विधानसभा चुनाव | गुजरात | हिमाचल प्रदेश
S M L

यूपी के पूर्व मंत्री गायत्री प्रजापति 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजे गए

प्रजापति और उनके दो कथित सहयोगियों को मंगलवार को पाक्सो की विशेष अदालत ने जमानत दी थी

Bhasha Updated On: Apr 26, 2017 11:08 PM IST

0
यूपी के पूर्व मंत्री गायत्री प्रजापति 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजे गए

उत्तर प्रदेश के पूर्व काबीना मंत्री गायत्री प्रजापति को बलात्कार के मामले में विशेष अदालत से राहत जरूर मिली लेकिन एक स्थानीय अदालत ने आज उन्हें एक अन्य मामले में 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया.
प्रजापति और उनके दो कथित सहयोगियों को मंगलवार को पाक्सो की विशेष अदालत ने जमानत दी थी.
आईपीएस अधिकारी की पत्नी ने किया था मुकदमा 
वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी अमिताभ ठाकुर की पत्नी सामाजिक कार्यकर्ता नूतन ठाकुर द्वारा दर्ज मामले में मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट संध्या श्रीवास्तव ने प्रजापति को न्यायिक हिरासत में भेजा है.
नूतन ने 20 जून 2015 को गोमतीनगर थाने में प्राथमिकी दर्ज करायी थी, जिसमें आरोप था कि प्रजापति ने उन्हें और उनके पति को बलात्कार के ‘पूर्णतया फर्जी’ आरोपों और अन्य आरोपों में फंसाने के लिए राज्य महिला आयोग की तत्कालीन अध्यक्ष जरीना उस्मानी के साथ मिलकर षड्यंत्र रचने की मंशा से अपने राजनीतिक और प्रशासनिक प्रभाव का इस्तेमाल किया था.
पुलिस ने शुरूआत में यह कहते हुए कोई कार्रवाई नहीं की कि मामला फर्जी है और इसका मकसद मंत्री को बदनाम करना है लेकिन बाद में सितंबर 2015 में मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट (लखनऊ) सीजेएम के आदेश पर मामला फिर से खुला.

सीजेएम की अदालत ने बुधवार को प्रजापति को दस मई तक की न्यायिक हिरासत में भेज दिया.

इस बीच संबद्ध घटनाक्रम में अमेठी के पुलिस अधीक्षक अनीस अंसारी ने मुंशीगंज के थाना प्रभारी आर के सिंह को प्रजापति के खिलाफ बलात्कार के आरोपों की जांच को प्रभावित करने के लिए निलंबित कर दिया. प्रजापति हाल के विधानसभा चुनाव में अमेठी से हार गए थे.

अब अवैध निर्माण में फंसे प्रजापति 

गायत्री प्रजापति की मुश्किलें यहीं खत्म नहीं हुई. लखनउ विकास प्राधिकरण ने अतिक्रमण कर बनायी गयी एक इमारत को ढहाने का आदेश दिया है. यह इमारत प्रजापति ने बाबा साहेब भीमराम अंबेडकर विश्वविद्यालय परिसर के निकट एलडीए की भूमि पर अतिक्रमण कर बनायी थी.

इमारत को 15 दिन में ढहाने का आदेश प्रजापति को दिया गया है, अन्यथा एलडीए बुलडोजर चलवायेगा और इमारत ध्वस्त करने में आयी लागत प्रजापति से वसूलेगा. सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर 49 वर्षीय प्रजापति और छह अन्य के खिलाफ बलात्कार को लेकर 17 फरवरी को प्राथमिकी दर्ज की गयी थी.

करीब महीने भर फरार रहने के बाद प्रजापति 15 मार्च को आशियाना क्षेत्र से गिरफ्तार किए गए और उन्हें एक महिला के साथ कथित बलात्कार करने और उसकी नाबालिग बेटी के साथ बलात्कार का प्रयास करने के लिए जेल भेज दिया गया. प्रजापति के अलावा छह अन्य आरोपियों को भी पुलिस ने गिरफ्तार किया था.

प्रजापति ने गिरफ्तारी पर स्थगनादेश के लिए सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया लेकिन शीर्ष अदालत ने उनसे संबद्ध अदालत से संपर्क करने को कहा.

गिरफ्तारी के समय प्रजापति ने दावा किया था कि वह निर्दोष हैं और उन पर लगाये गये आरोपों का मकसद उनकी छवि खराब करना है.

प्रजापति ने कहा था कि वह नारको टेस्ट के लिए तैयार हैं ताकि सच्चाई सामने आ सके. उन्होंने नाबालिग पीड़िता का नारको टेस्ट कराने की भी मांग की.

बीजेपी ने प्रजापति के खिलाफ लगे आरोपों को चुनावी मुददा बनाया था और इसके जरिए अखिलेश यादव सरकार पर बड़ा हमला बोला था.

बीजेपी ने उस समय अखिलेश पर आरोप लगाया था कि वह अपने दागी मंत्री को बचाने की कोशिश कर रहे हैं हालांकि एसपी ने इस आरोप से इनकार किया था.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi