S M L

मोदी सरकार को पता नहीं, नोटबंदी से कितने लोगों की जान गई!

नोटबंदी से हुई मौतों की संख्या की जानकारी के लिए एक आरटीआई दायर किया गया है

FP Staff | Published On: Jun 07, 2017 05:22 PM IST | Updated On: Jun 07, 2017 05:22 PM IST

0
मोदी सरकार को पता नहीं, नोटबंदी से कितने लोगों की जान गई!

नोटबंदी से हुई मौतों की संख्या की जानकारी के लिए एक आरटीआई दायर किया गया है. इसमें नोटबंदी के बाद हुई मौतों की जानकारी मांगी गई है.

अधिकतर सवालों में यह पूछा गया है कि 8 नवंबर से 30 दिसंबर तक बैंक की कतार में नोट बदलवाने के दौरान कितनी मौतें हुई. हालांकि, मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, नोटबंदी के कारण 80 लोगों को अपनी जान से हाथ धोना पड़ा.

किसी विभाग के पास नहीं है रिकॉर्ड 

इस मामले में सबसे पहली आरटीआई 26 दिसंबर को गृह मंत्रालय में लगाई गई. बता दें कि गृह मंत्रालय कानून व्यवस्था के अलावा अप्राकृतिक मौतों का रिकॉर्ड भी रखता है.

सरकार की नीयत इसी बात से साफ हो जाती है कि उसने 30 दिसंबर को इस एप्लीकेशन को राजस्व विभाग को भेज दिया. इसके बाद राजस्व विभाग ने 5 जनवरी को इसे वित्त विभाग को भेज दिया जहां पहले से ही इससे संबंधित एक एप्लीकेशन लंबित पड़ी थी.

इन सब के बावजूद बीजेपी सरकार नोटबंदी के कारण हुई मौतों पर कुछ भी कहने से बच रही है. इसके अलावा जो आरटीआई एप्लीकेशन विषय से संबंधित सरकारी महकमों में लगाई जा रही हैं. उनसे भी तथ्य सामने निकलकर नहीं आ रहे हैं.

साभार: न्यूज़18 हिंदी 

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi