विधानसभा चुनाव | गुजरात | हिमाचल प्रदेश
S M L

इंद्राणी मुखर्जी पर जेल में दंगा भड़काने का आरोप, साजिश के और कितने किरदार?

अरबों की संपत्ति की मालकिन की अतृप्त ख्वाहिशों ने अपनी ही बेटी का गला दबा दिया.

Kinshuk Praval Kinshuk Praval Updated On: Jun 26, 2017 06:59 PM IST

0
इंद्राणी मुखर्जी पर जेल में दंगा भड़काने का आरोप, साजिश के और कितने किरदार?

इंद्राणी मुखर्जी मुंबई की भायखला जेल में बंद है. इंद्राणी मुखर्जी पर अपनी बेटी शीना बोरा की हत्या का आरोप है.

लेकिन अब एक नया आरोप इंद्राणी पर मुंबई पुलिस ने लगाया है. भायखला जेल में एक कैदी की मौत के बाद हुए विद्रोह में इंद्राणी का नाम सामने आया है. जेल की 200 महिला कैदियों ने जेल में भारी हंगामा किया.

मुंबई पुलिस का मानना है कि इंद्राणी ने न सिर्फ महिला कैदियों को भड़काया बल्कि बच्चों को ढाल बनाने की सलाह भी दी. जेल के भीतर से मिली तस्वीरों में इंद्राणी मुखर्जी जेल में हुए विद्रोह के समय जेल की छत पर दूसरी महिला कैदियों के साथ खड़ी दिखाई दे रही है.

दरअसल मंजुला शेट्टी नाम की महिला कैदी की मौत के बाद जेल में कोहराम मच गया . उसके बाद जेल में हुए हंगामे में कई महिला कैदी घायल हो गईं. साजिश के सूत्रधारों में इंद्राणी पर भी आरोप लगा.

जेल में पति के खिलाफ साजिश का आरोप

इससे पहले भी इंद्राणी पर जेल में अपने पति पीटर मुखर्जी के खिलाफ साजिश रचने का आरोप लगा था. पीटर के वकील ने ये शिकायत की थी कि इंद्राणी अपने पति पीटर मुखर्जी के फर्जी दस्तखत कर उनका पूरा पैसा हड़पना चाहती है. इंद्राणी ने अपने पति के फर्जी दस्तखत करके दो बैंकों को चिट्ठी तक भेज दी थी. इंद्राणी ने उन लेटर में लिखा था कि पीटर मुखर्जी अपना हक सरेंडर कर रहे हैं. इंद्राणी ने ये पत्र मुंबई के सिंडिकेट बैंक और न्यूजीलैंड के एक बैंक को लिखा था.

Indrani Mukerjea 1

इंद्राणी के 'इंद्रजाल' में कई हैं रहस्य

याद नहीं आता कि हिंदी सिनेमा में क्या इंद्राणी मुखर्जी जैसा कोई किरदार कभी पर्दे पर उतरा. शायद ही किसी लेखक ने वैम्प का किरदार इंद्राणी जैसा सोचा या लिखा होगा?

दरअसल भारतीय समाज की एक तस्वीर ऐसी है कि यहां नारी का रूप शक्ति है तो शोषित भी है. यहां नारी पूज्य है तो पीड़ित भी है. नारी कमजोर हो सकती है लेकिन क्रूर नहीं. उसके अवचेतन में ममता या सहृदयता का ही अहसास बसता है.

सास-बहू के टीवी सीरियलों को छोड़ दें तो साजिश की कहानियों का सूत्रधार पुरुष वर्ग ही होता है और महिलाएं उसका हिस्सा.

लेकिन इंद्राणी में मायाजाल में जैसे-जैसे मुंबई पुलिस शीना बोरा हत्याकांड के करीब पहुंची और जो राज खुले उनमें हर साजिश के पीछे इंद्राणी का अपना दिमाग था.

इंद्राणी का मायाजाल और रिश्तों का मकड़जाल

इतने रिश्ते बने और तोड़े जा चुके थे कि कौन बेटा या कौन भाई या फिर कितने पति या फिर और कितने संबंध, इंद्राणी की खत्म होती कहानी में हर बार एक नया अध्याय जोड़ देते थे.

परी से इंद्राणी बनी हाईप्रोफाइल देश की युवा सीईओ के शातिर दिमाग की जिंदगी का हर कदम पहेलियो सा उलझा हुआ था.

देश की सबसे बड़ी मर्डर मिस्ट्री में से एक शीना बोरा हत्याकांड की हकीकत जितनी चौंकाने वाली थी उससे ज्यादा उसकी जांच में सामने आने वाले खुलासे.

इंद्राणी की ज़िंदगी में रिश्ते बोझ के समान थे

कमसिन उम्र में सिद्धार्थ दास नाम के शख्स के साथ इंद्राणी का प्यार होना न आरंभ था न अंत. दो बच्चे शीना और मिखाइल का जन्म पहले प्यार की निशानी जरूर थे लेकिन इंद्राणी की बेचैनी और असंतोष में उलझी जिंदगी किसी एक ठिकाने पर टिकी नहीं रहना चाहती थी. सिद्धार्थ से अलग होने के बाद संजीव खन्ना से शादी हुई फिर विधि खन्ना नाम की बेटी का जन्म हुआ.

इंद्राणी के लिये रिश्ते बोझ के समान थे जिन्हें वो ज्यादा ढो नहीं सकती थी. संजीव खन्ना के साथ वो अलग हुई और उसने पीटर मुखर्जी से शादी की. पीटर उस वक्त मीडिया वर्ल्ड की सबसे पावरफुल शख्सीयत थे. पीटर ने स्टार इंडिया को अलविदा कह कर आईएनएक्स नेटवर्क की नींव रखी तो इंद्राणी उसकी सीईओ बनी.

लेकिन इस ग्लैमरस प्रोफेशन के पीछे इंद्राणी के दिमाग में शीना-मिखाइल और पुराने रिश्तों का झंझवात भी चल रहा था. हर पुराने रिश्ते को छुपाने के लिये नया रिश्ता गढ़ना इंद्राणी की फितरत का हिस्सा था.

खुद पीटर मुखर्जी भी नहीं जानते थे कि इंद्राणी के कितने पति थे. न ही पीटर मुखर्जी को इंद्राणी के बच्चों के बारे में सही जानकारी थी.

इंद्राणी ने अपना इंद्रजाल खुद रचा. बेटी शीना बोरा को बहन बताया. इंद्राणी को यह बात समझाने में इसलिये भी ज्यादा मुश्किल नहीं हुई क्योंकि 17 साल की उम्र में उसने शीना को जन्म दिया था. जाहिर तौर पर दोनों की उम्र का फासला नए गढ़े रिश्ते के झूठ को सच बनाने के लिये काफी हो सकता था.

लेकिन इस झूठ के बाद जो झूठ के सिलसिले चले वो हैरान कर देने वाले थे.

जब शीना बोरा लापता थी तब ये बताया गया था कि वो अमेरिका में है. अपने पति के बेटे राहुल के साथ शीना लिव इन में रह रही थी और फिर अचानक ही वो लापता हुई.

फाइल फोटो-न्यूज 18

शीना शायद ही कभी अमेरिका से वापस हिंदुस्तान लौटती अगर इंद्राणी का ड्राइवर अवैध हथियार रखने के मामले में गिरफ्तार नहीं होता. गिरफ्तार हुए ड्राइवर श्यामवर राय ने ही शीना बोरा की हत्या का राज़ खोला जिसके बाद  इंद्राणी की जिंदगी के सारे राज़ एक एक कर बेपर्दा होते चले गए. शीना अमेरिका की बजाए दुनिया से ही रुखसत हो चुकी थी.

इंद्राणी न अच्छी बेटी साबित हुई न मां और न पत्नी. अपनी ही बेटी का अपनी आंखों के सामने गला घोंटते देखती रही. हत्या के बाद अपनी बेटी की लाश को सजाने और ठिकाने लगाने का भी काम किया.

अरबों की संपत्ति की मालकिन की अतृप्त ख्वाहिशों ने अपनी ही बेटी का गला दबा दिया. उसके लिये रिश्ते सिर्फ नाम के और वक्त की उमर के साथ जरूरतों के हिसाब से बंधे रहे. एक ही जिंदगी में इतने सारे रिश्तों के मकड़जाल बुनने वाली इंद्राणी ने एक ही झटके में सारे रिश्तों को तार तार भी कर दिया.

जेल से बाहर आई तस्वीर में इंद्राणी के चेहरे पर प्रायश्चित आज भी नहीं दिखाई देता है. अगर अफसोस की एक लकीर भी उसके माथे के किसी कोने पर होती तो शायद दिमाग के भीतर चल रही साजिशों की फैक्ट्री बंद हो चुकी होती.

जेल में विद्रोह कराने की साजिश रचने का नया आरोप साबित करता है कि इंद्राणी मुखर्जी में बदलाव नहीं आया है.

 

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi