S M L

UGC का आदेश: डिजिटल लेन-देन का डेटा भेजें विश्वविद्यालय

यूजीसी ने देशभर की यूनिवर्सिटीज से स्टूडेंट्स के फीस से लेकर किसी भी पेमेंट के लिए डिजिटल तरीके अपनाने को कहा था.

Bhasha Updated On: Sep 01, 2017 12:06 PM IST

0
UGC का आदेश: डिजिटल लेन-देन का डेटा भेजें विश्वविद्यालय

विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) ने सभी विश्वविद्यालयों और शैक्षणिक संस्थाओं को आदेश दिए है कि वे पिछले एक साल में अपने डिजिटल वित्तीय लेन-देन का डेटा मुहैया कराएं.

UGC ने क्या दिए थे निर्देश

इससे दो महीने पहले यूजीसी ने देशभर की किसी भी यूनिवर्सिटी या उच्च शिक्षा संस्थान में स्टूडेंट्स को अगले सेशन में कैश से फीस जमा नहीं करने के आदेश दिए थे. यूजीसी ने उच्च शिक्षा संस्थानों को सलाह दी थी कि वे पैसों के लेन-देन का काम डिजिटल मोड से ही करें. यूजीसी के मुताबिक, एचआरडी मिनिस्ट्री ने इस संबंध में एडवाइजरी जारी करने को भी कहा था.

यूनिवर्सिटीज के हेड्स को भेजे गए दिशा-निर्देश में कहा गया था कि 'संस्थान में छात्रों की फीस, एग्जाम फीस, वेंडर पेमेंट्स और सैलरी आदि का लेन-देन सिर्फ ऑनलाइन ट्रांजैक्शंस के जरिए ही होना चाहिए.'

ऑफलाइन ट्रांजैक्शंस की लिस्ट तैयार करने को कहा

सभी यूनिवर्सिटीज को कहा गया था कि वे उन ट्रांजैक्शंस की लिस्ट तैयार करें, जिन्हें फिलहाल कैश में ही किया जाता है. उसके बाद उन्हें डिजिटल मोड से करने के विकल्पों पर विचार करें. यही नहीं, केंद्र सरकार ने विश्वविद्यालयों को इस मकसद के लिए एक नोडल अधिकारी की नियुक्ति करने को भी कहा था. सभी विश्वविद्यालयों को डिजिटल पेमेंट से जुड़ी रिपोर्ट हर महीने यूजीसी को भेजने को कहा गया था.

एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि ‘विश्वविद्यालयों को छात्रों की फीस का भुगतान, सेवाओं के लिए भुगतान के साथ ही शिक्षकों और स्टाफ को वेतन भुगतान के जरिए एक साल में किए गए डिजिटल लेन देन की संख्या के बारे में डेटा शेयर करने को कहा गया है.’

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi