S M L

यूपीएससी: ‘गलत’ प्रश्नों को लेकर दायर याचिका पर विचार के लिए सुप्रीम कोर्ट तैयार

कोर्ट ने इस मामले में एक अगस्त को सुनवाई करने का निश्चय किया है

Bhasha Updated On: Jul 27, 2017 09:15 PM IST

0
यूपीएससी: ‘गलत’ प्रश्नों को लेकर दायर याचिका पर विचार के लिए सुप्रीम कोर्ट तैयार

सुप्रीम कोर्ट गुरुवार उस याचिका पर विचार के लिए सहमत हो गया, जिसमे आरोप लगाया गया है कि यूनियन पब्लिक सर्विस कमिशन की 2017 की प्रारंभिक परीक्षा में दो प्रश्न ‘गलत’ थे.

जस्टिस दीपक मिश्रा, जस्टिस अमिताव राय और जस्टिस ए एम खानविलकर की तीन सदस्यीय खंडपीठ ने याचिकाकर्ता से कहा कि याचिका की एक प्रति केन्द्र को सौंपी जाए. याचिकाकर्ता व्यक्तिगत रूप से बहस कर रहा था. कोर्ट ने इस मामले में एक अगस्त को सुनवाई करने का निश्चय किया है.

हालांकि, याचिकाकर्ता ने जब पीठ से जानना चाहा कि यदि एक अगस्त तक इस परीक्षा के नतीजे घोषित कर दिए गए तो फिर क्या होगा. इस पर कोर्ट ने कहा, ‘क्या आपको लगता है कि हम परिणाम पर रोक लगाएंगे? हम देखेंगे कि क्या करना है?’ यूनियन पब्लिक सर्विस कमिशन की परीक्षा के अभ्यर्थी आशिता चावला, जिसने यह याचिका दायर की है, जिसने कोर्ट में दावा किया है कि यूनियन पब्लिक सर्विस की प्रारंभिक परीक्षा में ‘दो प्रश्न’ ‘गलत’ थे.

उसने पीठ से कहा, ‘यह निर्धारित करने के लिए नियम हैं कि क्या प्रश्न गलत थे? परिणाम की अभी घोषणा होनी है. यह किसी भी दिन घोषित हो जाएगा.’ पीठ ने कहा कि उसकी याचिका को जनहित याचिका नहीं माना जा सकता है क्योंकि वह अपनी निजी हैसियत से ही शिकायत लेकर आई हैं.

यूनियन पब्लिक सर्विस आयोग ने 18 जून को सिविल सर्विस के लिए प्रारंभिक परीक्षा आयोजित की थी. इस परीक्षा में वस्तुनिष्ठ किस्म के दो प्रश्न पत्र होते हैं और इनके अधिकतम 400 अंक होते हैं.

याचिका में दावा किया गया है कि इस साल की प्रारंभिक परीक्षा के प्रश्न पत्र में ऐसे प्रश्न जिनके कई जवाब थे और इनमें से अलग-अलग तरह से कई जवाब दिए जा सकते थे.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi