S M L

सहारनपुर हिंसा: गृह मंत्रालय ने योगी सरकार से मांगी विस्तृत रिपोर्ट

बीते पांच मई को तेज आवाज में लाउडस्पीकर बजाने को लेकर दलितों व राजपूतों के बीच संघर्ष भड़क गया था

Bhasha | Published On: May 25, 2017 10:19 PM IST | Updated On: May 25, 2017 10:26 PM IST

0
सहारनपुर हिंसा: गृह मंत्रालय ने योगी सरकार से मांगी विस्तृत रिपोर्ट

सहारनपुर हिंसा के बाद यूपी की सियासत ने नया मोड़ लिया है. विपक्ष लगातार योगी सरकार पर निशाना साध रहा है. हिंसा की आग अब केंद्र सरकार तक भी पहुंच गई है.

हिंसा के बाद जागे केंद्रीय गृह मंत्रालय ने यूपी के सहारनपुर जिले में जातिगत हिंसा पर प्रदेश सरकार से एक विस्तृत रिपोर्ट मांगी है. इस हिंसा में दो लोगों की मौत हो गई है, जबकि 20 से अधिक लोग घायल हो चुके हैं. मंत्रालय के एक अधिकारी ने कहा, 'हां, मंत्रालय ने विस्तृत रिपोर्ट मांगी है.'

सहारनपुर के डिवीजनल कमिश्नर एम.पी.अग्रवाल और पुलिस उप महानिरीक्षक जे.के. शाही का गुरुवार को तबादला कर दिया गया. इसके अलावा, दलितों व राजपूतों के बीच संघर्षों के बाद जिले में सोशल मीडिया पर भी प्रतिबंध लगा दिया गया है.

यूपी के होम सेक्रेटरी मणिप्रसाद मिश्रा सहारनपुर में अधिकारियों से स्थितियों का जायजा लेते हुए. पीटीआई

यूपी के होम सेक्रेटरी मणिप्रसाद मिश्रा सहारनपुर में अधिकारियों से स्थितियों का जायजा लेते हुए. पीटीआई

मायावती के दौरे के बाद जातिगत हिंसक भड़क उठी थी

योगी आदित्यनाथ की सरकार द्वारा सहारनपुर के जिलाधिकारी और वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक को निलंबित करने के एक दिन बाद ये तबादले किए गए हैं.

गृह सचिव मणि प्रसाद मिश्रा, अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (कानून एवं व्यवस्था) आदित्य मिश्रा, पुलिस महानिरीक्षक (विशेष कार्यबल) अमिताभ यश तथा महानिदेशक (सुरक्षा) विजय भूषण सहित वरिष्ठ अधिकारियों का एक दल अभी भी सहारनपुर में डेरा डाले हुए है.

उल्लेखनीय है कि बीते पांच मई को शब्बीरपुर गांव में महाराणा प्रताप के जयंती समारोह के दौरान तेज आवाज में लाउडस्पीकर बजाने को लेकर दलितों व राजपूतों के बीच संघर्ष भड़क गया था.

बहुजन समाज पार्टी अध्यक्ष मायावाती के गांव का दौरा करने के बाद मंगलवार रात गांव में एक बार फिर जातिगत हिंसा भड़क उठी, जिसमें दो लोगों की मौत हो गई, जबकि दो दर्जन से अधिक लोग घायल हो गए.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi