S M L

सिर्फ 6 महीनों के लिए मिली है कुर्सी, जानिए कौन है मोदी के AK-47 नए चुनाव आयुक्त

ज्योति ने मोदी के स्वर्णिम गुजरात अभियान में अहम भूमिका निभाई थी.

Subhesh Sharma Updated On: Jul 06, 2017 12:06 PM IST

0
सिर्फ 6 महीनों के लिए मिली है कुर्सी, जानिए कौन है मोदी के AK-47 नए चुनाव आयुक्त

नसीम जैदी 6 जुलाई को मुख्य चुनाव आयुक्त (CEC) के पद से रिटायर हो गए हैं. उन्होंने अपनी सारी जिम्मेदारियां नए चुनाव आयुक्त अचल कुमार ज्योति को सौंप दी हैं. इसका मतलब ये है कि 17 जुलाई को होने वाला राष्ट्रपति और 5 अगस्त होने वाला उपराष्ट्रपति का चुनाव कराना अब ज्योति की जिम्मेदारी है. इसके अलावा साल के अंत में होने वाले गुजरात विधानसभा चुनाव भी ज्योति के नेतृत्व में ही आयोति किए जाएंगे.

ज्योति का गुजरात कनेक्शन

अचल कुमार ज्योति के बारे में अभी तक किसी ने ज्यादा कुछ नहीं सुना है. न ही इनसे जुड़ा कोई विवाद कभी सामने आया है. लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के गृहराज्य गुजरात से उनका खास कनेक्शन है.

दरअसल भारतीय प्रशासनिक सेवा में 1975 बैच के गुजरात के अधिकारी ज्योति गुजरात के मुख्य सचिव रह चुके हैं. वो जनवरी 2013 में गुजरात के मुख्य चुनाव आयुक्त के पद से रिटायर हुए थे.

उस समय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री हुआ करते थे. साथ ही वो कांडला पोर्ट ट्रस्ट के अध्यक्ष और सरदार सरोवर नर्मदा निगम लिमिटेड के प्रबंध निदेशक भी रह चुके हैं.

मोदी के हैं चहेते

अचल कुमार ज्योति को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का चहेता माना जाता है. इसके अलावा इन्हें नरेंद्र मोदी की एके-47 भी कहा जाता है. मोदी ज्योति की कई बार खुल कर तारीफ भी कर चुके हैं. ज्योति ने मोदी के स्वर्णिम गुजरात अभियान में अहम भूमिका निभाई थी.

इस दौरान उन्होंने गांवों में कई बार देर रात तक काम किया था. उनकी लगन और मेहनत मोदी को बहुत पसंद है और इसी के चलते वो कभी भी अचल कुमार ज्योति की तारीफ करने से कभी पीछे नहीं रहे.

एक बार की बात है

मोदी और अचल कुमार ज्योति से जुड़ा एक बड़ा ही अच्छा किस्सा है. माना जाता है कि मोदी के मुंह से निकली बात ज्योति के लिए पत्थर की लकीर से कम नहीं होती. करीब पांच साल पहले की बात है जब नरेंद्र मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री थे और उन्होंने अधिकारियों से कम छुट्टी लेने की बात कही थी.

मोदी ने कहा था कि अफसरों को छुट्टी लेने से बचना चाहिए. उनकी ये बात जिस अधिकारी ने सबसे अधिक गंभीरता से ली वो थे अचल कुमार ज्योति. उन्होंने अपने सीएम की बात को गंभीरता से लिया और सभी आईएएस अधिकारियों की छुट्टियां कैंसिल कर दी.

उस समय ज्योति गुजरात के मुख्य सचिव थे और गोल्डन गुजरात फेस्टिवल भी शुरू होने वाला था. इसी के चलते छुट्टियां कैंसिल करने का फरमाना सुनाया गया था.

अचल कुमार ज्योति मई 2015 में चुनाव आयुक्त के तौर पर तीन सदस्यीय चुनाव आयोग के सदस्य बने थे. बतौर चुनाव आयुक्त उनका कार्यकाल अगले 17 जनवरी, 2018 तक है. इस वक्त चुनाव आयोग में नसीम जैदी, अचल कुमार ज्योति के अलावा तीसरे चुनाव आयुक्त ओम प्रकाश रावत हैं. आपको बता दें कि नियम के अनुसार चुनाव आयुक्त का कार्यकाल छह साल का होता है और रिटायरमेंट की उम्र 65 साल होती है.

कहां हुआ जन्म

अचल कुमार ज्योति के पिता किशोर चंद ज्योति दिल्ली के आर्मी हेड क्वार्टर में चीफ स्टाफ अफसर थे, जबकि उनकी मां सुहागरानी ज्योति हाउसवाइफ थीं. दो भाइयों और एक बहन में ज्योति सबसे छोटे थे. सभी का जन्म दिल्ली में हुआ और वहीं शिक्षा प्राप्त की. इनका पैतृक आवास मिट्ठापुर ,जालंधर है, जहां उनके बड़े भाई अभय ज्योति रहते हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi