S M L

राष्ट्रपति चुनाव 2017: रामनाथ कोविंद को जब शिमला के राष्ट्रपति निवास में घुसने नहीं दिया गया

शिमला के ‘द रिट्रीट बिल्डिंग’ में राष्ट्रपति छुट्टियां बिताने जाते हैं

FP Staff | Published On: Jun 20, 2017 02:50 PM IST | Updated On: Jun 20, 2017 02:54 PM IST

राष्ट्रपति चुनाव 2017: रामनाथ कोविंद को जब शिमला के राष्ट्रपति निवास में घुसने नहीं दिया गया

यह बहुत ही दिलचस्प है कि जो रामनाथ कोविंद आज राष्ट्रपति पद के सबसे सशक्त उम्मीदवार माने जा रहे हैं, उन्हें सिर्फ तीन हफ्ते पहले ही शिमला के राष्ट्रपति निवास ‘द रिट्रीट बिल्डिंग’ में जाने की इजाजत नहीं दी गई थी.

भारत के राष्ट्रपति यहां गर्मी की छुट्टियां बिताने के लिए आते हैं. यह भवन गर्मी की छुट्टियों के दौरान राष्ट्रपति भवन के रूप में काम करता है. यह रिट्रीट शिमला से करीब 14 किमी दूर संरक्षित वन इलाके में है. वर्तमान राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी अक्सर यहां छुट्टियां बिताने के लिए आते रहते हैं. हालांकि राष्ट्रपति चुनावों की वजह से इस बार वे शिमला नहीं आए.

इंडियन एक्सप्रेस में छपी खबर के मुताबिक रामनाथ कोविंद बतौर बिहार के राज्यपाल 28 से 30 मई तक हिमाचल प्रदेश के राज्यपाल देवव्रत आचार्य के मेहमान थे. वे हिमाचल प्रदेश के राजभवन में ठहरे हुए थे.

इस वजह से नहीं मिली इजाजत 

राजभवन के सूत्रों के अनुसार 29 मई को कोविंद जंगल के बीच में स्थित शिमला के प्रसिद्ध झील सियोग को देखने के लिए गए थे. वापसी में लौटते हुए कोविंद ‘द रिट्रीट’ को देखना चाहते थे लेकिन इस भवन से करीब 5 किमी की दूरी पर तैनात कर्मचारी ने उन्हें घुसने की इजाजत नहीं दी. इस जगह को देखने के लिए या आने-जाने के लिए राष्ट्रपति भवन से इजाजत लेनी होती है. कोविंद ने ऐसी कोई भी इजाजत राष्ट्रपति भवन से नहीं ली थी.

इस घटना पर हिमाचल प्रदेश के राज्यपाल के सलाहकार शशिकांत शर्मा ने कहा कि कोविंद ने इस बात का बुरा नहीं माना कि उन्हें वहां जाने की इजाजत नहीं मिली. शर्मा ने यह भी कहा कि कोविंद उनसे दुबारा वहां जाने के लिए जरूरी इंतजाम करने को कहा.

इसे नियति का खेल ही कहा जा सकता है कि जिस जगह रामनाथ कोविंद को जाने की इजाजत नहीं मिली उस जगह ने आने वाले दिनों में वे सर्वेसर्वा हो सकते हैं.

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi