विधानसभा चुनाव | गुजरात | हिमाचल प्रदेश
S M L

गुजरात चुनाव बताएगा कौन ‘जबर्दस्त नेता’ है और कौन ‘जबर्दस्ती का’ नेता: केशव प्रसाद मौर्य

मौर्य ने कहा कि गुजरात विधानसभा चुनाव में बीजेपी एक बड़ी जीत दर्ज करने जा रही है, गुजरात में एक ही नेता है और वह हैं हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

Bhasha Updated On: Nov 12, 2017 07:41 PM IST

0
गुजरात चुनाव बताएगा कौन ‘जबर्दस्त नेता’ है और कौन ‘जबर्दस्ती का’ नेता: केशव प्रसाद मौर्य

उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने गुजरात विधानसभा चुनाव में बीजेपी की जीत का विश्वास जताते हुए आज कहा कि परिणाम यह साबित करेगा कि कौन एक ‘जबर्दस्त नेता’ है और कौन ‘जबर्दस्ती का’ नेता है.

मौर्य हिमाचल प्रदेश में पार्टी के चुनावी संभावनाओं को लेकर भी आशावादी हैं. उन्होंने कहा, ‘पार्टी हिमाचल प्रदेश में बहुमत से जीत दर्ज करेगी.’

उन्होंने यहां पीटीआई से एक साक्षात्कार में कहा, ‘गुजरात विधानसभा चुनाव में बीजेपी एक बड़ी जीत दर्ज करने जा रही है. गुजरात में एक ही नेता है. वह हैं हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी. मैं आपको बताना चाहता हूं कि गुजरात विधानसभा चुनाव का परिणाम यह साबित करेगा कि कौन एक ‘जबर्दस्त नेता’ है और कौन ‘जबर्दस्ती का’ नेता है.’

उत्तर प्रदेश में निकाय चुनाव पर उप मुख्यमंत्री ने कहा, ‘2014 के लोकसभा चुनाव और 2017 के उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में कमल खिला था. शहरी निकाय चुनाव में फिर कमल खिलेगा.’

उन्होंने कहा, ‘बीजेपी पूर्व में भी शहरी निकाय चुनाव जीतती आई है. यह प्रवृत्ति जारी रहेगी. राज्य के लोग भी जानते हैं जब केंद्र, राज्य और शहरी निकायों में बीजेपी की सरकार होगी तो विकास में कोई बाधा नहीं आएगी.’

सहयोगी पार्टियों से नहीं है तनाव

मौर्य ने बीजेपी के विधानसभा सहयोगी दलों अपना दल और सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के साथ संबंध में तनाव की आशंकाओं को खारिज किया. उन्होंने कहा, ‘चुनाव सहयोगी दलों के साथ हमारे संबंधों में कोई तनाव नहीं आएगा, न ही हम यह होने देंगे.’

हाल में अपना दल ने शहरी निकाय चुनाव नहीं लड़ने जबकि सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी ने अकेले चुनाव लड़ने का फैसला किया था.

लोकनिर्माण विभाग प्रभार संभाल रहे मौर्य ने कहा कि उत्तर प्रदेश सड़कों के निर्माण में नयी प्रौद्योगिकी का इस्तेमाल कर रहा है.

उन्होंने कहा, ‘वर्तमान में हम जिस प्रौद्योगिकी का इस्तेमाल कर रहे हैं वह शायद सर्वश्रेष्ठ है. हाल में महाराष्ट्र की एक टीम ने हमारी प्रौद्योगिकी समझने और उसे अपनाने के लिए उत्तर प्रदेश का दौरा किया था. हम नई सड़कें बनाने के लिए पुरानी चीजों को रिसाइकल कर रहे हैं.’

उन्होंने कहा, ‘इससे सड़कों का जीवन करीब 30 प्रतिशत बढ़ जाएगा जबकि लागत भी लगभग 30 प्रतिशत कम हो जाएगी. सड़क निर्माण में लगने वाला समय भी कम हो जाएगा.’ उन्होंने यह भी बताया कि नगर निगमों के तहत आने वाली सड़कों का निर्माण प्लास्टिक कचरे से करने की योजना है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi