विधानसभा चुनाव | गुजरात | हिमाचल प्रदेश
S M L

हिमाचल चुनाव 2017: ज्वाली सीट पर बीजेपी ने पुराने पर खेला दांव तो कांग्रेस ने उतारा नया चेहरा

कांगड़ा में आने वाली ज्वाली सीट से कांग्रेस ने चंद्र कुमार को टिकट दिया है. वहीं बीजेपी ने इस सीट के लिए अपने पुराने नेता अर्जुन सिंह ठाकुर को उम्मीदवार बनाया है

FP Staff Updated On: Oct 28, 2017 08:35 PM IST

0
हिमाचल चुनाव 2017: ज्वाली सीट पर बीजेपी ने पुराने पर खेला दांव तो कांग्रेस ने उतारा नया चेहरा

हिमाचल प्रदेश में चुनाव होने वाले हैं. ऐसे में कांग्रेस और बीजेपी चुनाव जीतने के लिए हर संभव कोशिश कर रही है. इस चुनाव में हिमाचल के कांगड़ा में आने वाली ज्वाली सीट भी काफी मायने रखती है. वैसे तो कांगड़ा में आने वाली सभी 15 सीट सरकार बनाने के लिए काफी अहम होती हैं. इस सीट को जीतकर सरकार बनाने का रास्ता काफी हद तक साफ हो जाता है.

इस बार कांग्रेस की तरफ से ज्वाली से चंद्र कुमार मैदान में हैं. वहीं बीजेपी ने अर्जुन सिंह ठाकुर को अपना उम्मीदवार बनाया है. दोनों ही उम्मीदवारों के बीच कांटे की टक्कर होने वाली है. अर्जुन सिंह पहले भी इस सीट से अपना हाथ आजमा चुके हैं. वहीं चंद्र कुमार के लिए इस सीट से चुनौती नई है. इससे पहले 2012 की बात करें तो इस सीट से कांग्रेस उम्मीदवार नीरज भारती ने जीत हासिल की थी. 2012 में नीरज को 23,798 वोट मिले थे. दूसरा स्थान पाने वाले बीजेपी उम्मीदवार अर्जुन सिंह को 19,364 वोट मिले थे. वहीं प्रतिशत की नजर से देखें तो विजय हासिल करने वाले नीरज भारती को 41.56 प्रतिशत वोट मिले थे. वहीं अर्जुन सिंह को 33.82 प्रतिशत वोट.

इस बार कांग्रेस से पिछले चुनाव में विजयी उम्मीदवार नीरज भारती को टिकट नहीं मिला है. इससे नीरज के समर्थकों में खासी नाराजगी भी है. पार्टी ने इसबार चंद्र कुमार पर अपना दांव खेला है. इस लड़ाई को बीजेपी उम्मीदवार अर्जुन सिंह ठाकुर और कांग्रेस उम्मीदवार चंद्र कुमार के बीच कांटे की टक्कर के रूप में भी देखा जा रहा है. 2012 में अर्जुन सिंह नीरज भारती से मात्र 4,434 वोटों से हारे थे. इस बार केंद्र में मोदी सरकार का फायदा बीजेपी पूरे राज्य में लेना चाहेगी. इसलिए चंद्र कुमार के लिए बीजेपी से टक्कर लेना भी एक बड़ी चुनौती होगी.

बीजेपी का कहना है कि राज्य में कांग्रेस की सरकार के खिलाफ लोगों के बीच काफी गुस्सा है. इसका खामियाजा पार्टी को आने वाले चुनावों में भी भुगतना पड़ सकता है, लेकिन कांगड़ा के अंतर्गत आने वाली ज्वाली सीट पर बीजेपी को टक्कर देने के लिए पार्टी कोई कोर-कसर नहीं छोड़ना चाहती.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi