S M L

योगी की 'मजबूरी': सड़क पर नमाज नहीं रोक सकते तो जन्माष्टमी कैसे रोकें?

सीएम ने कहा, अगर माइक पर रोक लगेगी तो फिर किसी भी धार्मिक स्थल की आवाज बाहर नहीं आनी चाहिए

FP Staff Updated On: Aug 17, 2017 04:29 PM IST

0
योगी की 'मजबूरी': सड़क पर नमाज नहीं रोक सकते तो जन्माष्टमी कैसे रोकें?

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपने बयान से नया बवाल खड़ा कर दिया है. उन्होंने कहा कि अगर सड़कों पर ईद की नमाज पढ़ने से नहीं रोक सकते तो थानों और पुलिस लाइन में कृष्ण जन्माष्टमी कैसे रोक सकते हैं.

निशाने पर अखिलेश

लखनऊ के किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी (केजीएमयू) के एक कार्यक्रम में उन्होंने कहा, 'यदुवंशी कहलाने वालों ने थानों और पुलिसलाइन में जन्माष्टमी मनाने पर रोक लगा दी थी. यह हैरान करने वाला है. कांवड़ यात्रा में माइक, डीजे नहीं बज सकता था.'

उन्होंने कहा, 'हमने कहा कि प्रदेश में डीजे, माइक या अन्य उपकरण पर कोई प्रतिबंध नहीं होगा. पता नहीं कौन कांवड़ यात्री शिव अंश के रूप में आ रहा है, इसलिए हेलीकॉप्टर से पुष्प वर्षा कराई.'

सीएम ने कांवड़ियों के मुद्दे पर कहा, 'मैंने अफसरों से कहा था क‍ि रोक लगानी है तो सारे माइक और साउंड पर लगनी चाह‍िए. फिर किसी धार्मिक स्थल की आवाज बाहर नहीं आनी चाहिए. अगर ऐसा नहीं हो सकता तो कांवड़ियों पर जो बैन है, उन्हें हटा देना चाह‍िए.'

मुख्यमंत्री केजीएमयू के साइंटिफिक कन्वेंशन सेंटर में लखनऊ जनसंचार एवं पत्रकारिता संस्थान और प्रेरणा जनसंचार नोएडा की ओर से दूरस्थ शिक्षा पर प्रबोधन कार्यक्रम में बोल रहे थे.

मुख्यमंत्री ने कहा कि बाल गंगाधर तिलक ने गणेश पूजन को सांस्कृतिक उत्सव बनाया. गणेश उत्सव गांव और शहरों में मनाए जाते हैं. किसी को आपत्ति नहीं है. यहां क्रिसमस मनाइए, नमाज पढ़िए. कानून के दायरे में रहेंगे तो कोई नहीं रोकेगा. टकराव तो कानून का उल्लंघन करने पर होता है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi