S M L

इस ब्रीड के कुत्ते ने ली अपने ही केयरटेकर की जान, कई देशों में है इस पर बैन

कुत्ता किस वजह से भड़क गया था इसका अभी पता नहीं चल सका है.

FP Staff Updated On: May 01, 2017 03:49 PM IST

0
इस ब्रीड के कुत्ते ने ली अपने ही केयरटेकर की जान, कई देशों में है इस पर बैन

आपका पालतू कुत्ता भी आपकी जान का दुश्मन बन सकता है. हालांकि पालतू कुत्तों को लेकर ऐसे मामले कम ही सामने आते हैं जब वो इतने हिंसक हो जाते हैं कि अपने ही केयरटेकर की जान ले लें. लेकिन पानीपत के पलहेड़ी गांव में एक ऐसा ही मामला सामने आया है, जहां रोटविलर ब्रीड के एक कुत्ते ने अपने 52 साल के केयरटेकर की जान ले ली.

पुलिस भी खड़ी देखती रही

टाइम्स ऑफ इंडिया पर छपी खबर के मुताबिक, ये घटना रविवार सुबह पलहेड़ी गांव के एक फॉर्म हाउस की है. फॉर्म हाउस के मालिक कर्नाल के रहने वाले हरदीप सिंह है. बताया गया कि कुत्ता इतना हिंसक हो गया था कि मौके पर पहुंची पुलिस भी फॉर्म हाउस में काम करने वाले मणी राम को छुड़ा नहीं पाई. मणी राम करीब एक साल से कुत्ते की देखरेख कर रहा था. हालांकि कुत्ता किस वजह से भड़क गया था इसका अभी पता नहीं चल सका है.

कुत्ता पुलिस कस्टडी में

टाइगर नाम के तीन साल के इस कुत्ते को फिलहाल पुलिस ने अपनी कस्टडी में ले लिया है. सरदार पुलिस स्टेशन के एसएचओ, एएसपी चंदर मोहन ने कहा कि मेडिकल जांच के लिए कुत्ते को कस्टडी में लिया गया है. जबकि हमले में अपनी जान गंवाने वाले मणी राम के शव को फेरेंसिक जांच के लिए पीजीआईएमएस रोहतक भेजा गया है. हालांकि इस हमले के लिए पूरी तरह से कुत्ते को जिम्मेदार ठहराना सही नहीं होगा क्योंकि कुत्ते को सही ट्रेनिंग देना उसके केयरटेकर और मालिक की जिम्मेदारी होती है.

कई जगह है बैन रोटविलर एक एग्रेसिव ब्रीड मानी जाती है और ज्यादातर लोग इन्हें अपनी प्रॉपर्टी की सुरक्षा के लिए पालते हैं. इस ब्रीड को काफी वफादार माना जाता है. लेकिन अपने एग्रेशन के लिए ये काफी बदनाम भी है. ऐसे में इस ब्रीड की सही ट्रेनिंग होना बेहद जरूरी है. इसी के चलते यूरोप और अमेरिका के कई हिस्सों में रोटविलर को घर पर पालना बैन है. हालांकि भारत में इस ब्रीड को पालने को लेकर किसी तरह का कोई प्रतिबंध नहीं है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi