S M L

ईवीएम की 'ईमानदारी' के लिए सभी दलों की बैठक बुलाएगा चुनाव आयोग

चुनाव में अधिक पारदर्शिता लाने के लिए निर्वाचन आयोग ने 15 लाख वीवीपीएटी मशीन का ऑर्डर दिया

Bhasha | Published On: Apr 29, 2017 09:17 PM IST | Updated On: Apr 29, 2017 09:34 PM IST

ईवीएम की 'ईमानदारी' के लिए सभी दलों की बैठक बुलाएगा चुनाव आयोग

ईवीएम को लेकर राजनीतिक दलों द्वारा लगातार उठाए जा रहे सवालों को देखते हुए चुनाव आयोग जल्दी ही सर्वदलीय बैठक बुलाने वाला है. मुख्य चुनाव आयुक्त नसीम जैदी ने शनिवार को चंडीगढ़ में कहा कि चुनाव आयोग ईवीएम के गड़बड़ी मुक्त और सुरक्षित होने का राजनीतिक दलों को भरोसा दिलाने के लिए जल्द ही उनकी एक बैठक बुलाएगा.

उन्होंने कहा कि आयोग का इरादा आने वाले चुनावों में ‘वोटर वेरीफाइड पेपर ऑडिट ट्रेल’ (वीवीपीएटी) का इस्तेमाल कर चुनाव प्रक्रिया में और अधिक पारदर्शिता लाने के साथ-साथ लोगों का भरोसा बढ़ाने का है.

वीवीपीएटी से एक पर्ची निकलती है जिसे देख कर मतदाता यह पक्का करता है कि ईवीएम में उसका वोट उसी उम्मीदवार को गया है जिसके नाम के आगे का उसने बटन दबाया है.

EC announces Poll schedule for five states

पिछले कई चुनावों को लेकर अलग-अलग राजनीतिक दलों ने ईवीएम पर सवाल उठाये हैं

ईवीएम सुरक्षित और छेड़छाड़ से मुक्त है

जैदी ने मीडिया से कहा कि ‘हम जल्द ही एक सर्वदलीय बैठक करेंगे जिसमें उन्हें बताया जाएगा कि हमारी ईवीएम हमारी प्रशासनिक और तकनीकी सुरक्षा प्रणाली के मुताबिक किस तरह से छेड़छाड़ से मुक्त और सुरक्षित हैं.’

उन्होंने ईवीएम को लेकर विभिन्न राजनीतिक दलों द्वारा लगाए जा रहे आरोपों के बारे में सवालों के जवाब देते हुए ये बातें कही. हाल ही में 16 विपक्षी पार्टियों ने चुनाव आयोग से मतदान पत्र (बैलेट पेपर) व्यवस्था से चुनाव कराने की मांग की थी. उनका दावा था कि ईवीएम में लोगों का विश्वास खत्म हो गया है.

मुख्य चुनाव आयुक्त ने यह भी कहा कि चुनाव आयोग की योजना इस सिलसिले में एक ‘चुनौती’ का आयोजन करने की है जिसके समय को लेकर विचार किया जा रहा है. समझा जा रहा है कि चुनाव आयोग राजनीतिक दलों की शंका दूर करने के लिए एक खुली चुनौती देकर किसी से भी यह कहने वाला है कि वह ईवीएम हैक करने की कोशिश कर सकते हैं.

EVM-Election

ईवीएम पर वोटरों का भरोसा कायम रखने के लिए चुनाव आयोग वीवीपीएटी का उपयोग करेगी

चुनाव के लिए वीवीपीएटी मशीनों का दिया ऑर्डर

चुनाव आयोग ने यह भी कहा कि आयोग ने चुनाव में उपयोग के लिए वीवीपीएटी मशीनों की आपूर्ति के लिए आदेश दिया है.

जैदी ने बताया, ‘वीवीपीएटी के लिए चुनाव आयोग को सारा फंड मिल गया है. हमने दो सार्वजनिक उपक्रमों - भारत इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड (बीईएल) और इलेक्ट्रॉनिक कॉरपारेशन ऑफ इंडिया (ईसीआई) को 15 लाख वीवीपीएटी सप्लाई का आर्डर दिया है.’

उन्होंने कहा कि उम्मीद है कि सितंबर 2018 तक करीब 15 लाख वीवीपीएटी मशीनें तैयार हो जाएंगी. आयोग का लक्ष्य आने वाले सभी चुनावों में वीवीपीएटी का उपयोग करने का है.

पॉपुलर

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi