S M L

मुस्लिम संगठन ने गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित करने की मांग की

प्रमुख मुस्लिम संगठन जमीयत उलेमा-ए-हिंद ने भी गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित करने की मांग की है

Bhasha | Published On: May 10, 2017 08:43 PM IST | Updated On: May 10, 2017 08:43 PM IST

0
मुस्लिम संगठन ने गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित करने की मांग की

देश में गोरक्षा का मुद्दा कई बार उठ चुका है. कई मुस्लिम संगठन भी गोरक्षा की मांग कर चुके हैं. प्रमुख मुस्लिम संगठन जमीयत उलेमा-ए-हिंद ने भी गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित करने की मांग की है.

जमीयत उलेमा-ए-हिंद ने बुधवार को कहा कि सरकार कानून बनाकर गाय को ‘राष्ट्रीय पशु’ घोषित करे ताकि गोहत्या रोकने के बहाने की जाने वाली हिंसा पर रोक लग सके और समाज में भाईचारा और शांति बरकरार रहे.

जमीयत प्रमुख मौलाना सैयद अरशद मदनी ने बुधवार को कहा, ‘जगह-जगह गौरक्षक लोगों पर हमले कर रहे हैं और कई बार तो हत्याएं भी कर दी जा रही हैं. यह सब गाय की रक्षा के नाम पर हो रहा है. ऐसा लग रहा है कि इन लोगों को कानून हाथ में लेने की छूट मिली हुई है और सरकारें भी कुछ कर नहीं रहीं.’

उन्होंने कहा, ‘हम जानते हैं कि गाय के साथ धार्मिक भावना जुड़ी है और हम लोग हमेशा इसका सम्मान करते रहे हैं. जिस तरह से मोर को राष्ट्रीय पक्षी घोषित किया गया है उसी तरह कानून बनाकर गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित किया जाए. सरकार कानून बनाने के लिए आगे बढ़े. हम उसके साथ रहेंगे. ऐसा कदम उठाने से हिंसा पर रोक लग सकेगी और समाज में भाईचारा और शांति बनी रहेगी.’

cow vigilante

पीएम ने तीन तलाक पर राजनीति ना होने दें

गौरतलब है कि मंगलवार को महमूद मदनी के नेतृत्व वाले जमीयत उलेमा-ए-हिंद के धड़े ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की थी जिसमें मोदी ने उनसे कहा था कि वे तीन तलाक के मामले पर राजनीति नहीं होने दें और मुस्लिम समुदाय के लोग इसे हल करने के लिए खुद पहल करें.

असम में नागरिकता मामले का हवाला देते हुए मदनी ने आरोप लगाया, ‘एक तरफ भारत सरकार नागरिकता अधिनियम में संशोधन लाकर विभिन्न देशों से आने वाले हिंदू नागरिकों को विशेषाधिकार दे रही है और दूसरी ओर विदेशी एवं बांग्लादेशी नागरिक होने के झूठे आरोप लगाकर भारतीय नागरिकों को निर्वासित करने का प्रयास किया जा रहा है. सरकार की तरफ से धर्म और भाषा के नाम पर पक्षपातपूर्ण रवैया अपनाया जा रहा है.’

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi