S M L

कुलभूषण जाधव की फांसी पर रोक का विश्लेषण करेगा पाकिस्तान

भारत ने जाधव की मां की अपील भी पाकिस्तान को सौंपी है

Bhasha | Published On: May 10, 2017 07:18 PM IST | Updated On: May 10, 2017 07:18 PM IST

0
कुलभूषण जाधव की फांसी पर रोक का विश्लेषण करेगा पाकिस्तान

कुलभूषण जाधव पर पाकिस्तान का दोहरा रवैया फिर से सामने आया है. इस बार पाकिस्तान अंतर्राष्ट्रीय अदालत के अधिकार क्षेत्र का ही विश्लेषण कर रहा है.

पाकिस्तान ने बुधवार को कहा कि वह भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव की मौत की सजा पर रोक लगाने के संदर्भ में अंतर्राष्ट्रीय न्याय अदालत के अधिकार क्षेत्र का विश्लेषण कर रहा है.

प्रधानमंत्री के विदेश मामलों के सलाहकार सरताज अजीज ने कहा कि पाकिस्तान अगले कुछ दिनों में बयान जारी करेगा.

अजीज ने कहा, ‘हम भारतीय याचिका और इस मामले में आईसीजे के अधिकार क्षेत्र का विश्लेषण कर रहे हैं.’

इससे पहले पाकिस्तान के रक्षा मंत्री ख्वाजा मुहम्मद आसिफ ने आरोप लगाया कि भारत अपने नागरिक कुलभूषण जाधव को सुनाई गई मौत की सजा का इस्तेमाल देश में अपने ‘राज्य प्रायोजित’ आतंकवाद से ध्यान ‘हटाने’ के लिए कर रहा है.

भारत ने गत महीने पाकिस्तान की सैन्य अदालत से जाधव को दी गई फांसी की सजा के खिलाफ आईसीजे का रुख किया था.

Kulbhushan Jadhav

तस्वीर: प्रतीकात्मक

पाकिस्तानी मीडिया ने आईसीजे के आदेश पर भारत के दावे को खारिज कर दिया. जियो टीवी ने कहा कि आईसीजे के अधिकार क्षेत्र में पाकिस्तान नहीं आता क्योंकि यह दोनों पक्षों की सहमति से ही मामले पर संज्ञान ले सकता है.

पाकिस्तान ने विएना संधि का उल्लंघन किया है

जाधव को पिछले महीने मौत की सजा सुनाई गई थी. भारत ने पाकिस्तान के खिलाफ आईसीजे का रुख करते हुए आरोप लगाया था कि पाकिस्तान ने जाधव मामले में विएना संधि का उल्लंघन किया है.

भारत ने आईसीजे में अपनी अपील में आरोप लगाया कि पाकिस्तान ने राजनयिक संबंधों पर विएना संधि का ‘घोर’ उल्लंघन किया है और उसने कहा कि जाधव का ईरान से अपहरण किया गया था जहां वह भारतीय नौसेना से सेवानिवृत होने के बाद व्यापार कर रहा था लेकिन पाकिस्तान ने उसे तीन मार्च 2016 को बलूचिस्तान से गिरफ्तार करने का दावा किया.

Passport Kulbhushan Jadhav

भारत ने पाकिस्तान को चेतावनी दी कि अगर ‘पहले से नियोजित हत्या’ की गई तो द्विपक्षीय संबंधों को नुकसान होगा और उसके परिणाम भुगतने होंगे.

अपनी अर्जी में भारत ने आईसीजे को यह भी बताया कि उसे एक प्रेस विज्ञप्ति से जाधव की मौत की सजा के बारे में पता चला.

जाधव को ‘जासूसी और विध्वंसक गतिविधियों’ के लिए मौत की सजा सुनाई गई है. भारत ने यह स्वीकार किया है कि जाधव नौसेना अधिकारी है लेकिन सरकार के साथ उसके किसी भी तरह के संबंध को खारिज कर दिया. भारत ने कहा कि जाधव का ईरान से अपहरण किया गया.

भारत ने जाधव की मां की अपील भी पाकिस्तान को सौंपी है जिसमें उसकी सजा को पलटने की प्रक्रिया शुरू करने के लिए कहा गया है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi