विधानसभा चुनाव | गुजरात | हिमाचल प्रदेश
S M L

NCERT: अब बच्चों को बताएगा क्या होता है गुड टच और बैड टच

एनसीईआरटी के डॉयरेक्टर ऋषिकेश सेनापथी ने कहा है एनसीईआरटी की सभी किताबों में कवर पेज के पीछे बैड टच और गुड टच के बारे में बताया जाएगा

FP Staff Updated On: Sep 18, 2017 05:10 PM IST

0
NCERT: अब बच्चों को बताएगा क्या होता है गुड टच और बैड टच

बच्चों के साथ गलत हरकत करना अब भारी पड़ सकता है. उनकी सुरक्षा को देखते हुए एनसीईआरटी एक नई पहल शुरु करने जा रहा है. एनसीईआरटी ने फैसला लिया है कि अब किताबों के माध्यम से बच्चों को बैड टच और गुड टच के बारे में बताया जाएगा.

इससे संबंधित जानकारियां फोटो के माध्यम से बच्चों को दी जाएगी. आसान भाषा में लिखा भी जाएगा, जिससे छोटे बच्चे आसानी से समझ सकें. वहीं ऐसा कुछ होने पर कहां संपर्क करना है और किससे शिकायत करनी है, ये भी बताया जाएगा. कुछ हेल्पलाइन और काउंसलर्स के नम्बर भी छापे जाएंगे.

हाल के दिन हुए घटनाओं के बाद लिया गया फैसला 

गुरुग्राम के रायन स्कूल और दिल्ली के एक स्कूल में चपरासी द्वारा पांच साल की बच्ची से दुष्कर्म की घटना के बाद एनसीईआरटी और सीबीएसई की ओर से यह यह सब किया जा रहा है.

एनसीईआरटी के डॉयरेक्टर ऋषिकेश सेनापथी ने कहा है कि ये पहल नए सत्र से शुरु होगी. इसके तहत एनसीईआरटी की सभी किताबों में कवर पेज के पीछे बैड टच और गुड टच के बारे में बताया जाएगा. पोक्सो कानून और बाल आयोग के बारे में भी जानकारी दी जाएगी.

सीबीएसई भी जारी कर चुका है कई तरह के सर्कुलेशन 

इससे पहले सीबीएसई ने भी कई तरह के सर्कुलेशन स्कूलों को जारी किए हैं. इसके तहत स्कूलों से कहा गया है कि स्थानीय पुलिस से स्कूल परिसर और स्कूल कर्मियों का वेरिफिकेशन कराएं. उनके मानसिक स्वास्थ्य की जांच कराएं.

स्कूल परिसर और आपसपास में सीसीटीवी कैमरा लगाएं. यह सुनिश्चित करें कि वह कैमरा काम कर रहा है. तय करें कि स्कूल के सभी कर्मियों की बहाली किसी मान्यता प्राप्त एंजेसी के माध्यम से हो.

समय-समय पर स्कूल के स्टाफ को उनके दायित्व को लेकर प्रशिक्षित भी करें. साथ ही बच्चों के साथ कैसा व्यवहार करना है, इसकी जानकारी भी देना सुनिश्चित करें. पोस्को एक्ट के तहत सेक्सुअल हरामेंट सेल का गठन हर हाल में होना चाहिए.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi