S M L

पहले संभालती थीं घर का कामकाज, अब हैं योगी सरकार में मंत्री

पति राजनीति में थे लेकिन स्वाति को इससे कोई लगाव नहीं था

FP Staff | Published On: Jun 06, 2017 11:27 PM IST | Updated On: Jun 06, 2017 11:27 PM IST

0
पहले संभालती थीं घर का कामकाज, अब हैं योगी सरकार में मंत्री

योगी सरकार में मंत्री स्वाति सिंह एक बार फिर चर्चा में हैं. पिछले दिनों बीयर बार को लेकर विवादों में आई स्वाति सिंह मंगलवार को भंडारे के आयोजन के दौरान प्रसाद में 100-100 रुपए बांटती दिखाई दीं.

इस मामले में स्वाति सिंह ने अभी तक कोई बयान नहीं दिया है. साल भर पहले एक हाउसवाइफ से अब यूपी सरकार में मंत्री स्वाति सिंह का राजनीतिक सफर भी दिलचस्प है.

दरअसल राजनीति में स्वाति सिंह की इंट्री बेहद नाटकीय रही. पति दयाशंकर सिंह बीजेपी के नेता थे. काफी कोशिशों के बाद भी वह विधान परिषद का चुनाव नहीं जीत पा रहे थे. दूसरी बार चुनाव हारने के बाद बीजेपी उपाध्यक्ष दयाशंकर सिंह ने बीएसपी सुप्रीमो मायावती के खिलाफ एक विवादित बयान दे दिया.

मामले में बीजेपी भी बैकफुट पर आ गई और दयाशंकर सिंह के बयान से फौरन किनारा करते हुए उन्हें 6 साल के लिए पार्टी से निष्कासित कर दिया. लेकिन बीएसपी के नेताओं ने जवाबी हमले की तैयारी कर ली थी. उन्होंने राजधानी लखनऊ में प्रदर्शन कर दयाशंकर सिंह पर जोरदार हमला किया, इसी दौरान बीएसपी नेताओं ने दयाशंकर की पत्नी स्वाति सिंह और उनकी बेटी के खिलाफ अभद्र टिप्पणी कर दी.

2007 में लखनऊ यूनिवर्सिटी से एलएलएम की डिग्री हासिल की

बस यहीं से स्वाति सिंह ने मायावती और बीएसपी नेताओं के खिलाफ जो मोर्चा खोला वह उन्हें चाहे-अनचाहे राजनीति की सीढ़ियां चढ़ाता ले गया. बीजेपी ने स्वाति सिंह के फायरब्रांड इमेज को देखते हुए उन्हें सीधे प्रदेश महिला मोर्चा का अध्यक्ष बना दिया. यही नहीं विधानसभा चुनावों के दौरान बीजेपी ने स्टार प्रचारकों की लिस्ट में भी स्वाति सिंह को जगह दी.

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के साथ स्वाति सिंह

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के साथ स्वाति सिंह

इसके बाद स्वाति को यूपी विधानसभा चुनाव में टिकट मिलना भी तय हो गया था. हुआ भी वही. उन्हें लखनऊ की सरोजनीनगर सीट से उम्मीदवार बनाया गया. जहां से बीजेपी तीन दशकों से जीत को तरस रही थी.

स्वाति सिंह ने यह सीट बीजेपी की झोली में डाली और इसके बाद उन्हें योगी सरकार में मंत्री पद मिला. यही नहीं उनके पति दयाशंकर सिंह का निलंबन भी वापस ले लिया गया. लेकिन मंत्री बनने के दो महीने के अंदर ही स्वाति सिंह विवादों में घिर गईं. पहले बीयर बार की लांचिंग को लेकर और बड़े मंगल के अवसर पर भंडारे के दौरान प्रसाद में 100-100 रुपए बांटने को लेकर स्वाति सिंह विवादों में घिरी हैं.

स्वाति सिंह का जन्म और ज्यादातर पढ़ाई-लिखाई लखनऊ में हुई. वह राजपूत परिवार से हैं. बचपन से ही शांत स्वभाव की स्वाति शादी से पहले और बाद के जीवन में भी सामान्य महिला की तरह ही रहती थीं.

स्वाति सिंह ने 2001 में इलाहाबाद के मोती लाल नेहरू नेशनल इंस्टीट्यूट आॅफ टेक्नोलॉजी से एमएमएस की डिग्री ली है. 2007 में उन्होंने लखनऊ यूनिवर्सिटी से एलएलएम की डिग्री हासिल की.

पति राजनीति में थे लेकिन स्वाति को इससे कोई लगाव नहीं था. वह अपने दो बच्चों के पालन-पोषण में ही व्यस्त रहती थीं.

मंत्री के तौर पर स्वाति सिंह के पास इस समय एनआरआई, बाढ़ नियंत्रण, कृषि आयात, कृषि विपणन, कृषि विदेश व्यापार, महिला कल्याण मंत्रालय, परिवार कल्याण, मातृत्व और बाल कल्याण के प्रभार हैं.

(साभार: न्यूज़ 18 हिंदी)

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi