S M L

आईटी में छंटनी की खबरों को नैस्कॉम ने किया खारिज, जल्द लाएगी नई नौकरियां

प्रदर्शन के आधार पर हर साल 0.5 से 3 प्रतिशत कर्मचारियों को इधर उधर किया जाता है

Bhasha | Published On: May 18, 2017 09:34 PM IST | Updated On: May 18, 2017 09:34 PM IST

आईटी में छंटनी की खबरों को नैस्कॉम ने किया खारिज, जल्द लाएगी नई नौकरियां

इंफोर्मेशन एंड टेक्नोलॉजी इंडस्ट्री के प्रमुख संगठन नैस्कॉम ने गुरुवार को आईटी क्षेत्र में बड़े पैमाने पर छंटनियों की खबरों को खारिज करते हुए कहा कि इस साल शुद्ध आधार पर डेढ़ लाख लोगों की भर्ती की जाएगी.

हालांकि इसके साथ ही नैस्कॉम ने कहा कि आईटी पेशेवरों को आज समय के हिसाब से खुद को कुशल बनाने की जरूरत है.

पिछले कुछ सप्ताह से ऐसी खबरें आ रही हैं कि इस साल विप्रो, इन्फोसिस और कॉग्निजेंट जैसी कंपनियों द्वारा 50,000 से अधिक कर्मचारियों को बाहर का रास्ता दिखाया जाएगा.

नैस्कॉम के अध्यक्ष आर चंद्रशेखर ने कहा, ‘हम स्पष्ट तौर पर क्षेत्र में छंटनी की खबरों का खंडन करते हैं. वित्त वर्ष 2016-17 में इस क्षेत्र में 1.7 लाख नए कर्मचारी जोड़े गए, वहीं अकेले चौथी तिमाही में ही शीर्ष पांच कंपनियों ने सकल आधार पर 50,000 से अधिक नियुक्तियां कीं.’

इसके साथ ही नैस्कॉम ने जोड़ा कि कर्मचारियों को खुद को समय की जरूरत के हिसाब से कुशल बनाना होगा या फिर उन्हें हटने के लिए तैयार रहना होगा. इसकी वजह यह है कि आज दुनिया नई टेक्नोलॉजी मसलन आटोमेशन, रोबोटिक्स, विश्लेषण और साइबर सुरक्षा की ओर बढ़ रही है.

चंद्रशेखर ने कहा कि एसोसिएशन ने अपने सदस्यों से बात की है जिन्होंने आश्वासन दिया है कि उद्योग में शुद्ध रूप से नियुक्तियां जारी रहेंगी. इस साल 1.5 लाख नई नियुक्तियां की जाएंगी.

woman in office

2025 तक नए 30 लाख रोजगार के अवसर पैदा होंगे

इसके अलावा प्रौद्योगिकी स्टार्टअप, ई-कामर्स, डिजिटल इंडिया और डिजिटल भुगतान जैसे क्षेत्रों में नए अवसर पैदा हो रहे हैं. 2025 तक 30 लाख नए रोजगार के अवसर पैदा होने की उम्मीद है.

आईटी कंपनियों ने अपना वार्षिक प्रदर्शन आंकलन शुरू किया है. इस दौरान खराब प्रदर्शन करने वाले कर्मचारियों को हटाया जाता है.

चंद्रशेखर ने कहा कि आईटी कंपनियों ने कहा है कि इस साल कुछ अलग नहीं हुआ है. प्रदर्शन के आधार पर हर साल 0.5 से 3 प्रतिशत कर्मचारियों को इधर उधर किया जाता है और इस बार भी इसमें किसी तरह का बदलाव नहीं हुआ है. प्रत्येक कंपनी राइवल बने रहने के लिए इस तरह का कदम उठाती है.

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi