विधानसभा चुनाव | गुजरात | हिमाचल प्रदेश
S M L

रामजस विवाद: लेफ्ट संगठन आज करेंगे 'फाइट बैक डीयू' मार्च

खालसा कॉलेज से लेफ्ट दलों से संबंधित छात्र संगठन और शिक्षक ने 'फाइट बैक डीयू' नाम से मार्च निकालेंगे

FP Staff Updated On: Feb 28, 2017 07:50 AM IST

0
रामजस विवाद: लेफ्ट संगठन आज करेंगे 'फाइट बैक डीयू' मार्च

रामजस कॉलेज में हुई हिंसा के बाद उठा विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है. इस मुद्दे ने अब काफी तुल पकड़ ली है और अब यह एक राजनीतिक मुद्दा बन गया है.

28 फरवरी को डीयू के खालसा कॉलेज से लेफ्ट दलों से संबंधित छात्र संगठन और शिक्षक ने 'फाइट बैक डीयू' नाम से मार्च निकालेंगे.

इन संगठनों के अनुसार रामजस कॉलेज में आयोजित सेमिनार के रद्द होने के बाद हुई हिंसा में एबीवीपी में का हाथ है. इन संगठनों ने अपने बयान में कहा कि रामजस कॉलेज में हुई हिंसा 'अभिव्यक्ति की आजादी' पर हमला है.

अभिव्यक्ति की आजादी पर हमला

उधर एबीवीपी ने कहा है कि रामजस कॉलेज में लेफ्ट के लोगों ने देशद्रोही नारे लगाए हैं. एबीवीपी ने सोमवार को  दिल्ली विश्वविद्यालय के आर्ट्स फैकल्टी में 'तिरंगा मार्च'  भी किया.

रामजस कॉलेज में सेमिनार के रद्द होने करने के फैसले को लेफ्ट संगठन अभिव्यक्ति की आजादी पर हमला कहा है. लेफ्ट संगठनों और शिक्षकों ने दिल्ली पुलिस पर एबीवीपी के लोगों को बचाने के आरोप लगाया है.

दिल्ली विश्वविद्यालय में आइसा की अध्यक्ष कंवलप्रीत ने कहा कि उमर खालिद का सेमिनार में निमंत्रण रद्द होने के बाद भी एबीवीपी ने गुंडागर्दी की. कंवलप्रीत ने यह भी कहा कि एबीवीपी यह नहीं चाहती कि डीयू में बातचीत का माहौल बने.

लेफ्ट संगठनों का कहना है कि केंद्र सरकार और आरएसएस एबीवीपी को की गुंडागर्दी को बढ़ावा दे रहा है.

अपनी मांगों के साथ कल डीयू के छात्रों-शिक्षकों के साथ-साथ जेएनयू और जामिया के लेफ्ट संगठनों के छात्र-शिक्षक भी 'फाइट बैक डीयू' मार्च में हिस्सा लेंगे.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi