S M L

DUSU के नए अध्यक्ष होंगे रॉकी तुसीद, नतीजों के खिलाफ कोर्ट जाएगी NSUI

NSUI की तरफ से प्रेसिडेंट पद के उम्मीदवार रॉकी तुसीद जीत गए हैं. NSUI ने प्रेसिडेंट और वाइस प्रेसिडेंट सीट पर जीत हासिल की है, जबकि ABVP की झोली में सेक्रेटरी और जॉइंट सेक्रटरी आया है.

FP Staff Updated On: Sep 13, 2017 07:02 PM IST

0
DUSU के नए अध्यक्ष होंगे रॉकी तुसीद, नतीजों के खिलाफ कोर्ट जाएगी NSUI

डूसू चुनाव की तीन सीटों पर नतीजे घोषित हो गए हैं. दो सीटों पर NSUI और दो सीटों पर ABVP जीत गई है. प्रेसिडेंट, वाइस प्रेसिडेंट पद पर NSUI प्रत्याशी जीत गए हैं. जबकि सेक्रेटरी और जॉइंट सेक्रेटरी पद पर ABVP ने जीत हासिल की है. दोनों विजयी छात्रों को सोनिया गांधी ने मिलने के लिए बुलाया है.

जॉइंट सेक्रेटरी पद पर ABVP की जीत के खिलाफ NSUI कोर्ट जाएगी. कांग्रेस सचिव गिरीश चोदांकर ने कहा 'कांग्रेस के छात्र संगठन NSUI ने चार में से तीन सीट जीती हैं. जिसमें प्रेसिडेंट, वाइस प्रेसिडेंट और जॉइंट सेक्रेटरी की सीट शामिल है. लेकिन बाद में ABVP ने इसे धोखे से अपनी जीत में तब्दील कर लिया. हम तीन सीट जीत चुके थे. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के हस्तक्षेप के चलते नतीजों से छोड़छाड़ की गई है.

राहुल गांधी ने NSUI की जीत पर डीयू के छात्रों को विश्वास करने पर शुक्रिया कहा है.

प्रेसिडेंट के लिए NSUI ने रॉकी तुसीद के अपना उम्मीदवार बनाया था. मतदान के लिए करीब 126 EVM मशीन का इस्तेमाल हुआ था. 2014 के बाद ऐसा पहली बार हुआ है जब तीन सीटें NSUI के झोली में आई है.

NSUI ने डीयू के बजट की जानकारी के लिए एक आरटीआई दाखिल की थी. डूसू अथॉरिटी ने आरटीआई के जवाब में बताया था कि 26,20,000 में से 21,78,000 रुपए खर्च सिर्फ चाय, फोटोस्टेट, रिपेयर और अन्य चीजों पर किया गया था.

डूसू के लिए मंगलवार को छात्रों ने मतदान किया था. जानकारी के मुताबिक दिल्ली यूनिवर्सिटी में करीब 43 प्रतिशत मतदान हुआ था. पिछले साल हुए चुनावों में 36 प्रतिशत मतदान हुआ था. कैंपस से दूर कॉलेज में मतदान कम हुआ है. 51 कॉलेज के छात्रों द्वारा मतदान से डूसू पैनल का चुनाव होगा.

दिल्ली हाईकोर्ट ने NSUI के उम्मीदवार रॉकी तुसीद को चुनाव लड़ने की इजाजत देते हुए विश्वविद्यालय से कहा था कि अभी अध्यक्ष पद का चुनाव परिणाम घोषित न करे. हालांकि मंगलवार को दिल्ली हाईकोर्ट ने डूसू अध्यक्ष पद के परिणाम घोषित करने की अनुमति दे दी. डूसू अध्यक्ष पद के लिए मुख्य प्रत्याशियों में ABVP के रजत चौधरी, NSUI के रॉकी तुसीद, आईसा से पारूल चाउहा, निर्दलीय राजा चौधरी एवं अल्का हैं. पिछले साल ABVP ने तीन पद जबकि NSUI ने संयुक्त सचिव का पद जीता था. इसी जीत के साथ NSUI ने डूसू में तीन साल के बाद वापसी की थी.

2014 में 18 साल बाद ABVP ने चारों सीटें जीत ली थीं. इससे पहले 1996 में ABVP ने ऐसी ही हासिल की थी. करीब दो दशक बाद ABVP ने जीत हासिल कर NSUI के शासन का अंत किया था. इसके बाद 2015 में भी ABVP ने चारों सीटों पर जीत हासिल की थी. इस बार भी ABVP की नजर डूसू की चारों सीटों पर है.

इन चुनावों में सबसे ज्यादा अहम मुद्दा पूर्वोत्तर के छात्रों का रहा. करीब 25,000 पूर्वोत्तर के छात्र दिल्ली यूनिवर्सिटी में पढ़ते हैं. जबकि इसमें से सिर्फ 5,000 छात्र ही वोट करते हैं. यह आंकड़े पूर्वोत्तर छात्रों के संगठन ने दिए हैं. इस संगठन का नाम नॉर्थ ईस्ट स्टूडेंट सोसाइटी (NESSDU) है.

सभी सीटों पर पडे़ वोटों की संख्या

प्रेसिडेंट- एनएसयूआई- 16299, एबीवीपी 14709, आईसा 4895

वाइस प्रेसिडेंट- एनएसयूआई 16431, एबीवीपी 16256, आईसा -7765

सेक्रेटरी- एनएसयूआई 14352, एबीवीपी-17156 आईसा-8036

जॉइंट सेक्रेटरी- एबीवीपी- 16691, एनएसयूआई- 16256, आईसा-8659

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi