विधानसभा चुनाव | गुजरात | हिमाचल प्रदेश
S M L

तैयार रहिए, 30 जून को नीतीश कुमार सबको चौंकाने वाले हैं!

अपने दिल्ली दौरे में नीतीश कुमार प्रधानमंत्री मोदी से निजी तौर पर मुलाकात के लिए समय मांगेंगे

FP Staff Updated On: Jun 28, 2017 06:44 PM IST

0
तैयार रहिए, 30 जून को नीतीश कुमार सबको चौंकाने वाले हैं!

बिहार में सत्तारूढ़ महागठबंधन में आ रही दरार की खबरों के बीच अब सबकी निगाहें मुख्यमंत्री और जनता दल यूनाइटेड के अध्यक्ष नीतीश कुमार के अगले कदम पर आकर टिक गई है.

इस शुक्रवार को नीतीश का खासा व्यस्त कार्यक्रम रहने वाला था लेकिन अब इसमें बदलाव लाते हुए कुछ कार्यक्रमों का समय पहले कर दिया गया है. नीतीश के करीबियों के मुताबिक वो संसद भवन के सेंट्रल हॉल में केंद्र द्वारा आयोजित जीएसटी की लॉन्चिंग कार्यक्रम में शामिल हो सकते हैं.

नीतीश का यह कदम उनके राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) से बिगड़ते संबंधों को और खराब करेगा. आरजेडी अध्यक्ष लालू यादव पहले ही उनके एनडीए के उम्मीदवार रामनाथ कोविंद को अपना समर्थन देने की आलोचना कर चुके हैं.

पहले मुख्यमंत्री को 30 जुलाई को विभिन्न सरकारी कार्यक्रमों की आधारशिला रखने औरंगाबाद और जहानाबाद जाना था. लेेकिन अब इसका समय बदलकर एक दिन पहले, 29 जून को कर दिया गया है.

जैसी जानकारी मिल रही है, नीतीश कुमार शुक्रवार सुबह जिलाधिकारियों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग करेंगे जिसके बाद शाम को वो दिल्ली के लिए रवाना हो जाएंगे. सूत्र बता रहे हैं कि, दिल्ली में वो प्रधानमंत्री से निजी तौर पर मुलाकात के लिए समय मांगेंगे.

Nitish Kumar

नीतीश कुमार के नरेंद्र मोदी से अपने मतभेद हैं लेकिन जनहित के मुद्दे पर वो अक्सर केंद्र को समर्थन करते दिखते हैं

जीएसटी बिल पास करने वाला पहला गैर-एनडीए राज्य बिहार

स्पष्ट तौर पर बिहार गैर-एनडीए पहला राज्य था जिसने जीएसटी लागू करने वाला बिल पास किया. नीतीश कुमार ने विधानसभा में अपने दिए भाषण में जीएसटी टैक्स सिस्टम को एतिहासिक करार दिया था.

केंद्र के पाकिस्तान पर सर्जिकल स्ट्राइक, नोटबंदी और बेनामी संपत्ति के खिलाफ कार्रवाई को नीतीश के समर्थन देने से महागठंधन में कलह की स्थिति पैदा हो गई. जो अब जेडीयू द्वारा कोविंद को राष्ट्रपति चुनाव में समर्थन देने की घोषणा के बाद खुलकर सामने आ गया है.

केंद्रीय गृह मंत्रालय ने जीएसटी की लॉन्चिंग कार्यक्रम में सभी मुख्यमंत्रियों और सांसदों को बुलावा भेजा है. विपक्षी पार्टियों ने हड़बड़ाहट में जीएसटी टैक्स सिस्टम लागू करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की आलोचना की है.

तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) पहले इस कार्यक्रम में हिस्सा नहीं लेने की घोषणा कर चुकी है. कांग्रेस जीएसटी को अपनी उपलब्धि मानती है इसलिए इसमें शामिल होने को लेकर वो दुविधा में है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi