विधानसभा चुनाव | गुजरात | हिमाचल प्रदेश
S M L

भीषण गर्मी और लू की चपेट में दिल्ली-एनसीआर समेत पूरा उत्तर भारत

गर्मियों के मौसम में हर साल ओजोन गैस का हवा में स्तर लगातार बढ़ता जा रहा है

Ravishankar Singh Ravishankar Singh Updated On: Jun 05, 2017 04:21 PM IST

0
भीषण गर्मी और लू की चपेट में दिल्ली-एनसीआर समेत पूरा उत्तर भारत

पूरा उत्तर भारत भीषण गर्मी की चपेट में है. दिल्ली-एनसीआर का पारा पिछले दो दिनों में 48 डिग्री को छू गया है. लोगों को घर से निकलने में मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है. आसमान से आग बरसने के कारण सड़कों से लेकर मॉल्स तक में देर शाम तक सन्नाटा पसरा रहता है.

राजधानी का पालम इलाका रविवार को देश का सबसे गर्म इलाका रहा. पालम का अधिकतम तापमान 47 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया वहीं पालम एयरपोर्ट पर अधिकतम तापमान 48 डिग्री सेल्सियस के करीब पहुंच गया.

दिल्ली के तापमान में पिछले कुछ सालों से लगातार तेजी देखने को मिल रही है. घर से बाहर निकलने वाले या ऑफिस जाने वाले लोग गर्मी से खास तौर पर परेशान नजर आ रहे हैं.

Heat Sun

छुट्टी के दिन भी दिल्ली की सड़कें रही सूनी

दिल्ली की चिलचिलाती गर्मी ने लोगों को घरों में कैद कर दिया है. लोग मजबूरन घर से बाहर नहीं निकल रहे हैं. गर्मी का आलम यह है कि शनिवार और रविवार को गुलजार रहने वाली दिल्ली की सड़कें सूनी नजर आ रही हैं.

मौसम विभाग के मुताबिक जून महीने में पिछले पांच साल में इतनी गर्मी कभी नहीं हुई है. पिछले साल 2016 में जून महीने में अधिकतम तापमान 43 डिग्री सेल्सियस तक रिकॉर्ड गया था.

मौसम विभाग के मुताबिक अगले दो-तीन दिनों तक दिल्ली-एनसीआर का पारा 45 डिग्री के पार रह सकता है. मौसम विभाग का कहना है कि राजस्थान और पाकिस्तान की ओर से चल रही पश्चिमी और दक्षिणी हवाओं के कारण अगले कुछ दिनों में पारा और ऊपर चढ़ेगा.

उत्तर प्रदेश के कई हिस्सों में भी आसमान से आग बरस रही है. उत्तर प्रदेश के ज्यादातर इलाकों में लोग झुलसाने वाली धूप और लू की चपेट में आ रहे हैं. पिछले 24 घंटे के दौरान यूपी के कई इलाकों में तापमान में खासी बढ़ोतरी दर्ज की गई है.

A boy bathes in a stream to cool off from the heat on a hot summer day in Swabi, Pakistan May 24, 2017. REUTERS/Fayaz Aziz - RTX37FNL

REUTERS

इन बातों का रखें ध्यान

गर्मी से राहत के लिए डॉक्टरों के तरफ से कई तरह के सलाह दिए जा रहे हैं. डॉक्टरों के मुताबिक गर्मियों में शीतल पेय का सेवन करने के साथ सिर पर कैप या गमछा रख कर घर से बाहर निकलें.

आंखों को धूप से बचाने के लिए चश्मा और पानी के छीटें एक निश्चित अंतराल के बाद लगाने की हिदायत दी जा रही है.

लोगों को बाजार के फास्टफूड खाने से बचने के लिए कहा जा रहा है. सलाह दी जा रही है कि लोग ताजा फलों के सेवन करें. गर्मी की वजह से तबीयत बिगड़ने पर तुरंत ही चिकिस्कों की सलाह लें.

अगले 2-3 दिन भी राहत की उम्मीद नहीं

मौसम विभाग के पूर्वानुमान के मुताबिक अगले दो-तीन दिन में भी राहत के कोई आसार नहीं है. लेकिन 6 जून के बाद मानसून पूर्व बारिश के आसार बन रहे हैं. आठ जून से तापमान में गिरावट हो सकती है.

वहीं राजधानी के तापमान में जबर्दस्त बढ़ोतरी से हवा में ओजोन गैस का स्तर लगातार बढ़ रहा है. सेंटर फॉर साइंस एंड इनवॉयरमेंट की एक रिपोर्ट में इके मुताबिक इस साल फरवरी से मई तक ओजोन के स्तर में काफी तेजी आई है.

केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के आंकड़ों के अनुसार इस साल फरवरी महीने में 12 प्रतिशत, मार्च महीने में 19 प्रतिशत, अप्रैल महीने में 52 प्रतिशत और मई महीने में 77 प्रतिशत ओजोन का हवा में स्तर मानक से अधिक रहा.

INDIA-HEAT-WEATHER

बिगड़ते हालात पर फौरन कदम उठाने की जरूरत

गर्मियों के मौसम में हर साल ओजोन गैस का हवा में स्तर लगातार बढ़ता जा रहा है. गर्मियों के दिनों में पारा 40 डिग्री सेल्सियस से अधिक होने पर गाड़ियों, पावर प्लांटों और फैक्ट्रियों से निकलने वाले धुएं में मौजूद हाइड्रोकार्बन, नाइट्रोजन डाई-ऑक्साइड और प्रदूषक गैस आपस में क्रिया करके ओजोन गैस बनाती हैं.

हवा में ओजोन गैस की बढ़ती मात्रा से मनुष्य के शरीर पर काफी बुरा प्रभाव पड़ता है. दिल और सांस से संबंधित मरीजों के लिए यह काफी घातक  है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi