S M L

इसरो ने लॉन्च किया एशिया सैटेलाइट, भारत का सार्क देशों को तोहफा

यह प्रक्षेपण श्रीहरिकोटा के सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से किया गया

FP Staff Updated On: May 05, 2017 07:28 PM IST

0
इसरो ने लॉन्च किया एशिया सैटेलाइट, भारत का सार्क देशों को तोहफा

भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी इसरो ने शुक्रवार शाम 4:57 बजे साउथ एशिया सेटेलाइट लॉन्च किया. यह प्रक्षेपण श्रीहरिकोटा के सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से किया गया. इस सैटेलाइट का नाम जीसैट-9 है.

ये प्रोजेक्ट भारत का महत्वाकांक्षी प्रोजेक्ट है. भारत की ओर से उसके दक्षिण एशियाई पड़ोसी देशों के लिए उपहार माना जा रहा है. इस सैटेलाइट के प्रक्षेपण से सार्क देशों के बीच संपर्क को बढ़ावा मिलेगा.

इस भूस्थिर संचार उपग्रह का निर्माण इसरो ने किया है. इस उपग्रह को इसरो का रॉकेट जीएसएलवी एफ-09 से लॉन्च किया है.

सार्क देशों को मिलेगा फायदा

आठ सार्क देशों में से सात भारत, श्रीलंका, भूटान, अफगानिस्तान, बांग्लादेश, नेपाल और मालदीव इस प्रोजेक्ट का हिस्सा हैं. पाकिस्तान इस प्रोजेक्ट में शामिल नहीं है.

इस उपग्रह की लागत करीब 235 करोड़ रुपये है और इसका उद्देश्य दक्षिण एशिया क्षेत्र के देशों को संचार और आपदा सहयोग मुहैया कराना है. 2,230 किलो का यह उपग्रह पूरी तरह संचार उपग्रह है और इसके लिए भारत किसी भी देश से कोई शुल्क नहीं लेगा.

जीसैट को चेन्नई से करीब 135 किलोमीटर दूर श्रीहरिकोटा स्थित सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र के दूसरे लांचिंग पैड से लॉन्च किया गया. इसरो ने बताया कि जीसैट-9 मिशन के ऑपरेशन का 28 घंटे का काउंटडाउन बृहस्पतिवार दोपहर 12:57 बजे शुरू हुआ. इसका मिशन लाइफटाइम 12 साल का है.

सार्क सम्मेलन में पीएम ने किया था घोषणा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2014 में नेपाल में हुए सार्क सम्मेलन में साउथ एशिया सैटेलाइट प्रोजेक्ट की घोषणा की थी. पाकिस्तान को छोड़कर बाकी 7 देशों ने इस प्रोजेक्ट में रुचि दिखाई थी.

पिछले मन की बात कार्यक्रम में मोदी ने घोषणा की थी कि साउथ एशिया लॉन्चिंग के लिए तैयार है. और हम फिर अंतरिक्ष में एक नया इतिहास रचने जा रहे हैं.

मोदी ने कहा था, 'पांच मई को भारत दक्षिण एशिया उपग्रह का प्रक्षेपण करेगा. इस परियोजना में भाग लेने वाले देशों की विकासात्मक जरुरतों को पूरा करने में इस उपग्रह के फायदे लंबा रास्ता तय करेंगे.

लॉन्च के बाद पीएम मोदी ने कहा ऐतिहासिक क्षण 

सैटेलाइट की लॉन्चिंग के बाद पीएम मोदी ने सार्क देशों के 6 राष्ट्राध्यक्षों को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए संबोधित करते हुए इसे ऐतिहासिक क्षण कहा.

पीएम ने सैटेलाइट लॉन्चिंग में लगे वैज्ञानिकों को बधाई दी. पीएम ने कहा कि इस लॉन्चिंग के बाद सार्क देश एक-दूसरे के करीब आएंगे.

पीएम ने कहा कि इस लॉन्च के बाद हमारी दोस्ती बढ़ेगी. पीएम ने कहा कि मैं अफगानिस्तान, बांग्लादेश, भूटान, नेपाल, मालदीव और श्रीलंका के साथी नेताओं का स्वागत करता हूं.

पीएम मोदी ने कहा कि दक्षिण एशिया के देश एक संयुक्त परिवार की तरह हैं. हम लोग एक साथ मिलकर इस क्षेत्र की और पूरी मानवता के शांति, प्रगति और समृद्धि के लिए काम करेंगे.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi