S M L

विशाखापत्तनम देश का सबसे साफ और दरभंगा सबसे गंदा रेलवे स्टेशन

स्वच्छता के मामले में रेलवे स्टेशनों को आंकने के लिए प्लेटफॉर्म पर स्वच्छ शौचालय, साफ ट्रैक और स्टेशनों पर कूड़ेदान कुछ मापदंड रहे

Bhasha | Published On: May 17, 2017 09:47 PM IST | Updated On: May 17, 2017 09:47 PM IST

विशाखापत्तनम देश का सबसे साफ और दरभंगा सबसे गंदा रेलवे स्टेशन

देश के 75 व्यस्त रेलवे स्टेशनों में विशाखापत्तनम सबसे साफ सुथरा स्टेशन है और सिकंदराबाद दूसरे स्थान पर है, जबकि बिहार का दरभंगा रेलवे स्टेशन देश के सबसे व्यस्त स्टेशनों में सबसे गंदा है.

इस लिस्ट में नई दिल्ली रेलवे स्टेशन को 39वां स्थान मिला है. हालांकि निजामुद्दीन रेलवे स्टेशन को 23वां और पुरानी दिल्ली रेलवे स्टेशन को 24वां स्थान मिला.

रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने बुधवार को एक सर्वेक्षण रिपोर्ट जारी किया. सर्वेक्षण के अनुसार सबसे व्यस्त रेलवे स्टेशनों में जम्मू रेलवे स्टेशन को तीसरा स्थान मिला.

भारतीय गुणवत्ता परिषद ने यह सर्वेक्षण कराया है.

स्वच्छता के मामले में रेलवे स्टेशनों को आंकने के लिए प्लेटफॉर्म पर स्वच्छ शौचालय, साफ ट्रैक और स्टेशनों पर कूड़ेदान कुछ मापदंड रहे.

‘स्वच्छ रेल’ अभियान के हिस्से के तौर पर रेल परिसरों की सफाई पर नजर रखने के लिए रेलवे द्वारा स्वच्छता पर कराया गया यह तीसरा सर्वेक्षण है.

प्रभु ने सर्वेक्षण रिपोर्ट जारी करने के बाद कहा, ‘हम सभी स्टेशनों को साफ रखना चाहते हैं. कई स्टेशनों ने पिछली बार से अपनी स्वच्छता रैंकिंग में सुधार किया है.’

कितने स्टेशनों का हुआ सर्वे?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र वाराणसी का रेलवे स्टेशन 14वें नंबर पर रहा.

यह सर्वेक्षण कुल 407 स्टेशनों के लिए किया गया था जिनमें से 74 ए-1 श्रेणी के हैं या सबसे व्यस्त स्टेशन हैं और 332 ए श्रेणी के हैं.

ए श्रेणी में ब्यास रेलवे स्टेशन सबसे स्वच्छ रहा जबकि खम्माम दूसरे नंबर पर रहा. अहमदनगर स्टेशन तीसरे पायदान पर रहा.

ए-1 श्रेणी में दरभंगा रेलवे स्टेशन 75वें नंबर पर रहा जबकि जोगबानी ए श्रेणी में सबसे गंदा स्टेशन रहा.

रेलवे के करीब 8,000 स्टेशन सालाना यात्री राजस्व के आधार पर सात श्रेणियों - ए1, ए, बी, सी, डी, ई और एफ में विभाजित हैं.

जिन स्टेशनों का यात्री राजस्व एक साल में 50 करोड़ रुपए से ज्यादा हैं वे ए-1 श्रेणी में आते हैं. ए श्रेणी वाले स्टेशनों का सालाना यात्री राजस्व छह करोड़ से 50 करोड़ रपये के बीच है.

सभी उपनगरीय स्टेशन सी श्रेणी के हैं जबकि जिन स्टेशनों पर ट्रेन रूकती है वे सभी एफ श्रेणी के हैं.

रेलवे अब स्वच्छता को लेकर 200 ट्रेनों का सर्वेक्षण कराएगा.

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi