विधानसभा चुनाव | गुजरात | हिमाचल प्रदेश
S M L

LIVE हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव 2017: वोटिंग में आई तेजी, 2 बजे तक 54 फीसदी मतदान

मैदान में 62 विधायकों सहित 337 उम्मीदवार अपनी किस्मत आजमा रहे हैं

Bhasha | November 09, 2017, 02:47 PM IST

0

हाइलाइट

Nov 9, 2017

  • 16:34(IST)

    हिमाचल विधानसभा चुनाव में कुल्लू जिले में 3 बजे तक 66.14%, बंजार में 64.74 प्रतिशत, आनी में 59.07 और मनाली में 65.91 प्रतिशत वोट दर्ज हुए हैं.

  • 16:07(IST)

    मनाली विधानसभा क्षेत्र के बाशिंग में दूल्हे ने भी दिया वोट.

  • 16:06(IST)

  • 16:04(IST)

    हिमाचल प्रदेश का बिलासपुर जिला एक  ऐसा जिला है जहां  किसी भी दल की कोई महिला प्रत्याशी चुनाव मैदान में नही है. यहां 14,6819 महिला मतदाता हैं. चुनाव प्रचार में महिलाएं पुरुषों की अपेक्षा आगे रही हैं. यह केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री जगत्प्रकाश नड्डा का गृह-जिला है. नड्डा ने यहां चुनाव से पहले एम्स जैसी संस्था का शिलान्यास करके भारी राजनैतिक दांव खेला था. इस जिले में मतदाता बीजेपी द्वारा नड्डा को मुख्यमंत्री घोषित न करने के हाईकमान के निर्णय पर भी मतदान द्वारा अपनी राय व्यक्त करेंगे. जिला बिलासपुर के 2,98,822 मतदाता जिले के 14 प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला करेंगे. इस जिले में चुनाव लड़ रहे प्रत्याशियों पर कोई अपराधिक मामला नहीं है. यहां मतदान के लिए 394 मतदान केंद्र बनाए गए हैं. इनमें से 15 संवेदनशील और 7 अतिसंवेदनशील मतदान केंद्र हैं.


    मातुल सक्सेना - वरिष्ठ पत्रकार

  • 15:32(IST)

    हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव 2017: परिवार के साथ वोट देकर निकलते बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष सत्तपाल सत्ती

  • 15:29(IST)

  • 15:01(IST)

    मातुल सक्सेना - वरिष्ठ पत्रकार

    हिमाचल प्रदेश की तेरहवीं विधानसभा के चुनाव प्रचार में भारतीय जनता पार्टी की मेहनत यदि पूरी तरह सफल नहीं हुई तो पार्टी की साख को नि:संदेह गहरा धक्का पहुंचेगा जिसका दूरगामी परिणाम पार्टी की कारगुजारी पर पड़ सकता है. पार्टी ने पहली बार केंद्रीय नेताओं की भारी भरकम फौज हिमाचल में प्रचार के लिए झोंक दी है. प्रधानमंत्री मोदी और अमित शाह की जोड़ी स्वयं इन चुनावों की देख-रेख के लिए प्रदेश में कई दिनों तक प्रवास पर रही. इसके इलावा केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथसिंह, स्मृति ईरानी, थावरचंद गहलोत, उतराखंड और उतरप्रदेश के मुख्य मंत्री बीजेपी के चुनाव प्रचार में आकर्षण का केंद्र रहे.

    पूरा पढ़ें : हिमाचल चुनाव 2017: अगर भारी जीत नहीं मिली तो बीजेपी की साख पर उठेंगे सवाल

  • 14:56(IST)

  • 14:50(IST)

    हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव में वोटिंग ने रफ्तार पकड़ी है. दोपहर दो बजे तक 54.09 प्रतिशत वोटिंग दर्ज की गई है. 

  • 14:45(IST)

    वरिष्ठ कांग्रेसी नेता विद्या स्टोक्स ने  शिमला के बारूबाग में अपना वोट डाला

  • 13:59(IST)

    जिला बिलासपुर: जहां कोई महिला प्रत्याशी चुनाव मैदान में नहीं 
    मातुल सक्सेना - वरिष्ठ पत्रकार
     हिमाचल प्रदेश का बिलासपुर जिला एक  ऐसा जिला है जहां  किसी भी दल की कोई महिला प्रत्याशी चुनाव मैदान में नही है  यहाँ तक कि निर्दलीय भी नहीं जबकि यहाँ 14,6819 महिला मतदाता हैं और चुनाव प्रचार में महिलाएं पुरुषों की अपेक्षा  सबसे आगे  रही हैं . क्योंकि यह   केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री जगत्प्रकाश नड्डा का  गृह-जिला है इसलिए जिला  बिलासपुर  की चार सीटों पर  आज का मतदान  नड्डा  की  प्रतिष्ठा का  भी आकलन करेगा. नड्डा ने यहाँ चुनाव से पूर्व  एम्स  जैसी संस्था  का  शिलान्यास करके भारी राजनैतिक दाँव खेला था. इस जिले में मतदाता बीजेपी द्वारा नड्डा को मुख्यमंत्री घोषित न करने के हाईकमान के निर्णय पर भी मतदान द्वारा  अपनी राय व्यक्त करेंगे.  जिला बिलासपुर के 2,98,822 मतदाता जिले के 14 प्रत्याशियों  के  भाग्य का फैसला करेंगे. इस जिले में  चुनाव लड़ रहे प्रत्याशियों पर कोई अपराधिक  मामला नही है. यहाँ मतदान के लिए 394 मतदान केंद्र बनाये गए हैं जिनमे से 15 संवेदनशील और 7 अतिसंवेदनशील मतदान केंद्र हैं.  यहाँ के मतदाता  अधिकांश भाखड़ा बाँध विस्थापित हैं जो समय- समय पर अपनी मांगों को ले कर मुखर होते रहते हैं.

  • 13:56(IST)

  • 13:54(IST)

  • 13:53(IST)

  • 13:40(IST)

    हिमाचल में वोटिंग के अजब-गजब रंग दिखे. कहीं सौ साल से ज्यादा बुजुर्ग ने वोटा डाला तो कहीं दूल्हे ने फेरों से पहले पोलिंग बूथ के फेरे लिये. मनाली के बाशिंग गांव में ऐन शादी से पहले दूल्हे ने अपना वोट डाला.

  • 12:38(IST)

    दोपहर 12 बजे तक हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव में 28.6 फीसदी मतदान हुआ है.

  • 12:04(IST)

  • 11:44(IST)

  • 11:39(IST)

    केंद्रीय मंत्री जे पी नड्डा ने हिमाचल प्रदेश के बिलासपुर में अपना वोट डाला.

  • 11:38(IST)

    हिमाचल प्रदेश के मतदाता परिवारवाद पर भी आज मोहर लगायेंगे 
    मातुल सक्सेना - वरिष्ठ पत्रकार

    हिमाचल प्रदेश के मतदाता राष्ट्रीय स्तर के एक महत्वपूर्ण मुद्दे पर भी मतदान के माध्यम से निर्णायक फैसला देंगे. वास्तव में प्रदेश में कांग्रेस पार्टी के दिग्गज नेताओं के पुत्र-पुत्रियां इस बार चुनाव मैदान में अपनी  किस्मत आजमाईश कर रहे हैं. परिवारवाद  का आरोप  चुनाव-प्रचार के दौरान बीजेपी ने कांग्रेस पर लगाया था. परिवारवाद का दंश प्रत्यक्ष तौर पर मंडी, शिमला ग्रामीण ,पालमपुर और चम्बा के मतदाता झेल रहे हैं. शिमला(ग्रामीण)से मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह के पुत्र विक्रमादित्य चुनाव लड़ रहे हैं. उनके पिता वीरभद्र सिंह ने यह  सीट उनके लिए छोड़ दी थी और खुद अर्की से चुनाव  मैदान में  हैं. पालमपुर के कांग्रेसी उम्मीदवार आशीष बुटेल वर्तमान  विधानसभा स्पीकर  बृजबिहारी लाल बुटेल के बेटे हैं. बुटेल  स्वयं चुनाव  मैदान से हट गए  और  अपने पुत्र  आशीष बुटेल को टिकट दिलवाई. आशीष बुटेल अपने पिता के किये गए कार्यों  पर वोट मांग रहे हैं. बृज बिहारी लाल बुटेल और वीरभद्र सिंह अपनी राजनैतिक विरासत  इस बार अपने बच्चों को सौंपने के लिए अति उत्सुक थे. जिसके परिणामस्वरूप टिकट आवंटन में भी विलम्ब हुआ था. वीरभद्र सिंह के पुत्र विक्रमादित्य के खिलाफ जो प्रत्याशी मैदान में हैं  उनकी युवाओं में अच्छी पैठ है. वे इससे पहले भी चुनावों में अपनी किस्मत आजमा चुके हैं. वीरभद्र के पुत्र  पहली बार चुनाव लड़ रहे हैं. इस निर्वाचन क्षेत्र में 71,915मतदाता हैं जिनमें से 37,271 पुरुष मतदाता हैं और 34,644 महिला मतदाता हैं. विक्रमादित्य प्रदेश यूथ कांग्रेस के प्रधान भी हैं. उधर मंडी में कद्दावर नेता ठाकुर कौल सिंह की पुत्री चम्पा ठाकुर भी  कांग्रेस टिकट पर पंडित सुखराम के पुत्र अनिल शर्मा के खिलाफ चुनाव लड़ रही हैं. अनिल शर्मा ने हाल ही मैं कांग्रेस छोड़ बीजेपी का दामन थामा है. चम्बा में कांग्रेसी नेता स्वर्गीय सागर चन्द नैय्यर के पुत्र नीरज  नैय्यर चुनाव लड़ रहे हैं.  अगर इन प्रत्याशियों में  से 2-3  प्रत्याशी चुनाव जीत  गए तो  मानना पड़ेगा राजनीति में परिवारवाद को हिमाचल के मतदाताओं ने कोई अहमियत नहीं दी है.

  • 11:25(IST)

    शिमला जिले की आठ विधानसभा सीटों पर साढे दस बजे तक 18.07 पोलिंग हुई.

  • 11:25(IST)

  • 11:23(IST)

    कुल्लू के 4 विधानसभा क्षेत्रों में मतदान में तेज़ी
    आनी में 10 बजे तक 16.76 %
    मनाली में 16.15%
    बंजार में 15%
    और 
    कुल्लू में 12.78% मतदान 

  • 10:44(IST)

    हिमाचल प्रदेश में पहले दो घंटे में 13.72 प्रतिशत मतदान

  • 10:21(IST)

    मनाली विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र हिमाचल प्रदेश विधानसभा की सीट नंबर 22 है. कुल्लू जिले में स्थित ये निर्वाचन क्षेत्र अनारक्षित है. ये क्षेत्र साल 2008 में, विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रों के परिसीमन के अनुसरण में अस्तित्व में आया. 2012 में इस क्षेत्र में कुल 60,818 मतदाता थे. 2012 के विधानसभा चुनाव में गोविंद सिंह ठाकुर इस क्षेत्र के विधायक चुने गए. मनाली हिमाचल प्रदेश का प्रसिद्ध पर्यटक स्थल है. मनाली विधानसभा क्षेत्र के वरिष्ठ कांग्रेस नेता हरि चंद शर्मा ने कांग्रेस पार्टी से चुनाव लड़ने की दावेदारी पेश की है. उन्होंने सशक्त दावेदारी पेश करते हुए जिला अध्यक्ष बुद्धि सिंह ठाकुर को उन्होंने लिखित आवेदन पेश किया है.

    पूरा पढ़ें: हिमाचल चुनाव 2017: मनाली में बीजेपी के गोविंद सिंह ठाकुर और कांग्रेस के हरि चंद शर्मा आमने-सामने

  • 10:09(IST)

    मंडी जिले के सुंदर नगर विधानसभा पहले तो बीजेपी का गढ़ रहा है, लेकिन पिछले कुछ समय से कांग्रेस ने अपनी पकड़ यहां बना ली है. 27 नवंबर विधानसभा क्षेत्र संख्या का यह सीट अनारक्षित है. इस समय बीजेपी की तरफ से उम्मीदवार राकेश जमवाल हैं, वहीं कांग्रेस की ओर से सोहनलाल ठाकुर मैदान में हैं. वे इस विधानसभा क्षेत्र के निवर्तमान विधायक भी हैं. सोहनलाल ठाकुर साल 2003 में भी यहां के विधायक चुने गए थे. राकेश जमवाल पिछले विधानसभा चुनाव में तीसरे नंबर पर रहे थे. निर्दलीय उम्मीदवार रूप सिंह ठाकुर दूसरे नंबर पर थे. वे पिछली विधानसभा चुनाव में टिकट ना मिलने पर बागी हो गए थे. साल 2012 में हुए विधानसभा चुनाव के वक्त यहां कुल 67,271 मतदाता थे.

    पूरा पढ़ें: हिमाचल चुनाव 2017ः क्या बीजेपी सुंदरनगर विधानसभा सीट फिर से हासिल कर पाएगी?

  • 10:03(IST)

    शिमला में हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह और उनके बेटे विक्रमादित्य ने वोट डाला. वीरभद्र ने भारी बहुमत से जीत कर सरकार बनाने का दावा किया.

  • 10:01(IST)

    इस बार हिमाचल प्रदेश में बीजेपी सत्ता वापसी की पुरजोर कोशिश में लगी है. इस लिहाज से शिमला जिले के जुब्बल-कोटखाई की सीट बहुत ही खास है. वैसे तो ऐतिहासिक रूप से इस सीट पर अधिकतर बार कांग्रेस को जीत मिलती रही है. लेकिन 2007 में बीजेपी के नरेंद्र बरागटा ने कांग्रेस के रोहित ठाकुर को लगभग 3000 वोटों से हराकर पहली बार इस सीट पर बीजेपी का परचम लहराया था. तत्कालीन बीजेपी सरकार में वे बागबानी मंत्री भी रहे. 2012 में कांग्रेस के रोहित ठाकुर ने एक बार फिर से वापसी करते हुए बीजेपी के नरेंद्र बरागटा को लगभग 9000 वोटों के अंतर से करारी मात दी. 2003 में भी कांग्रेस के टिकट पर रोहित ठाकुर विजयी हुए थे.

    पूरा पढ़ें: हिमाचल चुनाव 2017: क्या जुब्बल-कोटखाई में इस बार वापसी कर पाएगी बीजेपी!

  • 09:59(IST)

    हमीरपुर में बीजेपी के सीएम उम्मीदवार प्रेम कुमार धूमल और बीजेपी सांसद अनुराग ठाकुर ने वोट डाला

  • 09:59(IST)

    हमीरपुर में बीजेपी के सीएम उम्मीदवार प्रेम कुमार धूमल और बीजेपी सांसद अनुराग ठाकुर ने वोट डाला

LIVE हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव 2017: वोटिंग में आई तेजी, 2 बजे तक 54 फीसदी मतदान

पहाड़ी राज्य हिमाचल प्रदेश में विधानसभा चुनाव के लिए मतदान शुरू हो गया है. राज्य के सभी 68 निर्वाचन क्षेत्रों में पारंपरिक प्रतिद्वंद्वी कांग्रेस और बीजेपी के बीच मुकाबला है. मैदान में 62 विधायकों सहित 337 उम्मीदवार अपनी किस्मत आजमा रहे हैं.

मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह, 10 मंत्री, 8 मुख्य संसदीय सचिव, विधानसभा के उपाध्यक्ष जगत सिंह नेगी, पूर्व मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल और एक दर्जन से ज्यादा पूर्व मंत्री समेत अन्य चुनावी मुकाबले में हैं.

बीजेपी सभी 68 सीटों पर चुनाव लड़ रही है

मुख्यमंत्री के नेतृत्व में सत्तारूढ़ कांग्रेस और पूर्व मुख्यमंत्री धूमल की अगुवाई में बीजेपी सभी 68 सीटों पर चुनाव लड़ रही है. बीएसपी 42 सीट पर, इसके बाद सीपीएम 14 सीट पर, स्वाभिमान पार्टी और लोक गठबंधन पार्टी छह-छह सीटों पर और सीपीआई 3 सीटों पर मैदान में है.

मंगलवार को समाप्त हुए 12 दिवसीय सघन प्रचार अभियान में बीजेपी और कांग्रेस के स्टार प्रचारकों ने 450 से ज्यादा रैलियां कीं. बीजेपी के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी प्रमुख अमित शाह ने 6 और 7 रैलियों को संबोधित किया. कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने 3 रैलियों को संबोधित किया.

नोटबंदी को लेकर कांग्रेस पर किया प्रहार

भ्रष्टाचार को मुख्य मुद्दा बनाकर प्रचार अभियान में बीजेपी ने मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह पर जमकर निशाना साधा जबकि कांग्रेस ने जीएसटी और नोटबंदी को लेकर कांग्रेस पर प्रहार किया .

झंडुता में सबसे कम उम्मीदवार हैं जहां सीधा मुकाबला है. वहीं धर्मशाला में सबसे ज्यादा 12 उम्मीदवार मैदान में हैं .बीजेपी ने पूर्व मंत्री अनिल शर्मा सहित चार पूर्व कांग्रेसी और चौपाल से एक निर्दलीय को टिकट दिया है जबकि कांग्रेस ने पोंटा साहिब और कांगड़ा से दो निर्दलीय को उतारा है.

मुख्यमंत्री वीरभ्रद सिंह और पूर्व मुख्यमंत्री धूमल दोनों अपनी सीट बदल चुके हैं और सुजानपुर से लड़ रहे हैं .मंडी सदर सीट से पूर्व दूरसंचार मंत्री सुखराम के बेटे अनिल शर्मा (भाजपा) के खिलाफ कांग्रेस के मंत्री कौल सिंह ठाकुर की बेटी चंपा ठाकुर किस्मत आजमा रही हैं.

कांग्रेस के एक दर्जन से ज्यादा बागी  विधायक मुकाबले में

वर्तमान में राज्य की 68 सदस्यीय विधानसभा में कांग्रेस और बीजेपी के 35 और 28 विधायकों के साथ चार निर्दलीय हैं. एक सीट खाली है.चुनावों में 180 से ज्यादा निर्दलीय और कांग्रेस के एक दर्जन से ज्यादा बागी मुकाबले में हैं. कुल 50,25,941 योग्य मतदाता हैं.राज्य में 7,525 मतदान केंद्र बनाए गए हैं.

मुख्य निर्वाचन अधिकारी पुष्पेंद्र राजपूत ने बताया कि सुरक्षा के लिए पुलिस और होमगार्ड के 17,850 कर्मियों के अलावा केंद्रीय अर्द्धसैन्य बल की 65 कंपनियां तैनात की गयी है.

वेब कास्टिंग का होगा इस्तेमाल 

पारदर्शी और निर्बाध चुनाव के लिए पर्याप्त इंतजाम किए गए हैं.समूचे राज्य में 29 जनरल, तीन पुलिस, 22 व्यय पर्यवेक्षक और 71 सहायक व्यय पर्यवेक्षक, 1561 माइक्रो पर्यवेक्षकों के साथ 193 सेक्टर मजिस्ट्रेट और 789 सेक्टर ऑफिसर तैनात किए गए हैं.

सीईओ ने कहा कि ईसीआई द्वारा राज्य में चुनावी गतिविधियों की लाइव मॉनिटरिंग के लिए राज्य में 2307 मतदान केंद्रों में वेब कास्टिंग का इस्तेमाल किया जाएगा और सुबह 8 बजे से शाम 5 बजे तक मतदान होगा . पहली बार विधानसभा चुनाव में वीवीपीएटी मशीनों का इस्तेमाल हो रहा है और 10 प्रतिशत ईवीएम और वीवीपीएटी को रिजर्व में रखा गया है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi