S M L

बडगाम एनकाउंटरः मारे गए युवा के परिवार का टारगेटेड किलिंग का आरोप

दुरबग में सड़कों पर बुधवार को भी सन्नाटा पसरा रहा

Ishfaq Naseem Updated On: Apr 02, 2017 07:31 PM IST

0
बडगाम एनकाउंटरः मारे गए युवा के परिवार का टारगेटेड किलिंग का आरोप

उसका शव खून से भीग गए कफन में घर आया. इक्कीस साल का जाहिद राशिद गानी उन तीन नागरिकों में से एक था जिनकी मौत मंगलवार को सुरक्षा बलों और आतंकवादियों में जारी मुठभेड़ के बीच में आने से हो गई थी.

सेंट्रल कश्मीर के बडगाम जिले के चादूरा के दुरबग गांव के एक घर में आतंकी छिपे हुए थे. कश्मीर पुलिस का दावा है कि गानी सुरक्षा बलों और आतंकियों में फायरिंग के बीच आ गया था. लेकिन, गानी के परिवार का आरोप है कि उसे एनकाउंटर के दौरान जानबूझकर टारगेट किया गया.

गानी ने अंतिम सांस श्रीनगर के एसएमएचएस हॉस्पिटल में मंगलवार को ली. लेकिन गानी के परिवार के दुखों का अंत अभी नहीं हुआ था. जाहिद का चचेरा भाई जो उसके शव को घर ला रहा था, उसे पुलिस ने पकड़ लिया और उसे एनकाउंटर के बाद ही घर जाने दिया गया.

जब परिवार ने पुलिस को शव को घर ले जाने से रोकने पर विरोध किया तो उन पर कथित रूप से आंसूगैस के गोले छोड़े गए और एक महिला से छेड़खानी की गई.

शव घंटो कंट्रोल रूम में रोककर रखा गया

जाहिद के शोकग्रस्त पिता, अब्दुल राशिद गानी की आंखें सूज गई हैं और वह खुद को संभाल नहीं पा रहे हैं. उनके रिश्तेदार और पड़ोसी उन्हें ढांढस बंधाने की कोशिश करते हैं, लेकिन वह बार-बार रो पड़ते हैं. वह बोल नहीं पा रहे थे, और उनके बड़े भाई उनका सिर अपने हाथों में पकड़े थे. जाहिद पांच बेटियों के बीच उनका इकलौता बेटा था.

जाहिद कक्षा 12 का स्टूडेंट था और वह अपने पिता राशिद को उनकी दुकान पर मदद देता था. उनके घर का लॉन मंगलवार को लोगों से भर गया और सैंकड़ों लोग वहां मातम मनाने के लिए पहुंच गए. औरतों के रोने की आवाजें दूर तक सुनी जा सकती थीं.

जाहिद के चाचा फैयाज अहमद गानी ने कहा कि उन्हें यह खबर करीब 10 बजे लगी कि उनके भतीजे को गोली लग गई है. उन्होंने बताया, ‘हम मौके की ओर दौड़ पड़े और बच्चे को श्रीनगर के हॉस्पिटल लेकर पहुंचे, वहां उसने अंतिम सांस ली. लेकिन, जब हम वापस लौट रहे थे, हमें पुलिस कंट्रोल रूम ले जाया गया और शव को घंटों तक वहां रोककर रखा गया. चादूरा में एनकाउंटर खत्म होने के बाद ही हमें अपने घर जाने दिया गया.’

Kashmir Killing

(फोटो: पीटीआई)

गानी आरोप लगाते हैं कि पुलिस ने उन लोगों को भगाने के लिए आंसूगैस के गोलों का इस्तेमाल किया और यहां तक कि महिलाओं समेत परिवार के सदस्यों के साथ धक्कामुक्की की.

बडगाम के दुरबग गांव में एनकाउंटर मंगलवार की सुबह करीब 4 बजे शुरू हुआ था और यह शाम के 5 बजे तक जारी रहा. पुलिस और सेना के अधिकारियों ने कहा कि इस मुठभेड़ में एक आतंकी मारा गया, जबकि तीन नागरिक गोलीबारी के बीच आ गए.

जब सुरक्षा बल आतंकियों से मोर्चा ले रहे थे उस वक्त आसपास के इलाके के लोगों ने मुठभेड़ स्थल की ओर बढ़ना शुरू कर दिया. सुरक्षा बलों को उन पर फायरिंग करनी पड़ी और नतीजतन तीन नागरिकों की मौत हो गई.

पुलिस और सुरक्षा बलों ने आतंकी के छिपने वाली जगह के पड़ोस के घरों के लोगों को चेतावनी दी थी कि वे सुरक्षित जगहों पर चले जाएं. पुलिस ने पड़ोस के घरों से पोजिशन लेकर आतंकी को घेर लिया. सुरक्षा बलों ने घर पर मोर्टार से फायर किया और यहां तक कि ऑपरेशन के खत्म होने तक माइन ब्लास्ट भी किया.

जिस घर में आतंकी छिपा था वह पूरी तरह से खंडहर में तब्दील हो गया और शाम से वहां स्थानीय लोगों का जमघट होने लगा. लोग इस घटना से स्तब्ध नजर आ रहे थे. दूसरी ओर, पुलिस ने घर के मालिक को पकड़ लिया है और उससे पूछताछ जारी है.

आतंकी को साइट से भागने में मदद देने की कोशिश कर रहे थे

एक स्थानीय नागरिक ने कहा कि बलों ने टारगेटेड फायरिंग का सहारा लिया. उन्होंने कहा, ‘हमने करीब 17 युवाओं को हॉस्पिटल में शिफ्ट किया है. इनमें से ज्यादातर को गोलियां लगी हैं.’

हालांकि, कश्मीर के आईजी एसजेएम गिलानी ने कहा है कि तीनों नागरिक क्रॉस फायरिंग में मारे गए हैं. गिलानी ने कहा, ‘युवा लगातार रोके जाने के बावजूद एनकाउंटर में बाधा डाल रहे थे. इन्होंने भारी पत्थरबाजी की जिससे कम से कम 70 सुरक्षा बल जवान घायल हो गए.’

उन्होंने कहा कि युवाओं के भारी पत्थरबाजी करने से 50 सीआरपीएफ के और 25 से ज्यादा पुलिस के जवानों को चोटें आई हैं. युवा आतंकी को एनकाउंटर साइट से भागने में मदद देने की कोशिश कर रहे थे.’

स्थानीय नागरिक गुलाम नबी मुबारकी का घर आतंकी के छिपने वाले घर के ठीक बगल में पड़ता है. मुबारकी ने पुष्टि की कि सुरक्षा बलों ने उन्हें सुरक्षित ठिकानों पर चले जाने के लिए कहा था. उन्होंने बताया, ‘हम दूसरे घर में चले गए, लेकिन फायरिंग पूरे दिन चलती रही.’

मुबारकी ने फ़र्स्टपोस्ट को बताया कि उनके घर की खिड़कियां और छत को भी एनकाउंटर के दौरान नुकसान पहुंचा है. हमें बाद में पता चला कि घर में छिपा हुआ आतंकी बीमार था. उसे शोपियां में गोली लगी थी और पुलिस और आर्मी उसे आसानी से अरेस्ट कर सकती थी और मोर्टार शेल और माइन ब्लास्ट की कोई जरूरत नहीं थी.’

दुरबग में सड़कों पर बुधवार को भी सन्नाटा पसरा रहा. इस इलाके को आसपास के गांवों से जोड़ने वाले ब्रिज पर ईंटें और पत्थर बिखरे पड़े थे. श्रीनगर चादूरा रोड पर युवाओं ने पेड़ों की शाखाओं को तोड़कर डाल दिया था और सड़क को ब्लॉक कर दिया था.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi