S M L

नागालैंड में सत्तारूढ़ पार्टी में टकराव, 10 संसदीय सचिव बर्खास्त

पूर्व मुख्यमंत्री टीआर जेलियांग की चिट्ठी के बाद मुख्यमंत्री शुहोजेली लीजीत्सु ने यह कदम उठाया है

FP Staff | Published On: Jul 09, 2017 07:01 PM IST | Updated On: Jul 09, 2017 07:01 PM IST

0
नागालैंड में सत्तारूढ़ पार्टी में टकराव, 10 संसदीय सचिव बर्खास्त

नागालैंड सरकार विरोध प्रदर्शन के बाद अब पार्टी की आंतरिक कलह से जूझ रही है. मुख्यमंत्री शुरहोजेली लीजीत्सु ने पार्टी कलह के चलते रविवार को 10 संसदीय सचिवों को बर्खास्त कर दिया. मुख्यमंत्री ने यह कदम पूर्व मुख्यमंत्री टीआर जेलियांग की चिट्ठी के बाद उठाया गया है.

जेलियांग ने राज्यपाल को चिट्ठी लिख दावा किया था कि उनके पास 33 एनपीएफ के विधायकों और 7 निर्दलीय विधायकों का समर्थन है. एनपीएफ के सुप्रीमो और राज्य के मुख्यमंत्री ने चार एनपीएफ विधायकों और छह स्वतंत्र विधायकों को संसदीय सचिव के पद से हटा दिया है.

हालांकि इससे पहले लीजित्सु अपने निष्कासन की भी मांग कर चुके हैं. नागालैंड सरकार ने जेलियांग को सचिव और नुकलोतोशी को मुख्यमंत्री के सलाहकार के पद से बर्खास्त करने की अधिसूचना जारी कर दी है.

इसके अलावा दस विधायकों को निलंबित भी कर दिया गया है. निलंबित लोगों में गृह मंत्री यांनथुंगो पट्टॉन, ऊर्जा मंत्री किपली संगतम, नेशनल हाई-वे मंत्री जी. काइटो तथा पर्यावरण मंत्री शामिल हैं. इनके अतिरिक्त पूर्व मुख्यमंत्री जेलियांग, शेतोई, नुकलोतोशी, देव नुखु, नाइबा कोणयाक और बेंजोंगलिबा भी है. वहीं, सत्ता परिवर्तन को लेकर जेलियांग समेत 41 विधायक वर्तमान में असम के काजीरंगा नेशनल पार्क के बोरगोस रिसॉट में कैंपिंग कर रहे हैं.

पूर्व सीएम टीआर जेलियांग ने राज्यपाल पीबी आचार्य को लिखी चिट्ठी में कहा कि एनपीएफ के 47 विधायकों में से 35 विधायक (खुद को लेकर) ने मुझे एनपीएफ के विधान मंडल के नेता के रूप में जारी रखने के लिए समर्थन दिया है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi