S M L

अखिलेश ने दी सफाई कहा, पत्रकार का सवाल सही नहीं था

अखिलेश ने कहा कि मैं नहीं चाहता कि कोई सवाल बार-बार पूछा जाए, आखिर किसके परिवार में झगड़ा नहीं होता है

Bhasha | Published On: Apr 26, 2017 06:02 PM IST | Updated On: Apr 26, 2017 06:02 PM IST

अखिलेश ने दी सफाई कहा, पत्रकार का सवाल सही नहीं था

समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव ने मंगलवार को एक पत्रकार पर गंभीर टिप्पणी करने के मामले पर सफाई देते हुए कहा कि पत्रकार ने जो सवाल किया था, वह अच्छा नहीं था. वह सवाल पूछने वाले पहले एसपी का संविधान पढ़ें.

अखिलेश ने मंगलवार को एक वरिष्ठ टीवी संवाददाता पर किए गए तल्ख टिप्पणी के बारे में कहा, ‘देखिए, पत्रकार ने जो सवाल किया था, वह अच्छा नहीं था. वह कुछ जानते ही नहीं हैं मेरे बारे में. एक वरिष्ठ पत्रकार ने मुझसे कहा कि आपके घर का झगड़ा टीवी चैनलों पर बहुत ज्यादा चल गया, जिसकी वजह से चुनाव में एसपी की हार हुई.’

एसपी प्रमुख ने कहा, ‘अरे, क्या आपको मेरा ही घर मिला था. मैं नहीं चाहता कि कोई सवाल बार-बार पूछा जाए. आखिर किसके परिवार में झगड़ा नहीं होता है.’ हालांकि उन्होंने माना कि परिवार में रार भी पार्टी की हार का एक कारण है.

इस सवाल पर कि एसपी के वरिष्ठ नेता और विधायक शिवपाल सिंह यादव कह रहे हैं कि अखिलेश को चुनाव के बाद अपने वादे के मुताबिक एसपी अध्यक्ष पद छोड़ देना चाहिए, उन्होंने कहा, ‘आप हमारी पार्टी का संविधान पढ़ लें, चुनाव आयोग का संविधान पढ़ लें, फिर सवाल करें.’

फिर किया मीडिया पर सवाल

हालांकि मंगलवार को इसी सवाल पर अखिलेश ने एक टीवी चैनल के वरिष्ठ संवाददाता पर बेहद तल्ख टिप्पणी करते हुए कहा था, ‘तुम्हारे जैसे लोगों की वजह से ही देश बर्बाद हो रहा है.’

बहरहाल, अखिलेश ने बुधवार को भी मीडिया पर सवाल खड़ा करते हुए कहा कि उनकी सरकार के कार्यकाल में होने वाली किसी भी घटना की खबर को टीवी पर उनकी तस्वीर के साथ दिखाया जाता था.

अखिलेश ने कहा, ‘क्या अब आप में से किसी की हिम्मत है कि मौजूदा मुख्यमंत्री की तस्वीर लगाकर खबर दिखा दे.’

उन्होंने कहा कि सहारनपुर में दंगा हुआ, इलाहाबाद में एक परिवार की हत्या की गयी और प्रतापगढ़ में एक वकील का कत्ल हो गया. क्या ये खबरें मुख्यमंत्री की तस्वीर के साथ दिखायी गईं?

पॉपुलर

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi

लाइव

3rd ODI: England 65/6David Willey on strike