विधानसभा चुनाव | गुजरात | हिमाचल प्रदेश
S M L

इलाज के दौरान संघ कार्यकर्ता की मौत के बाद अस्पताल में तोड़फोड़

राठौर के परिजनों ने इलाज में गंभीर लापरवाही का आरोप लगाया है.

Bhasha Updated On: Apr 01, 2017 06:23 PM IST

0
इलाज के दौरान संघ कार्यकर्ता की मौत के बाद अस्पताल में तोड़फोड़

आरएसएस के 41 वर्षीय कार्यकर्ता की मौत के बाद गुस्साए परिजनों ने बीती रात  एक निजी अस्पताल में तोड़फोड़ की. मृतक कैंसर से पीड़ित था. परिवार का आरोप है कि इलाज में बरती गई लापरवाही की वजह से संघ कार्यकर्ता की जान गई.
तुकोगंज पुलिस थाने के प्रभारी दिलीप सिंह चौधरी ने पीटीआई भाषा को बताया कि कैंसर से पीड़ित संघ कार्यकर्ता हिम्मतसिंह राठौर को तीन दिन पहले गोकुलदास हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था और उनकी सर्जरी की गयी थी. लेकिन कल दोपहर में उनकी मौत हो गयी.
चौधरी ने बताया कि राठौर के परिजनों ने इलाज में गंभीर लापरवाही का आरोप लगाते हुए कल रात अस्पताल में कांच के दरवाजों और अन्य सामान को नुकसान पहुंचाया.

उन्होंने बताया कि इस तोड़फोड़ को लेकर अस्पताल प्रबंधन ने पुलिस को शिकायत पत्र के साथ सीसीटीवी फुटेज सौंपा है. पुलिस इसकी जांच कर रही है.

पुलिस के अनुसार, 'हम सीसीटीवी फुटेज के आधार पर अस्पताल में तोड़फोड़ करने वाले लोगों की पहचान की कोशिश कर रहे हैं. मामले में जल्द उचित कदम उठाया जायेगा.'

इस बीच, संघ के स्थानीय प्रवक्ता सागर चौकसे ने कहा कि सर्जरी के बाद राठौर की हालत बिगड़ने के बावजूद दो घंटे तक अस्पताल का कोई भी डॉक्टर उनके इलाज के लिये नहीं पहुंचा और इस घोर लापरवाही के कारण उन्होंने दम तोड़ दिया.

उन्होंने मांग की कि पुलिस को संघ कार्यकर्ता के इलाज में लापरवाही बरतने वाले सभी संबंधित चिकित्सा कर्मियों के खिलाफ मामला दर्ज करना चाहिये.

चौकसे से इस बात को खारिज किया कि अस्पताल में तोड़फोड़ की घटना में संघ कार्यकर्ताओं की कोई भूमिका है.

उन्होंने कहा, 'संघ कार्यकर्ताओं ने तो मौके पर जाकर हालात को संभाला और राठौर के उग्र परिजन को शांत किया.'

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi