S M L

नसीमुद्दीन सिद्दीकी प्रेस कॉन्फ्रेंस: अपने दम पर चुनाव जीत कर बहादुरी दिखाएं मायावती

नसीमुद्दीन सिद्दीकी ने तीखे सवालों से दिया मायावती को जवाब

FP Staff | Published On: May 12, 2017 05:49 PM IST | Updated On: May 12, 2017 07:05 PM IST

0
नसीमुद्दीन सिद्दीकी प्रेस कॉन्फ्रेंस: अपने दम पर चुनाव जीत कर बहादुरी दिखाएं मायावती

बीएसपी ने निकाले गए नसीमुद्दीन ने शुक्रवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस किया. उन्होंने कहा कि मायवती ने जो भी मुझ पर आरोप लगाए हैं, मैं उनका तथ्यों के साथ जबाब दूंगा.

मायावती को दूंगा जवाब

सिद्दीकी ने कहा, 'मायावती ने कहा था कि मैं टेपिंग ब्लैकमेलर हूं. आज मैं इसका जवाब दूंगा.' मायावती ने कांशीराम के समय के बड़े-बड़े नेताओं को बेइज्जत करके पार्टी से निकाला है.

इससे पहले गुरुवार को नसीमुद्दीन ने मायावती के साथ अपनी बातचीत का टेप जारी करके उनपर 50 करोड़ रुपए मांगने का आरोप लगाया था.

मायावती ने किया पार्टी छोड़ने को मजबूर

सिद्दीकी ने कहा, 'कुछ लोग प्रताड़ित होने के बाद पार्टी छोड़कर चले गए. मैंने मजबूरी में अपने परिवार को बचाने के लिए उनका फोन टेप किया. मैंने कल जो फोन टेप सुनाया उसमें मैंने किसको ब्लैकमेल किया?'

उन्होंने कहा, मायावती यह बताएं कि मैंने किसको ब्लैकमेल किया है. वो इसका सबूत भी पेश करें. सिद्दीकी ने कहा, 'मायावती से जो मैंने सीखा उनके साथ वही किया.'

मायावती से बड़ा ब्लैकमेलर कोई नहीं

सिद्दीकी ने कहा, 'अगर मेरे द्वारा टेप की गई बातचीत में छेड़छाड़ का सबूत मिल जाए तो मैं कोई भी सजा भुगतने को तैयार हूं.' मायावती से बड़ा कोई ब्लैकमेलर नहीं है. सतीश चंद्रा ने कई आरोप लगाए लेकिन उसमें सदस्यता खाने वाला और टेप ब्लैकमेलर का आरोप क्यों नहीं है.

बातचीत में मायावती कह रही हैं कि मैंने सदस्यता का पैसा खा लिया है लेकिन उनके पास इसका क्या सबूत है? जब मैंने ऑडियो जारी किया तब मैं ब्लैकमेलर हो गया.

मेरे बेटे को बनाया बली का बकरा

सिद्दीकी ने कहा था कि मायावती ने कल चार विधानसभा का जिक्र किया था उन विधानसभाओं के उम्मीदवार यहां मौजूद थे.

मायावती ने मेरे बेटे को फतेहपुर से टिकट दिया और बुरी तरह हार गया. मुझसे कहा गया कि फतेहपुर से पार्टी हित में बेटे को लड़ा दो. मेरा बेटा वहां गया और चुनाव लड़ा. मेरे बेटे को 3 लाख वोट मिले और वो दूसरे नंबर पर रहा.

डूबती पार्टी की अध्यक्ष हैं मायावती

सिद्दीकी ने कहा, मायावती डूबती पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं. मायावती कई बार चुनाव हारीं. मैं सिर्फ एक बार चुनाव हारा. मायावती ने विकास का पैसा खाया संसद में सवाल पूछने पर भी पैसा खाया. मैंने इटावा से कांशीराम को जिताने में दिनरात एक कर दिया था.

अपने दम पर चुनाव जीत कर बहादुरी दिखाएं मायावती 

जब से मैं मायावती का चुनाव प्रभारी बना तब से यह एक भी चुनाव नहीं हारी हैं. 
मायावती कहती हैं कि मैं अपने बेटे को चुनाव नहीं जितवा पाया. मायावती अगर सचमुच में बहादुर हैं तो एक नगर निगम या नगर पालिका का चुनाव जीतकर दिखा दें. मैं उन्हें बहादुर महिला मान लूंगा.
अगर कांशीराम ने यह कहा था कि नसीमुद्दीन को आगे मत बढ़ाना तो कांशीराम ने मुझे प्रांतीय सचिव क्यों बनाया था? कांशीराम की मौत के बाद मुझे राष्ट्रीय महासचिव क्यों बनाया गया? सरकार में 18 मंत्रालयों का प्रभार क्यों दिया था?
कांशीराम ने सतीशचंद्र मिश्रा के बारे में कहा था कि यह मिशन को बर्बाद कर देगा. और आज उन्होंने मिशन को बर्बाद कर दिया है.
मेंबरशिप के नामपर हजारों लोगों ने यह एफिडेविट दिया है कि सदस्यता के नाम पर उनकी प्रॉपर्टी लिखवा ली गई है.
मानवता की दुश्मन हैं मायावती
मायावती ने कहा था कि मेरठ नगर निगम चुनाव में हाजी याकूब कुरैशी को लोगों ने कट्टरपंथी मुसलमान होने के कारण वोट नहीं दिया. और मेरे कहने की वजह से बीजेपी को वोट दे दिया.
नसीमुद्दीन ने कहा कि मेरे और मेरे परिवार की सुरक्षा की पर मुख्यमंत्री ध्यान दें. उन्होंने योगी आदित्यनाथ से अपील की है कि उनकी जेड सुरक्षा बहाल की जाए.

नसीमुद्दीन ने कहा कि मेंबरशिप के नाम पर लोगों का पैसा खाया गया है. मायावती बेटी खोने या औलाद खोने का गम क्या जानें. मायावती जी अपने गुंडों से मुझ पर और मेरे परिवार पर हमला करवा सकती हैं. सीएम योगी इस मामले की संज्ञान लें. मायावती इस मानवता की दुश्मन हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi