S M L

पाकिस्तानी ने भारतीय महिला उजमा को स्वदेश लौटने की दी अनुमति

पाकिस्तान कोर्ट ने महिला के वीजा दस्तावेज भी लौटा दिए जो उसके पति ने धोखे से लिए थे

Bhasha | Published On: May 24, 2017 05:33 PM IST | Updated On: May 24, 2017 05:33 PM IST

पाकिस्तानी ने भारतीय महिला उजमा को स्वदेश लौटने की दी अनुमति

इस्लामाबाद हाईकोर्ट ने एक महिला को भारत लौटने की अनुमति दे दी है. महिला ने पाकिस्तानी युवक पर जबरन शादी करने का आरोप लगाया था. जिसके बाद महिला ने भारतीय उच्चायोग में शरण ले ली थी. कोर्ट ने पुलिस को भी महिला को सही सलामत वाघा बॉर्डर छोड़ने का आदेश दिया है.

उजमा इस महीने पाकिस्तान आई थी. उसने आरोप लगाया कि पाकिस्तानी नागरिक ताहिर अली ने शादी करने के लिए उसे मजबूर किया.

उजमा ने 12 मई को कोर्ट में याचिका दायर कर अनुरोध किया था कि उसे घर वापस जाने की अनुमति दी जाए क्योंकि उसकी पहली शादी से हुई बेटी भारत में थलीसीमिया से पीड़ित हैं. अली ने अदालत में अपनी याचिका में आग्रह किया था कि उसे उसकी पत्नी से मिलने दिया जाए.

अभी स्पष्ट नहीं है कि उजमा भारत के लिए कब रवाना होंगी

न्यायमूर्ति मोहसिन अख्तर कयानी की एकल पीठ ने मंगलवार को दोनों याचिकाओं पर सुनवाई की. उनकी दलीलें सुनने के बाद न्यायमूर्ति ने उजमा को भारत लौटने की अनुमति दी.

कोर्ट ने महिला का वीजा दस्तावेज भी लौटा दिए जो अली ने ले लिए थे. अदालत के आदेश के बाद दस्तावेजों को कल अदालत में सौंपा गया था.

Flags_of_India_and_Pakistan

अभी यह स्पष्ट नहीं है कि उजमा भारत के लिए कब रवाना होगी. कोर्ट के आदेश से दुखी अली ने बताया कि हाईकोर्ट ने ‘उसकी पत्नी’ को वापस जाने की अनुमति दे दी और मैं इससे नाखुश हूं क्योंकि मेरी बात सुनी नहीं गई.

जस्टिस कयानी ने पुलिस को आदेश दिया कि वह उजमा को भारत और पाकिस्तान के बीच वाघा बार्डर पर छोड़ें. न्यायमूर्ति ने उजमा से पूछा कि क्या वह उनके चैंबर में अली से मिलना चाहती है लेकिन उसने इनकार कर दिया.

अली ने बंदूक का डर दिखाकर जबरन शादी की

अली ने कहा, ‘मैं दो मिनट के लिए उससे मिलना चाहता था लेकिन मुझे मंजूरी नहीं दी गई.’ कुछ खबरों के अनुसार, उजमा सुनवाई के दौरान कोर्ट में एक बार बेहोश हो गई और उसका इलाज करने के लिए चिकित्सों को बुलाया गया.

उजमा एक मई को पाकिस्तान आई थी और फिर खबर पख्तूनख्वा में दूरवर्ती बुनेर प्रांत गई थी जहां उसने तीन मई को अली से निकाह किया.

बाद में वह इस्लामाबाद आई और उसने भारतीय उच्चायोग में शरण ली. उसने आरोप लगाया कि अली ने बंदूक का डर दिखाकर उससे जबरन शादी की.

खबरों के अनुसार, उजमा और अली की मुलाकात मलेशिया में हुई थी और उन दोनों को प्यार हो गया था जिसके बाद वह वाघा बॉर्डर के रास्ते से एक मई को पाकिस्तान आई थी.

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi