S M L

VIP बनकर IT कंपनी पर कब्जा जमाया, पोल खुलने पर पकड़े गए

आरोपियों ने डरा-धमका कर दोनों निदेशकों को ऑफिस में बंद कर के कंपनी के खातों को अपने कब्जे में ले लिया था

Bhasha Updated On: Sep 20, 2017 04:36 PM IST

0
VIP बनकर IT कंपनी पर कब्जा जमाया, पोल खुलने पर पकड़े गए

सिकंदराबाद पुलिस ने दो लोगों को जबरन एक आईटी कंपनी पर कब्जा जमाने के आरोप में गिरफ्तार किया है. पुलिस के अनुसार 27 साल के एक युवक ने कथित तौर पर वीआईपी होने का नाटक कर के शहर की एक सॉफ्टवेयर कंपनी के दो निदेशकों को डरा-धमका कर उनकी कंपनी पर कब्जा जमा लिया.

पुलिस ने शिकायत मिलने पर कार्रवाई करते हुए मुख्य आरोपी वम्शी राव और आईटी कंपनी के प्रोजेक्ट मैनेजर वम्शीधर को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया.

सिकंदराबाद पुलिस ने मंगलवार को जारी रिलीज में कहा कि नौकरी ढूंढ रहे दो लोगों ने कुछ दिन पहले राव से संपर्क किया था. उन्होंने उसे बताया था कि उन्होंने नौकरी के लिए कंपनी को डेढ़ लाख रुपए दिए थे, लेकिन इसके बावजूद उन्हें नौकरी नहीं दी गई. उन्होंने पैसे वापस लेने की कोशिश की और इसके लिए वो राव के पास गए.

रिलीज में कहा गया है कि राव आसानी से धन हासिल करने के लिए वीआईपी होने का नाटक करते हुए कंपनी के अधिकारी से मिला. पिछले हफ्ते, रोब जमाने के लिए वो नीली बत्ती की गाड़ी में बैठकर कंपनी पहुंचा और उसने दोनों निदेशकों से बातचीत की.

पुलिस ने बताया कि इसके बाद उसने निदेशकों को बंदूक दिखाकर कथित तौर पर डराया-धमकाया. उसने इस मामले को निपटाने के लिए उनसे 10 लाख रुपए मांगे. डरे-सहमे निदेशकों ने उसे पांच लाख रुपए दे दिए.

इसके बाद वम्शीधर और उसके दो अन्य दोस्तों ने राव के साथ साठगांठ की. उन्होंने कंपनी का अधिग्रहण कर लिया और दोनों निदेशकों को ऑफिस में बंद कर के कंपनी के खातों को अपने कब्जे में ले लिया.

इस्तीफे की सूचना देने वाला ईमेल भेजने का किया मजबूर

पुलिस ने बताया कि इसके बाद आरोपियों ने दोनों अधिकारियों को मजबूर किया कि वो अपने कर्मचारियों को ईमेल भेजें जिसमें कहा गया था कि उन्होंने नौकरी से इस्तीफा दे दिया है और राव और वम्शीधर कंपनी के नए डायरेक्टर हैं.

उन्होंने बताया कि शिकायत मिलने के बाद पुलिस ने मामला दर्ज किया और मंगलवार को राव और वम्शीधर को गिरफ्तार किया. उनके दो अन्य साथी फरार हैं.

पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ आईपीसी की धारा 420 (धोखाधड़ी), 342 (गलत तरीके से कैद रखना) और शस्त्र कानून की प्रासंगिक धाराओं के तहत मामला दर्ज किया है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi