विधानसभा चुनाव | गुजरात | हिमाचल प्रदेश
S M L

एमसीडी चुनाव 2017: अरविंदर सिंह लवली के बाद अब किसकी बारी?

कांग्रेस के दिग्गज नेता के पार्टी छोड़ने के बाद कई और के जाने की भी सुगबुगाहट है

Amitesh Amitesh Updated On: Apr 20, 2017 08:10 AM IST

0
एमसीडी चुनाव 2017: अरविंदर सिंह लवली के बाद अब किसकी बारी?

एमसीडी चुनाव के वक्त हर वो दांव-पेंच आजमाए जा रहे हैं, जिससे विरोधियों को पटखनी दी जा सके. हमेशा की तरह चुनावों के दौरान नेताओं के आने-जाने का सिलसिला जारी है.

इसका प्रभाव कितना पड़ेगा ये तो बाद में ही पता चल पाएगा लेकिन इससे हवा के बदलते रुख का पता चल जाता है.

हवा का ये बहाव इस वक्त एकतरफा ही हो रहा है. ये बहाव इस बात का परिचायक है कि बीजेपी के पक्ष में बयार शायद ज्यादा तेज है. वरना अरविंदर सिंह लवली से लेकर अमित मलिक जैसे कांग्रेस के पुराने चेहरे बीजेपी की चौखट पर दस्तक नहीं दे रहे होते.

ये भी पढ़ें: एमसीडी चुनाव में बीजेपी ने लगाया भोजपुरी तड़का

दिल्ली कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष और शीला सरकार में मंत्री रह चुके अरविंदर सिंह लवली के साथ-साथ कांग्रेस के दिल्ली की यूथ विंग के अध्यक्ष अमित मलिक भी कांग्रेस छोड़कर बीजेपी में शामिल हो चुके हैं.

टिकट बंटवारे में कांग्रेस के दिल्ली अध्यक्ष अजय माकन की मनमानी के खिलाफ लवली का गुस्सा था जिसकी वजह से उन्होंने पार्टी छोड़ी. इसके पहले कांग्रेस के पूर्व विधायक अमरीश गौतम भी टिकट बंटवारे में ही अपनी नाराजगी को लेकर पार्टी छोड़ बीजेपी में शामिल हो गए थे.

कांग्रेस के भीतर अजय माकन से नाराजगी उन तमाम दिग्गजों की रही है जिनका शीला सरकार के वक्त दिल्ली में जलवा हुआ करता था.

लवली के अलावा भी हैं कई नाम

Congress Logo

(प्रतीकात्मक तस्वीर)

ये भी पढ़ें: कांग्रेस पर बोझ हैं पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित

अरविंदर सिंह लवली के अलावा एके वालिया, मंगतराम सिंघल और हारून युसूफ की तरफ से भी टिकट वितरण को लेकर नाराजगी जताई गई थी. एके वालिया ने तो पार्टी छोड़ने की धमकी तक दे दी थी.

अब जबकि अरविंदर सिंह लवली ने बीजेपी की राह पकड़ ली है. तो फिर कयास इस बात के भी लगाए जाने लगे हैं कि जल्द ही एके वालिया और मंगतराम सिंघल भी बीजेपी के साथ हो सकते हैं.

ये भी पढ़ें: बीजेपी ने झोंकी पूरी ताकत, प्रचार में नेताओं की कारपेट बॉम्बिंग

बीजेपी सूत्रों के मुताबिक, एके वालिया और मंगतराम सिंघल जैसे नेताओं से भी इस वक्त बात हो रही है. अगर सबकुछ ठीक ठाक रहा तो जल्द ही इन दोनों नेताओं की बीजेपी के भीतर एंट्री हो सकती है.

हालांकि, ये हाल केवल कांग्रेस का ही नहीं, आप के नेता और वॉलंटियर्स भी कई जगहों पर बीजेपी का दामन थामने की तैयारी में हैं. 27 मार्च को आप के बवाना से विधायक वेदप्रकाश ने भी बीजेपी का दामन थाम लिया था.

वेदप्रकाश का दावा है कि आप के भीतर अभी कई ऐसे विधायक हैं जो घुटन मससूस कर रहे हैं. वो जल्दी ही आप का साथ छोड़ सकते हैं.

अरविंद केजरीवाल से नाराज कई आप विधायक

Arvind Kejriwal

फिलहाल बीजेपी के सूत्र इस बात का दावा कर रहे हैं कि अरविंद केजरीवाल की नीतियों से नाराज आप के कुछ विधायक जल्दी ही बीजेपी का दामन थाम सकते हैं. आप के इन विधायकों की एंट्री जल्दी ही बीजेपी में हो सकती है जिसका सीधा असर एमसीडी चुनाव पर पड़ेगा.

एमसीडी चुनाव से ठीक पहले बीजेपी को राजौरी गार्डन के उपचुनाव में जीत मिली. कांग्रेस दूसरे नंबर पर रही और आप की तो जमानत ही जब्त हो गई थी. इसे एमसीडी चुनाव से पहले हवा के रुख से ही जोड़कर देखा गया था.

अब एमसीडी चुनाव के पहले कांग्रेस और आप से नेताओं और कार्यकर्ताओं के बीजेपी में शामिल होने के सिलसिले से हवा के नए रुख का एहसास होता है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi