S M L

लॉकरों में रखे सामान गायब तो बैंक की जिम्मेदारी नहीं : आरबीआई

बैंक से मुआवजे की उम्मीद मत कीजिए क्योंकि लॉकर संधि उन्हें सभी देनदारियों से मुक्त करती है

Bhasha | Published On: Jun 25, 2017 10:59 PM IST | Updated On: Jun 25, 2017 10:59 PM IST

0
लॉकरों में रखे सामान गायब तो बैंक की जिम्मेदारी नहीं : आरबीआई

अगर सार्वजनिक क्षेत्र के किसी बैंक के लॉकर में आपका जमा कीमती सामान गायब हो जाता है या वो चोरी हो जाती है तो बैंक की इसमें कोई जिम्मेदारी नहीं बनती. इसके लिए बैंक से मुआवजे की उम्मीद मत कीजिए क्योंकि लॉकर संधि उन्हें सभी देनदारियों से मुक्त करती है.

आंखें खोल देने वाली यह कड़वी हकीकत आरटीआई आवेदन पर भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) और सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के जवाब में सामने आई है.

इस खुलासे से हैरान आरटीआई आवेदक अब भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग चला गया है. उसने लॉकर सुविधा के मामले में बैंकों के बीच गुटबंदी और गैर प्रतिस्पर्धात्मक रवैया अपनाने का आरोप लगाया है.

उसने आयोग से कहा कि आरटीआई आवेदन के जवाब में रिजर्व बैंक ने कहा कि 'उसने इस बारे में कोई साफ दिशा-निर्देश जारी नहीं किया है. न ही उसने ग्राहक को पहुंचे नुकसान के मूल्यांकन के लिए कोई मानक तय किया है.' उधर, सभी बैंकों ने भी अपनी जिम्मेदारी से पल्ला झाड़ लिया है.

BankLocker

बैंक का ग्राहकों से संबंध मकान मालिक और किराएदार जैसा

मिली सूचना के मुताबिक 19 बैंकों ने जो कारण गिनाया है उसके अनुसार लॉकर के संबंध में ग्राहकों के साथ उनका संबंध मकान मालिक और किराएदार जैसा ीrbहै. इन बैंकों में बैंक ऑफ इंडिया, ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स, पंजाब नेशनल बैंक, यूको बैंक , केनरा बैंक आदि शामिल हैं.

बैंकों ने दलील दी कि ऐसे संबंध में किराएदार बैंक के लॉकर में रखे अपनी कीमती सामान के लिए जिम्मेदार हैं. कुछ बैंकों ने लॉकर लेने संबंधी करार में यह साफ किया कि लॉकर में रखा गया कोई भी सामान ग्राहक के अपने जोखिम पर है तथा वह उनका बीमा करा सकता है.

जवाब से असंतुष्ट वकील कुश कालरा ने आयोग से कहा कि लॉकर के लिए बैंक को किराया देने के बजाय बेशकीमती वस्तुओं को बीमा कराकर घर में क्यों न रखा जाए. जब वह इन सामानों की जिम्मेदारी लेने को ही तैयार नहीं है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi