S M L

फांसी के डर से निर्भया के हत्यारे डिप्रेशन में गए

दिल्ली में 16 दिसंबर गैंगरेप मामले के दोषी फांसी की सजा सुनाए जाने के बाद से सदमे में जी रहे हैं

Bhasha | Published On: May 12, 2017 11:15 AM IST | Updated On: May 12, 2017 11:15 AM IST

फांसी के डर से निर्भया के हत्यारे डिप्रेशन में गए

दिल्ली में 16 दिसंबर गैंगरेप मामले के दोषियों को फांसी की सजा सुनाए जाने के बाद से वो सदमे में हैं. जबकि उनके वकील सुप्रीम कोर्ट में दायर पुनर्विचार याचिका पर भरोसा जता रहे हैं.

देश की सर्वोच्च न्यायलय 5 मई को अपने फैसले में सभी दोषियों को उनकी इस हैवानियत के लिए फांसी की सजा सुना चुका है. जबकि उच्च न्यायलय ने भी 13 मार्च 2014 को इन सभी आरोपियों को फांसी की सजा सुनाई थी.

दोषी मुकेश के वकील एम एल शर्मा ने जानकारी दी कि वो अगले हफ्ते सुप्रीम कोर्ट में इस मामले में पुनर्विचार याचिका दायर करेंगे. जबकि अन्य दोषियों के वकील एपी सिंह ने कहा कि उन्हें याचिका दायर करने में अभी थोड़ा वक्त लगेगा.

तिहाड़ के एक सूत्र ने बताया की चारों आरोपी सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद से इस कदर सदमे में हैं कि उनकी तिहाड़ जेल के अधिकारियों  द्वारा काउंसलिंग कराई जा रही.

क्या था मामला

दिल्ली में 16 दिसंबर 2012 की रात एक चलती बस में पैरा-मेडिकल की एक छात्रा के साथ गैंगरेप हुआ. उसे और उसके साथी के साथ बुरी तरह हिंसा भी हुई. अपराधी उन्हें महिपालपुर में घायल छोड़कर भाग निकले और कुछ दिनों बाद लड़की की मौत हो गई. इस  मामले के सभी आरोपियों को पकड़ लिया गया- राम सिंह, मुकेश सिंह, विनय शर्मा, अक्षय ठाकुर, पवन गुप्ता और एक नाबालिग को गिरफ्तार किया गया.

मुख्य आरोपी राम सिंह ने कुछ दिन बाद जेल में ही कथित तौर पर फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली. नाबालिग अपराधी को जुवेनाइल कोर्ट से तीन साल की सजा सुनाई गई.

बाकी चार आरोपियों पर मुकदमा चला और पहले ट्रायल कोर्ट और फिर हाई कोर्ट ने फांसी की सजा सुनाई और अब सुप्रीम कोर्ट ने भी इस सजा को बरकरार रखा है.दिल को झकझोर देने वाली इस घटना की समूचे देश समेत पूरे विश्व नें भी कड़ी आलोचनी की थी.

पॉपुलर

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi