S M L

किसानों से मिलने जा रहे योगेंद्र यादव, स्वामी अग्निवेश पुलिस हिरासत में

योगेंद्र यादव, मेधा पाटेकर और स्वामी अग्निवेश को रतलाम के जरोरा से सेक्शन 144 के तहत गिरफ्तार किया गया है

FP Staff Updated On: Jun 11, 2017 06:19 PM IST

0
किसानों से मिलने जा रहे योगेंद्र यादव, स्वामी अग्निवेश पुलिस हिरासत में

मध्य प्रदेश में किसान आंदोलन के बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने रविवार को अपना अनशन खत्म कर दिया. बेरहमी का चोला पहने बैठी शिवराज सरकार की पुलिस ने किसानों से मिलने जा रहे योगेंद्र यादव समेत अन्य दो लोगों को हिरासत में ले लिया. इनमें योगेंद्र यादव के साथ स्वामी अग्निवेश और समाजसेवी मेधा पाटकर शामिल हैं.

तीनों को रतलाम के जरोरा से सेक्शन 144 के तहत गिरफ्तार किया गया है. सेक्शन 144 उन लोगों पर लगता है जो 4 से ज्यादा के समूह में जाकर शांति व्यवस्था खराब करने की कोशिश करते हैं.

दरअसल ये सभी रविवार दोपहर किसान आंदोलन में मृतक किसानों के परिजनों से मिलने जा रहे थे. इस दल में कई राज्यों से आए किसान, मजदूर एवं अन्य संगठनों के प्रतिनिधि भी शामिल थे. इसलिए प्रशासन और पुलिस ने दल को आगे जाने की अनुमति नहीं दी हैं.

रतलाम आए नर्मदा बचाओं आंदोलन की मेधा पाटकर और बंधुआ मजदूर मुक्ति मोर्चा के स्वामी अग्निवेष ने प्रदेशभर में हुए किसान आंदोलन मे सरकार की विफलता पर मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान से त्यागपत्र मांगा हैं. साथ ही आंदोलन में मृतक किसानों के मामले को लेकर न्यायिक जांच की मांग भी की है.

14 जून से सिंधिया भी उपवास करेंगे

मेधा पाटकर सहित 16 विभिन्न संगठनों के प्रतिनिधि रविवार को रतलाम आए थे. यहां से वे मंदसौर जिले के उन गांवों में जाना चाहते हैं, जहां किसानों पर गोलियां चलाई गई.

योगेंद्र यादव ने हिरासत में लिए जाने के बाद ट्वीट भी किए. उन्होंने लिखा 'पता नहीं किस जुर्म में पुलिस कस्टडी में लिया गया है? जबकि जिन्होंने किसानों को मारा है वो खुले में घूम रहे हैं. रूल ऑफ लॉ?'

बता दें कि रविवार को ही सीएम शिवराज सिंह ने अपना उपवास तोड़ा. शिवराज राज्य में शांति बहाली के लिए शनिवार से उपवास पर बैठे थे. वहीं कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया भी शिवराज सिंह के मुकाबले अब मैदान में हैं.

14 जून से सिंधिया 72 घंटे का उपवास करेंगे. लोकसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया, शिवराज सरकार की किसान विरोधी नीतियों के खिलाफ तीन दिन तक अलग-अलग शहरों में सत्याग्रह करेंगे.

सत्याग्रह शुरू करने से एक दिन पहले सिंधिया 13 जून को मंदसौर जाएंगे और 6 मृतक किसानों के परिजनों से मुलाकात करेंगे.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi