

मुख्यमंत्री ने कहा कि विपक्ष ने इस तरह के आरोप लगाए थे कि हमने बिना जनादेश के सरकार का गठन किया. वर्तमान परिणाम उनके लिए एक जवाब है.

फरवरी में हुए चुनाव में कांग्रेस सबसे बड़े दल के रूप में उभर कर सामने आई थी. हालांकि बीजेपी ने कांग्रेस से कुछ कम सीटें जीतने के बावजूद गोवा फारवर्ड पार्टी और एमजीपी और सभी तीन निर्दलीय विधायकों के समर्थन से नई सरकार बना ली थी.

पर्रिकर ने कहा कि उन्होंने किसी खास अंतर से जीतने का कभी भी अनुमान नहीं लगाया था लेकिन उन्हें जीत का पूरा भरोसा था.

उन्होंने कहा, ‘मैंने अपनी जीत के अंतर का कभी भी अनुमान नहीं लगाया था. मैंने हमेशा कहा था कि मैं अच्छे खासे अंतर से जीत हासिल करूंगा. मुझे 64 प्रतिशत वोट मिले जबकि मेरे प्रतिद्वंद्वी को 33 प्रतिशत मत मिले.’

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi