S M L

नवरात्र स्पेशल: यूपी की दिव्यांग बेटी अरुणिमा से हारा एवरेस्ट!

अरुणिमा देश की पहली दिव्यांग बेटी है जिसने एवरेस्ट को फतह किया.

Kinshuk Praval Kinshuk Praval Updated On: Mar 30, 2017 08:11 AM IST

0
नवरात्र स्पेशल: यूपी की दिव्यांग बेटी अरुणिमा से हारा एवरेस्ट!

( नवरात्र के मौके पर नवरात्र की पूजा विधि बताने या देवी की प्रार्थना के बजाय आपको मिला रहे हैं कुछ जागृत देवियों से, इन महिलाओं ने ऐसा कुछ किया है कि जो जीवन में शक्ति की मिसाल बनी हैं )

अचानक हंसती-खेलती जिंदगी में अगर कोई हादसा शरीर को अपाहिज कर दे तो बाकी जिंदगी के दिन सदियों से बीतते हैं. ये हादसा अगर किसी लड़की की जिंदगी में गुजरे तो उसके सतरंगी सपनों का संसार फीका हो जाता है.

लेकिन यूपी की एक बेटी ने अपना एक पैर गंवाने के बाद बाकी जिंदगी को बैसाखियों के हवाले करने से इनकार कर दिया.

उस लड़की ने रेलवे ट्रैक पर अपना पैर गंवाया तो उसके जुनून के आगे एवरेस्ट भी झुक कर सलाम करने लगा. नाम है अरुणिमा सिन्हा.

चार साल की उम्र में ही पिता का निधन

arunima sinha 1

एवरेस्ट चढ़ाई के दौरान अरुणिमा सिन्हा

उत्तर प्रदेश के अंबेडकरनगर जिले के एक छोटे कस्बे अकबरपुर में अरुणिमा सिन्हा अपने पूरे परिवार के साथ रहती थी. घर में अरुणिमा के अलावा एक छोटा भाई और बड़ी बहन लक्ष्मी हैं.

महज चार साल की उम्र में ही अरुणिमा के पिता का निधन हो गया था. बिना पिता के परिवार को माली हालत से जूझता देख अरुणिमा घबरा जाया करती थी.

ये भी पढ़ें: 75 साल की शार्प शूटर दादी प्रकाशो और चंद्रो की कहानी

घर की लाडली सोनू की आंखों में अपने परिवार के लिये बड़े सपने पला करते थे. अरुणिमा की मां अंबडेकर नगर में स्वास्थ्य विभाग में नौकरी करती थीं. लेकिन, सैलरी इतनी नहीं थी कि परिवार का ठीक से गुजारा हो सके.

कमजोर आर्थिक स्थिति के बावजूद मां ने बच्चों की पढ़ाई में कमी नहीं छोड़ी. लेकिन अरुणिमा का मन पढ़ाई से ज्यादा खेल में लगता था.

 

arunima-sinha-urges-akhilesh-govt-to-help-set-up-sports-academy_020613044454

अरुणिमा को बचपन से पढ़ाई से ज्यादा खेल में रुचि थी

अपने खेल के बूते ही वो फुटबॉल और वॉलीबॉल में राष्ट्रीय स्तर की खिलाड़ी बन गईं. अरुणिमा खेल के साथ नौकरी के लिये भी कोशिश कर रही थीं.

कई जगह नौकरी के लिये आवेदन किया था. एक दिन नोएडा के सीआईएसएफ में नौकरी के लिये अकेले ही जाना पड़ गया.

लेकिन अरुणिमा को नहीं मालूम था कि एक तारीख उनकी जिंदगी पर कयामत बन कर टूटने वाली है. 10 अप्रैल 2011 की रात अरुणिमा पद्मावती एक्सप्रेस में सवार हो कर लखनऊ से दिल्ली जा रही थी.

बरेली के पास ट्रेन में अकेला होने पर अरुणिमा लुटेरों के निशाने पर आ गई. लुटेरों ने अरुणिमा को लूटने की कोशिश की लेकिन कामयाब न होने पर उन्होंने अरुणिमा को चलती ट्रेन से बाहर फेंक दिया. आधी रात को हुए इस हादसे में अरुणिमा गंभीर रूप से घायल हो गई थी.

 

athlete_1304112

गांववालों ने अरुणिमा की मदद की

सुबह करीब सात बजे गांववालों को अरुणिमा रेलवे ट्रैक के किनारे पड़ी मिलीं. उन्हें नजदीक के अस्पताल में भर्ती कराया गया. वहां से फिर अरुणिमा के घर वाले उन्हें इलाज के लिये एम्स लाए.

लेकिन अस्पताल में अरुणिमा की जिंदगी बदल चुकी थी. उनकी जान बचाने के लिये आए डॉक्टरों को उनका बांया पैर काटना पड़ा.

कमजोरी को ताकत बनाया

एक खिलाड़ी की जिंदगी में इससे काला दिन क्या हो सकता था. अरुणिमा के सपनीले संसार के सपने टूट चुके थे. कभी फुटबॉल के मैदान में तो कभी वॉलीबॉल के कोर्ट पर बिजली सा नजर आने वाला जिस्म व्हील चेयर पर सिमट चुका था.

ये तय था कि बाकी पूरी जिंदगी अब कभी व्हील चेयर तो कभी बैसाखी के सहारे ही कटने वाली थी.  लेकिन एक दिन अरुणिमा ने जो फैसला किया उससे पूरा घर सकते में आ गया. अरुणिमा ने अपने परिवार से कहा कि वो इस तरह से घुट-घुट कर नहीं जी सकतीं.

वो अपाहिज जिंदगी को हराने के लिये एवरेस्ट पर चढ़ने का फैसला कर चुकी थीं. अस्पताल में बेबसी के बिस्तर पर बोझिल जिंदगी एक नई मंजिल छूने की तैयारी में जुट गई थी.

arunimachauhan-getty-0201-750

नकली पैरों के साथ एवरेस्ट की चढ़ाई

अरुणिमा के हौसलों का इनोवेटिव नाम से संस्था चलाने वाले डॉ राकेश श्रीवास्तव ने साथ दिया.

उन्होंने अरुणिमा के लिये कृत्रिम पैर बनवाया जिसके बाद अरुणिमा ने अपनी कमजोरी को ताकत में बदला.

एक कदम आगे बढ़ाया और फिर मंजिल का सफर तय होता चला गया. अरुणिमा ने माउंटेनियरिंग की प्रैक्टिस शुरू कर दी.

एक पैर के बूते एवरेस्ट को हराने की जिद अरुणिमा के भीतर आग बनकर जिंदा थी. अरुणिमा की मेहनत इतिहास रचने के लिये बेकरार थी.

arunima2-2209as-750

आखिर एक दिन वो भी आया जब अरुणिमा ने एवरेस्ट की चढ़ाई शुरु की, कोई नहीं सोच सकता था कि एक पैर के सहारे एक दिव्यांग लड़की आसमान को हराने का जज्बा लेकर एक एक कदम आगे बढ़ा रही थी.

अरुणिमा के जुनून के आगे एवरेस्ट भी छोटा नजर आ रहा था.

ये भी पढ़ें: 1050 बच्चों की मां जो श्मशान में रही और भीख से गुजारा किया

दुनिया की सबसे ऊंची चोटी पर जब अरुणिमा के कदम पड़े तो उन पलों पर उन्हें यकीन ही नहीं हो पा रहा था.

कामयाबी के आसमान पर अरुणिमा सिन्हा खड़ीं थीं. हाथों में तिरंगा लेकर अरुणिमा ने कहा– 'मैं एवरेस्ट के ऊपर हूं...मुझे कोई रोक नहीं सकता.'

arunima-getty2209-800

एवरेंस्ट पर तिरंगे के साथ अरुणिमा सिन्हा

सफेद बर्फ से ढकी पहाड़ियों और साफ नीले आसमान के बीच अरुणिमा आजाद परिंदे की मानिंद आजादी महसूस कर रही थीं.

आजादी उन सहानुभूतियों से थी...आजादी उस कमजोरी से थी....आजादी उस घुटन से थी जिसके चलते उन्हें लोग दिव्यांग की नजर से देखा करते थे.

एवरेस्ट की ऊंचाई पर पहुंच कर अरुणिमा ने अपनी तकलीफों के पहाड़ को हमेशा के लिये छोटा कर दिया.

आज अरुणिमा के कदमों पर कामयाबी का आसमान है. अरुणिमा सिन्हा देश की पहली दिव्यांग बेटी हैं जिन्होंने एवरेस्ट को फतह किया.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi