S M L

केंद्रीय हिंदी संस्थान के मेस में नॉन-वेज खाने पर लगी रोक

संस्थान के निदेशक नंद किशोर पांडे का कहना है कि संस्थान परिसर या हॉस्टल के कमरे में भी नॉन वेज बनाने की आजादी नहीं होगी

FP Staff Updated On: Sep 19, 2017 10:43 PM IST

0
केंद्रीय हिंदी संस्थान के मेस में नॉन-वेज खाने पर लगी रोक

चीन, अफगानिस्तान, श्रीलंका, बांग्लादेश, रूस सहित 20 से अधिक देशों के छात्र-छात्राएं आगरा स्थित केंद्रीय हिन्दी संस्थान में अब सिर्फ शुद्ध शाकाहारी खाना ही खाएंगे. खाने में उन्हें अब अंडा भी नहीं दिया जाएगा. इतना ही नहीं नागालैंड, मणिपुर और असम के छात्रों को भी दाल-चावल और रोटी-सब्जी ही दी जाएगी.

संस्थान के निदेशक नंद किशोर पांडे का कहना है कि संस्थान परिसर या हॉस्टल के कमरे में भी नॉन वेज बनाने की आजादी नहीं होगी. उन्‍होंने कहा कि यह कोई पहला फरमान नहीं है.

उनका कहना है, 'हम अपने संस्थान में सूअर, कुत्ता, बीफ नहीं बनने देंगे. हमारी मेस शुद्ध शाकाहारी है और यहां शाकाहारी खाना ही बनेगा.' गौरतलब रहे कि निदेशक ने मेस में किसी भी तरह का नॉनवेज और अंडा बनाने पर रोक लगा दी है.

हम शाकाहारी खाने का लेते हैं शपथ पत्र

निदेशक का कहना है कि वर्षों से संस्थान की मेस में ऐसा ही होता आया है. प्रवेश देते वक्त भी हम छात्रों से शपथ पत्र ले लेते हैं कि उन्हें मेस में खाने के लिए सिर्फ शुद्ध शाकाहारी खाना ही दिया जाएगा. हम मेस में किसी भी तरह का नॉनवेज बनाने की अनुमति नहीं दे सकते.

निदेशक का कहना है कि मेस छात्रों की कमेटी ही चलाती है. पहले गलत तरीके से मेस में नॉनवेज बनता रहा है. लेकिन अब ऐसा नहीं होने दिया जाएगा. ऐसा नहीं है कि जिसके मन में आया वो सूअर, कुत्ता, बिल्ली और बीफ बनाकर खा रहा है.

निदेशक ने बताया कि संस्थान की ओर से छात्र-छात्राओं को खाने के लिए कुछ नकद रुपए भी दिए जाते हैं. उस रुपए से वह संस्थान की मेस से बाहर जाकर जो चाहें खा सकते हैं. इस पर कोई रोक नहीं है.

लेकिन एनएसयूआई के वरिष्ठ पदाधिकारी अमित सिंह का आरोप है कि हॉस्टल में शाम 6 बजे से 6.30 बजे तक वॉर्डन हाजिरी लेती हैं. उसके बाद शाम 7 बजे से सुबह 6 बजे तक किसी भी छात्र-छात्रा को हॉस्टल से बाहर जाने की अनुमति नहीं होती है. ऐसे में छात्र किस वक्त बाहर जाकर खाना खाएगा.

एनएसयूआई का आरोप है कि निदेशक ने अब बात को पलटते हुए कहा है कि छात्र चाहें तो मैस में अंडा उबाल सकते हैं. लेकिन इसके लिए भी निदेशक लिखित में अनुमति देने को तैयार नहीं हैं.

निदेशक ने अंडा उबालने की बात कही लेकिन अनुमति देने से इंकार कर दिया.

(न्यूज़18.कॉम पर नासिर हुसैन की स्टोरी)

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi